एक हजार से अधिक प्रख्यात भारतवंशी बाइडेन-हैरिस के समर्थन में आए - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 3 नवंबर 2020

एक हजार से अधिक प्रख्यात भारतवंशी बाइडेन-हैरिस के समर्थन में आए

indian-origin-in-biden-fabour
न्यूयार्क, दो नवंबर, व्हाइट हाउस के लिए दौड़ के अंतिम पड़ाव पर पहुंचने के साथ ही एशियाई-भारतीय समुदाय के 1,100 से अधिक जाने माने लोगों ने डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन और उप राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार कमला हैरिस के प्रति समर्थन जताया है। इन समर्थकों में भारतीय-अमेरिकी निर्वाचन अधिकारी, कलाकार, व्यवसाय एवं समुदाय के नेता शामिल हैं। बाइडेन और हैरिस का समर्थन करने वाले एशियन अमेरिकन्स ऐंड पेसिफिक आइलैंडर्स (एएपीआई) की सूची में देशभर से सभी पृष्ठभूमि और विभिन्न समुदायों के एएपीआई नेता हैं। इससे पहले जुलाई 2020 में 250 एएपीआई समर्थकों की सूची जारी की गई थी। डेमोक्रेटिक नेशनल कमेटी में एएपीआई कॉकस चेयर बेल लेआंग हांग जिन्होंने उक्त सूची बनाई, उन्होंने कहा, ‘‘इससे पहले कभी एएपीआई समुदाय राष्ट्रपति चुनाव में इस एकजुटता और उत्साह के साथ शामिल नहीं हुआ।’’उन्होंने कहा, ‘‘हम करीब 20 विविध नस्लों के समूहों से बने हैं। लेकिन हैरिस और बाइडेन के समर्थन को लेकर हम एक हैं ताकि जो गड़बड़ी ट्रंप ने फैलाई है उससे देश और दुनिया को बाहर निकालें।’’ लेआंग हांग ने कहा कि सूची में शामिल लोग भिन्न आयुवर्ग के, अलग-अलग भाषा बोलने वाले, भिन्न संस्कृति और विरासत से हैं लेकिन ‘‘बेहतर भविष्य के लिए सभी की उम्मीदें और सपने एक हैं।’’बाइडेन के अभियान की ओर से शनिवार को एक वीडियो जारी किया गया था जिसमें जानी मानी एएपीआई शख्सियतें बाइडेन और हैरिस के प्रति अपना समर्थन जता रही थी और अमेरिकी जनता से मतदान की अपील कर रही थीं।बाइडेन और हैरिस के समर्थकों की सूची में कांग्रेस सदस्य राजा कृष्णमूर्ति और एमी बेरा, प्रमिला जयपाल, अमेरिकी विदेशी विभाग की पूर्व अधिकारी निशा देसाई बिस्वाल आदि शामिल हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: