किसानों को 18 हजार करोड़ देना गुमराह करने की कोशिश : सुरजेवाला - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 26 दिसंबर 2020

किसानों को 18 हजार करोड़ देना गुमराह करने की कोशिश : सुरजेवाला

trying-to-mislead-farmers-congress
नयी दिल्ली 25 दिसंबर, कांग्रेस ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की किसानों को 18 हजार करोड़ रुपए स्थानांतरित करने की घोषणा खेती विरोधी तीन काले कानूनों को लागू करने का दाग धोने का नाकाम प्रयास है। कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने श्री मोदी की इस घोषणा को किसान विरोधी कानूनों से उपजे गुस्से को शांत करने की कोशिश बताया और कहा कि इस सरकार ने अब तक जो भी किसान विरोधी काम किए हैं उसका उन्हें जवाब देना देना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने किसान निधि योजना शुरू की लेकिन इसमें महज़ 9.24 करोड़ किसानों को शामिल किया है जबकि करीब 15 करोड़ किसानों को शामिल किया जाना था। उनका सवाल था कि इस निधि से करीब छह करोड़ किसानों को वंचित क्यों रखा है । कांग्रेस नेता ने कहा कि सरकार ने खाद पर पांच प्रतिशत जीएसटी लगाया है। देश में पहली बार खाद प्रकार लगाने का शर्मनाक काम हुआ है। इसी तरह से कीटनाशक दवाइयों पर 18 फीसदी जीएसटी तय किया गया है । उन्होंने कहा कि इसी तरह से यह सरकार 2016 में फसल बीमा योजना लेकर आई लेकिन उसका फायदा किसानों को नहीं हुआ। इस योजना से 2019 तक पूंजीपतियों को 26000 करोड रुपए का मुनाफा हुआ है। प्रवक्ता ने कहा कि मोदी सरकार ने किसान को कर्जमाफी से महफूज रखा है। जून 2017 में सरकार ने घोषणा की थी कि किसानों का कर्ज माफ नहीं किया जाएगा जबकि कुछ पूंजीपतियों का कर्ज माफ किया। 

कोई टिप्पणी नहीं: