मधुबनी : कृषि कानूनों व किसानों पर बर्बर जुल्म के खिलाफ नरेंद्र मोदी का पुतला दहन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 2 दिसंबर 2020

मधुबनी : कृषि कानूनों व किसानों पर बर्बर जुल्म के खिलाफ नरेंद्र मोदी का पुतला दहन

बिहार विधानसभा चुनाव मिलकर चुनाव लड़ने वालों ने मिलकर किसान विरोधी कृषि कानूनों व किसानों पर बर्बर जुल्म के खिलाफ नरेंद्र मोदी का पुतला दहन किया। इसमें भाकपा (माले) भाकपा, माकपा व कांग्रेस शामिल है...

cpi-ml-protest-jainagar
जयनगर/मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता)  राष्ट्रव्यापी विरोध  दिवस पर  जयनगर  में  भाकपा (माले ), भाकपा,  माकपा  व कांग्रेस के द्वारा स्टेशन चौक पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंका गया। स्थल पर आयोजित सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा संविधान व लोकतंत्र की हत्या करके बनाए गए तीन किसान विरोधी कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग पर दिल्ली पहुंच रहे किसानों पर बर्बर दमन के खिलाफ आज  पूरे देश में विरोध दिवस का आयोजन किया है।  कई दिनों से दिल्ली की सीमा को किसानों ने चारों तरफ से घेर रखा है। ऐसा लगता है कि देश की मोदी सरकार किसानों से जंग लड़ रही है।किसानों का यह गुस्सा अचानक नहीं फूटा। जिस प्रकार से राज्यसभा में संविधान व लोकतंत्र की हत्या करके इन तीनों कानूनों को पारित करवाया गया, उसने किसानों के अंदर संचित गुस्से का विस्फोट कर दिया है। आज इन कानूनों के खिलाफ पूरे देश के किसान आंदोलित हैं।तीनों काले कानूनों पर किसानों का पक्ष पूरी तरह सही है। उनका कहना पूरी तरह जायज है कि ये काूनन खेती व किसानी को चौपट कर कारपोरेटों का गुलाम बनाने वाली नीतियां हैं।आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत आलू-प्याज जैसे आवश्यक वस्तुओं की जमाखोरी और कालाबाजारी नहीं हो सकती थी, लेकिन अब उसका दरवाजा खोल दिया गया है। अब पूंजीपति सस्ते दर पर किसानों का सामान खरीदेंगे और और फिर महंगा बेचेंगे।उन्हें मुनाफा कमाने की छूट मिल गई है। किसानों की मांग थी कि सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य की गांरटी करे। खेती के लागत का डेढ़ गुनी कीमत तय करने की सिफारिश स्वामीनाथन आयोग ने की थी। लेकिन सरकार उसे केवल कागज पर लागू कर रही है, जमीन पर वह कहीं लागू नहीं है।यह किसानों के साथ बड़ा धोखा है। सभा को भाकपा माले प्रखंड सचिव भूषण सिंह, भाकपा के अंचल मंत्री रामचंद्र पासवान, माकपा DYFI के बिहार राज्य सचिव शशि भूषण प्रशाद, कांग्रेस प्रखंड अध्यक्ष रामचंद्र शाह भाकपा (माले) के  तस्लीम, विजय राय, मो0 आदिल ,अब्दुल वहाब, तैयब रेन,माकपा के अलीहसन, सुरेश यादव, बल्ली यादव, मंजू देवी, भाकपा के वार्ड पार्षद शिवजी पासवान, रामाशीष राम, वकील बैठा, सूरज ठाकुर, तेतर यादव कांग्रेस के सुरेंद्र महतो, मो0 चांद सहित कई लोगों ने भाग लिए।

कोई टिप्पणी नहीं: