सरकार को घेर रहे भाजपा नेता, नीतीश के पास जवाब नहीं : तेजस्वी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 16 दिसंबर 2020

सरकार को घेर रहे भाजपा नेता, नीतीश के पास जवाब नहीं : तेजस्वी

bjp-leader-target-nitish-cm-silent-tejaswi
पटना : बिहार में बढ़ते अपराध के कारण मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और बिहार पुलिस की लगातार किरकिरी हो रही है। मुख्यमंत्री द्वारा लगातार राज्य के कानून व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए समीक्षा बैठक कर सख्त निर्देश दिए जा रहे हैं कि पुलिस की टीम रात में भी पेट्रोलिंग करें। वहीं अपराधी अब रात के अंधेरे के बदले दिन के उजाले में भी अपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहें हैं । वहीं बढ़ते अपराध के मामले में विपक्ष के साथ-साथ सत्तारूढ़ पार्टी के नेता भी बिहार पुलिस और नीतीश कुमार पर सवालिया निशान उठा रहे हैं। इस कड़ी में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर फिर से राज्य के स्थापित कानून व्यवस्था पर जमकर हमला बोला है।


तेजस्वी यादव ने कहा है कि  डकैती, झूठ, लूट, छल, प्रपंच और फ़रेब से बनी बिहार सरकार को आज एक महीना हो गया है। सरकार में दो उपमुख्यमंत्री और सबसे अधिक मंत्री, विधायक वाली भाजपा के सांसद, विधायक और मंत्री ही प्रतिदिन अपनी लूटेरी सरकार और मुख्यमंत्री पर सवाल उठाते है। तेजस्वी ने कहा है कि हमारी सोच पढ़ाई, दवाई, कमाई, सिंचाई, सुनवाई, कारवाई और रोज़ी-रोटी और स्थाई नौकरी जैसे जनसरोकारी मुद्दों आधारित सकारात्मक राजनीति की है। इस सोच को कुर्सीवादी लोग कभी नहीं हरा पाएँगे। उन्होंने कहा है कि हम चोरी की इस नई नवेली सरकार को एक महीना और दे रहे है ताकि वो प्रदेश में फैली रिकॉर्डतोड़ बेरोजगारी को ख़त्म करने, नौजवानों और किसानों की माँगों को पूर्ण करने, प्रशासन के कण-कण में व्याप्त भ्रष्टाचार और प्रदेश के कोने-कोने में व्याप्त बेतहाशा अपराध को क़ाबू करने की दिशा में ठोस कदम उठा सके। इसके साथ ही तेजस्वी ने कहा है कि मुख्यमंत्री जी कभी भी विपक्ष के तर्कपूर्ण और तथ्यपूर्ण वाजिब सवालों का उत्तर नहीं देते,l क्योंकि उनके जवाब ही नहीं होता। इसके आगे तेजस्वी ने कहा कि अगर विपक्ष का जवाब देने में आपकी किसी प्रकार की बची-खुची प्रतिष्ठा का क्षरण होता है तो आप अपनी सरकार के सबसे बड़े सहयोगी, उनके मंत्री और जनप्रतिनिधियों की शंकाओं का लोकहित में ही जवाब दे दीजिए।

कोई टिप्पणी नहीं: