बड़ा मौका लेकिन खुद पर दबाव नहीं डालूंगा : रहाणे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 26 दिसंबर 2020

बड़ा मौका लेकिन खुद पर दबाव नहीं डालूंगा : रहाणे

big-chance-but-pressure-on-myself-rahane
मेलबोर्न 25 दिसंबर, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज के शेष तीन मैचों के लिए नियमित कप्तान विराट कोहली की जगह टीम की कप्तानी संभालने जा रहे अजिंक्या रहाणे ने दूसरे बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच की पूर्वसंध्या पर शुक्रवार को कहा कि टीम की कप्तानी करना उनके लिए बड़ा मौका है लेकिन वह अपने ऊपर अतिरिक्त दबाव नहीं डालेंगे। रहाणे ने दूसरे टेस्ट मैच से पहले कहा, “भारतीय टीम की कप्तानी करना निश्चित तौर पर बड़ा मौका और जिम्मेदारी है लेकिन मैं खुद को अनावश्यक दबाव में डालना नहीं चाहूंगा।” विराट की गैर मौजूदगी में रहाणे की जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ जायेगी क्योंकि उन पर पहले मैच की करारी हार का बदला लेने के साथ-साथ रन बनाने का भी दबाव होगा। उन्होंने कहा, “मैं व्यक्तिगत तौर पर शांत और विनम्र रहता हूं लेकिन मेरी बल्लेबाजी थोड़ी आक्रामक है। मैं अपना खेल खेलूंगा और कल से सबकुछ एक टीम के रूप में खेलने के बारे में है।” भारतीय टीम के नियमित कप्तान विराट दरअसल अपने पहले बच्चे के जन्म के लिए स्वदेश लौट गए हैं और शेष तीन टेस्ट मुकाबलों में टीम की कप्तानी रहाणे करेंगे। रहाणे से जब यह पूछा गया कि विराट स्वदेश लौटने से पहले टीम के लिए कोई सन्देश देकर गए हैं तो उन्होंने कहा, “पहले टेस्ट मैच के बाद एडिलेड में डिनर के दौरान विराट ने सभी खिलाड़ियों से सकारात्मक रहने और अपने मजबूत पक्ष के साथ एक इकाई के तौर पर खेलने को कहा था।” उन्होंने कहा कि वह टीम के कप्तान के बनने के बाद भी 'गली' में ही क्षेत्ररक्षण करते हुए दिखेंगे जहां वह टेस्ट मुकाबलों में पहले से फील्डिंग करते हुए आये है। उन्होंने कहा कि टीम पिछली हार को भुला चुकी है और एक इकाई के रूप में वापसी करने के लिए तैयार है। विराट की गैर-मौजूदगी में रहाणे के मजबूत कन्धों पर अतिरिक्त जिम्मेदारी आ गई है कि वह विदेशी जमीन पर अपने प्रदर्शन से टीम को वापसी के लिए प्रेरित करे। रहाणे ने दो टेस्ट मैचों में भारत की कप्तानी की है जिसमे से एक मैच अफगानिस्तान और एक मुकाबला ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ था और उन्होंने दोनों ही टीमों के खिलाफ भारत को जीत दिलाई थी। 

कोई टिप्पणी नहीं: