दीघा विधानसभा में जोरदार ढंग से जनसम्पर्क जारी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 1 नवंबर 2020

दीघा विधानसभा में जोरदार ढंग से जनसम्पर्क जारी

caimpaign-digha
पटना. बिहार विधानसभा का द्वितीय चरण का चुनाव 03 नवम्बर को है। दीघा विधानसभा में 18 प्रत्याशी हैं।सभी प्रत्याशी जोरदार ढंग से जनसम्पर्क व नुक्कड़ सभा कर रहे हैं।महागठबंधन की सीपीआई माले की प्रत्याशी शशि यादव नौका विहार कर रही हैं।नौका विहार करने के दरम्यान लोग झारखंडी गीत भी गाते चल रहे हैं।उनको गंगा-सोन नदी पार करके नकटा दियारा जाना पड़ता है।वहीं दीघा विधानसभा का प्रत्याशी संजीव चौरसिया के समर्थन में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भी चुनाव प्रचार करने उतर गयी थीं।  ए.जी. कॉलोनी नलकूप भवन के समीप आयोजित नुक्कड़ सभा में माननीय केंद्रीय मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी जी का NDA के पक्ष में जोरदार संबोधन बिहार में लगातार चुनाव प्रचार कर रहीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भी बुधवार को कोरोना पॉजिटिव हो गईं। भाजपा नेत्री ने ट्वीट कर कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी साझा की। स्मृति ईरानी हफ्तेभर से लगातार एनडीए प्रत्याशियों के पक्ष में तीन-चार चुनावी सभाएं, रोड शो और टाउन हॉल मीटिंग कर रहीं थीं। अहम यह है कि कुम्हरार विधायक अरूण सिन्हा भी कोरोना संक्रमित होने के बाद भी चुनाव प्रचार कर रहे हैं। वे घर-घर जाकर वोट मांग रहे हैं। वीआइपी के प्रमुख मुकेश सहनी भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि मैं कोरोना संक्रमित पाई गई हूं। इसकी घोषणा करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं। आगे लिखा कि बीते कुछ दिनों में जितने भी लोग मेरे करीब आए हैं, वे अपना जांच जरूर करा लें और खुद को क्वारंटाइन कर लें। स्मृति ने पटना में दीघा विधानसभा क्षेत्र में सभा को संबोधित किया। 181, दीघा विधानसभा क्षेत्र से महागठबंधन प्रत्याशी कॉ. शशि यादव जी के समर्थन में समनपुरा, पटना में पहुँचे मशहूर शायर व कांग्रेस नेता इमरान प्रतापगढ़ी जनसभा को संबोधित करते हुए।एनडीए हराओ-बिहार बचाओ! जनता की दावेदारी आगे बढ़ाओ!!

न शिक्षा-स्वास्थ्य, न आवास-रोजगार!बदलो सरकार, बदलो बिहार!!एनडीए हराओ-बिहार बचाओ!

महागठबंधन को विजयी बनाओ!!चुनाव चिन्ह झंडा पर तीन तारा पर वोट देकर!भाकपा-माले को विजयी बनाओ!!महागठबंधन को विजयी बनाओ!!! निदर्लीय प्रत्याशी शुभम कुमार जनसंपर्क अभियान चला रहे हैं।उन्होंने कहा कि राजीव नगर रोड नंबर 14 का हाल भी देख लीजिए। जहां पर वर्तमान सरकार खूब जोर शोर से ताल ठोक दी है विकास के नाम का l आंख फाड़-फाड़ कर देख लीजिए अगर यह सरकार फिर से आई तो और नाला गड्ढा बनेगा। 5 साल के बाद  और पानी घर में घुसेगा lशुभम कुमार का निशान बल्ला है। 

विकास है तभी तो विश्वास है को मुद्धा बनाकर भारतीय पार्टी लोकतांत्रिक के प्रत्याशी

विकास चंद्र उर्फ गुड्डू बाबा मैदान में डटे हैं।लोक अधिकार की बात करने वाले ईमानदार व्यक्ति के लिए राजनीति उचित स्थान नहीं यह हम नहीं कह रहे दीघा विधानसभा क्षेत्र के लोग कह रहे हैं जहां से बांसुरी छाप पर बिहार के सबसे ईमानदार व्यक्ति का तगमा माननीय पटना उच्च न्यायालय से पा चुके विकास चंद उर्फ गुड्डू बाबा चुनाव लड़ रहे हैं।गुड्डू बाबा के जनहित याचिका का परिणाम ही है कि गंगा में लावारिस लाश से फेंकने पर रोक लग गई गंगा में अब आप किसी भी तरह के कचरे को नहीं डाल सकते राजधानी के सभी इलाकों से अतिक्रमण हटाया गया हजारों एकड़ सरकारी भूमि बिहार में दबंगों से खाली करवाई गई सरकारी हॉस्पिटलों में आम आदमी को भोजन हुआ दवाइयां मिलने लगी।गुड्डू बाबा ने न्यायालय में अपना स्वरूप दिया है कि उनके पास ₹1 भी बैंक अकाउंट में नहीं है एक धुर जमीन नहीं है उन्होंने अपना शरीर तक रिसर्च के लिए दान कर रखा है साधारण इंसान हैं पर असाधारण काम करते हैं इस बार लोगों के कहने पर दीघा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं।बांसुरी छाप चुनाव चिन्ह है जहां दूसरे प्रत्याशी गाड़ियों के काफिले और भीड़ के साथ चुनाव प्रचार कर रहे हैं वहीं बाबा उनकी पत्नी घर-घर जाकर लोगों को समझा रहे हैं कि लोकतंत्र में एक-एक वोट का महत्व है एक-एक मतदाता अगर चाहे तो उसका विधायक एक ईमानदार और स्वच्छ छवि का व्यक्ति हो सकता है। मोदी है तो मुमकिन है की तरह दी प्लुरल्स की प्रत्याशी शांभवी है तो संभव है। वह कहती हैं कि कमला नेहरू स्लम में गई थी। लोग बगावत पर उतर चुके हैं। अब शांत नहीं होंगे। महामारी के वक़्त सरकार ने इन्हें भूखा छोड़ दिया। 30 सालों से घर का पीने के पानी का, स्नानागार का, शौचालय का इंतज़ार कर रहे हैं। इनके लिए ना रोटी है, ना कपड़ा, ना मकान! सरकार के लिए महज एक वोट बैंक। वक़्त है इन्हें घर देने का, इज़्जत की ज़िन्दगी देने का। 

कोई टिप्पणी नहीं: