देशबंधु के प्रधान संपादक ललित सुरजन नहीं रहे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 2 दिसंबर 2020

देशबंधु के प्रधान संपादक ललित सुरजन नहीं रहे

deshbandhu-editor-in-chief-lalit-surjan-passes-away
नयी दिल्ली, 02 दिसम्बर, देशबंधु समाचार समूह के प्रधान संपादक एवम् वरिष्ठ पत्रकार ललित सुरजन का बुधवार रात राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के नोएडा में निधन हो गया। वह 74 वर्ष के थे और उनके परिवार में तीन बेटियां हैं। श्री सुरजन को सोमवार शाम ब्रेन हैमरेज के कारण एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वह अस्पताल के गहन चिकित्सा कक्ष में थे। उन्होंने रात आठ बजकर छह मिनट पर अंतिम सांस ली। उनके दामाद राजीव ने यूनीवार्ता ने बताया कि श्री सुरजन का अंतिम संस्कार कल रायपुर में किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार की घोषणा की है। श्री सुरजन का पार्थिव शरीर कल रायपुर ले जाया जाएगा। श्री सुरजन गत पांच दशकों से पत्रकारिता में सक्रिय रहे। साहित्य संस्कृति में रुचि रखनेवाले श्री सुरजन हिंदी के कवि भी थे। वह रायपुर में रहते हैं। श्री सुरजन के निधन पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गहरा शोक व्यक्त किया है। श्री बघेल ने कहा कि आज छत्तीसगढ़ ने अपना एक सपूत खो दिया। सांप्रदायिकता और कूपमंडूकता के ख़िलाफ़ देशबंधु के माध्यम से जो लौ उनके पिता श्री मायाराम सुरजन ने जलाई थी, उसे श्री ललित भैया ने बखूबी आगे बढ़ाया। पूरी ज़िंदगी उन्होंने मूल्यों को लेकर कोई समझौता नहीं किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री सुरजन राजनीति पर पैनी नज़र रखते थे और लोकतंत्र में उनकी गहरी आस्था थी। उनके नेतृत्व में देशबंधु ने कई ऐसे पत्रकार दिए हैं, जिन पर छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश दोनों को गर्व हो सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं: