आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में अर्नब के खिलाफ आरोप पत्र दायर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 4 दिसंबर 2020

आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में अर्नब के खिलाफ आरोप पत्र दायर

fir-lodge-on-arnab-goswami
मुंबई, चार दिसंबर, पुलिस ने रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी और दो अन्य लोगों के खिलाफ आत्महत्या के लिए कथित रूप से उकसाने के 2018 के मामले में शुक्रवार को आरोप पत्र दायर किया। यह आरोप पत्र पड़ोसी रायगढ़ जिले के अलीबाग में एक अदालत के समक्ष दायर किया गया है जहां इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद को आत्महत्या के लिए कथित रूप से उकसाने का मामला दर्ज किया गया है। विशेष लोक अभियोजक प्रदीप घरात ने कहा कि आरोप पत्र में गोस्वामी के अलावा फिरोज शेख और नीतीश शारदा के नाम आरोपी के रूप में लिए गए हैं। उन्होंने कहा कि 65 लोगों को गवाह बनाया गया है। गोस्वामी ने बृहस्पतिवार को बंबई उच्च न्यायालय से आरोप पत्र दायर करने पर रोक लगाए जाने का अनुरोध किया था। लेकिन इस याचिका पर अभी सुनवाई नहीं हुई है। अलीबाग पुलिस ने गोस्वामी, शेख और शारदा को मामले में चार नवंबर को गिरफ्तार किया था। उन्हें 11 नवंबर को उच्चतम न्यायालय से जमानत मिल गई थी। अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद ने 2018 में आत्महत्या कर ली थी क्योंकि गोस्वामी और अन्य दो आरोपियों की कंपनियों द्वारा द्वारा कथित तौर पर बकाए का भुगतान नहीं किया गया था। यह मामला 2019 में सबूतों के अभाव में बंद कर दिया गया था लेकिन इस साल मई में मामले को फिर से खोला गया था। इस पर गोस्वामी ने आरोप लगाया था कि महाराष्ट्र सरकार एक टीवी पत्रकार के रूप में उनके काम को लेकर उनके खिलाफ प्रतिशोध ले रही है।

कोई टिप्पणी नहीं: