बिहार : अनेकता में एकता हमारे संविधान का भी मूलमंत्र : डेरिक - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 6 नवंबर 2020

बिहार : अनेकता में एकता हमारे संविधान का भी मूलमंत्र : डेरिक

"सर्व धर्म सम्मान से ही होगा मेरा देश महान", जय माँ भारती...

unite-india-by-costitution
पटना. अनेकता में एकता हमारे संविधान का भी मूलमंत्र है.रोमन कैथोलिक डेरिक लौरेंस कहते हैं कि मैं पूजन पद्धति तो अपने धर्म ईसाई के अनुसार करते ही हैं, जो उचित और आवश्यक है.उन्होंने स्पष्ट किया कि दूसरे धर्म का भी सम्मान करने से हम भारतवासी प्रेम के एकसूत्र में बंधते एवम बांधते हैं। "सर्व धर्म सम्मान से ही होगा मेरा देश महान", जय माँ भारती। रोमन कैथोलिक डेरिक लौरेंस कहते हैं कि कलाकार की कला और पत्रकार की पत्रकारिता को धर्म विशेष,पार्टी से प्रभावित और न ही दोस्त से दोस्ती,दुश्मन से दुश्मनी होती है। वह अपने आप में एक सबसे बड़ा धर्म है। जो सभी जातीय भेद भाव मिटा देती है। मैंने lent के समय भी एक गीत बनाया था जिसको आपने भी सराहा था और मेरा उत्साहवर्धन किया था। अभी मेरा मकसद "सर्व धर्म सम्मान है"। रोमन कैथोलिक डेरिक लौरेंस कहते हैं कि गत वर्ष पवित्र महाछठ पर्व के अवसर पर छठी मइया पर video जारी किये थे।उस पर आपने काफी कुछ लिख ही दिया था। हजारों लोगों ने मुक्तकंठ से प्रशंसा की थी।इससे प्रोत्साहित होकर द्वितीय बार वीडियों जारी किये हैं।Once again SV Films comes with a presentation for you"A legend of the Great Chhat Festival" based upon the believe "स्वधर्म पूजन, सर्व धर्म सम्मान"।https://youtu.be/Et-CwH9d1Wk जो इन दिनों धमाल मचा रहा है।इस साल महाछठ का कार्यक्रम है।

कोई टिप्पणी नहीं: