सिंधू ने कहा ‘रिटायर’ और फ़ैल गयी सनसनी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 3 नवंबर 2020

सिंधू ने कहा ‘रिटायर’ और फ़ैल गयी सनसनी

sindhu-retire
नई दिल्ली 02 नवम्बर, ओलंपिक रजत पदक विजेता और विश्व चैंपियन बैडमिंटन स्टार पी वी सिंधू ने सोमवार को एक ट्वीट करते हुये ‘रिटायर’ शब्द का इस्तेमाल कर सनसनी फैला दी। सिंधू ने ट्विटर और इंस्टाग्राम पर जैसे ही ‘रिटायर’ शब्द का इस्तेमाल किया, खेल क्षेत्रों में अचानक सनसनी फैल गयी कि उन्होंने संन्यास का एलान कर दिया है लेकिन सिंधू ने तुरंत बाद ही एक लंबे बयान में साथ ही स्पष्ट किया कि उन्होने खेल को नहीं छोड़ा है बल्कि कोरोना के कारण देश में उपजे हालात और नकारात्मक परिस्थितियों से संन्यास लिया है। ओलंपिक पदक विजेता ने साथ ही कहा कि वह अगले साल जनवरी में एशिया ओपन टूर्नामेंट से खेल में जबरदस्त वापसी करेंगी। उल्लेखनीय है कि सिंधू हाल में लंदन चली गयी थी जिसके बाद यह खबरें उड़ीं थी कि उनकी अपने परिवार और राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद के साथ अनबन हो गयी है लेकिन सिंधू ने स्पष्ट किया था कि अनबन जैसी कोई बात नहीं है और वह अपनी ट्रेनिंग और फिटनेस को लेकर लंदन आयी हैं। सिंधू ने अपनी पोस्ट में सबसे पहले बड़े-बड़े शब्दों में लिखा- मैं संन्यास ले रही हूं, डेनमार्क ओपन आखिरी था। सिंधू का यह कहना था कि खेल जगत में अचानक ही सनसनी फ़ैल गयी और सोशल मीडिया पर उनके संन्यास को लेकर संदेशों की बाढ़ आ गयी लेकिन फिर उन्होंने लगातार ट्वीट कर स्पष्ट किया कि प्रशंसक रिटायर शब्द को देखकर किसी उलझन में न पड़ें। उन्होंने फिर समझाया कि उन्होंने नकारात्मकता से संन्यास लिया है, खेल से नहीं। उन्होंने कोरोना वायरस को लेकर विस्तार से लिखा कि किस तरह इससे उनका जीवन प्रभावित हुआ है। सिंधू ने लिखा, “ मैं अशांति के मौजूदा माहौल से संन्यास लेना पसंद करती हूं। मैं नकारात्मकता से, इससे उपजे भय के माहौल से,अनिश्चतिता से संन्यास लेना चाहती हूं। मैं अनजाने भय पर नियंत्रण की कमी से संन्यास लेना चाहती हूं। इन सबसे महत्वपूर्ण मैं घटिया स्वच्छता मानकों और वायरस के प्रति हमारे अभावपूर्ण रवैया से संन्यास लेना चाहती हूं।” उन्होंने जारी बयान में कहा, “हमें अच्छी तैयारी की जरूरत है। हम मिलकर वायरस को मात दे सकते हैं। हमें सुरंग की आखिरी छोर पर दिखने वाली मद्धिम रोशनी के बारे में आशान्वित रहना होगा। डेनमार्क ओपन नहीं हो सका लेकिन मुझे कड़े प्रशिक्षण के लिये नहीं रोक सकेगा। मैं एशिया ओपन के लिये जाऊंगी।” सिंधू ने स्वीकार किया कि उन्होंने इस सन्देश से प्रशंसकों को झटका जरुर दे दिया लेकिन साथ ही कहा कि अभूतपूर्व परिस्थितियों में अभूतपूर्व उपायों की जरूरत होती है। इस सन्देश में सावधान में रहने की जरूरत पर बल दिया गया है और साथ ही इस वायरस के प्रति उदासीन रवैया दिखाने पर नाराजगी व्यक्त की गयी है। उन्होंने अपने सन्देश का समापन करते हुए कहा कि जब कोई मुश्किलों का सामना करे तो उसे मजबूत होकर वापसी करनी चाहिए और वह अपनी ट्रेनिंग जारी रखेंगी तथा जनवरी में एशिया ओपन में वापसी करेंगी। सिंधू के रिटायर शब्द से स्तब्ध प्रशंसकों को उनकी बाद की सफाई से सांत्वना मिली कि उन्होंने खेल से संन्यास नहीं लिया है और वह जनवरी में वापसी करेंगी।  

कोई टिप्पणी नहीं: