खेल मंत्रालय ने 500 निजी अकादमियों के लिये नये आर्थिक ढांचे की घोषणा की - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 14 नवंबर 2020

खेल मंत्रालय ने 500 निजी अकादमियों के लिये नये आर्थिक ढांचे की घोषणा की

sports-ministry-annaouncement-for-sports-academy
नयी दिल्ली, 14 नवंबर, खेल मंत्रालय ने अगले चार साल में खेलो इंडिया योजना के मार्फत 500 निजी अकादमियों को आर्थिक सहायता देने के लिये नये प्रोत्साहन ढांचे की घोषणा की है । इसके तहत निजी अकादमियों को उनके खिलाड़ियों की उपलब्धियों और गुणवत्ता , कोचों के स्तर, खेल के स्तर , खेल विज्ञान सुविधाओं की उपलब्धता और स्टाफ के आधार पर अलग अलग वर्गों में बांटा जायेगा । इसके लिये 2028 ओलंपिक के लिये प्राथमिकता के तौर पर चुने गए 14 खेलों को शामिल किया गया है । खेलमंत्री किरेन रीजीजू ने कहा ,‘‘ इस तरह की संस्थाओं को सहयोग करना जरूरी है ताकि दूर दराज के इलाकों से प्रतिभाओं को तलाशा और तराशा जा सके ।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ इसके जरिये सभी अकादमियों खासकर बुनियादी ढांचा बेहतर करने की दिशा में प्रयास कर रही निजी अकादमियों को मदद मिलेगी ।’’ ओलंपिक पदक विजेता निशानेबाज गगन नारंग ने इस पर कहा ,‘‘ यह निजी अकादमियों का मनोबल बढाने की दिशा में बढ़ा कदम है ।इससे उन्हें आगे भी विश्व स्तरीय आधारभूत संरचना तैयार करने में मदद मिलेगी ।’’ गगन नारंग भी निजी अकादमी ‘गन फोर ग्लोरी’ चलाते हैं । राष्ट्रीय बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद ने सरकार और भारतीय खेल प्राधिकरण को धन्यवाद देते हुए कहा कि यह आगे की ओर बढाया गया महत्वपूर्ण कदम है ।

कोई टिप्पणी नहीं: