बिहार : टॉर्चर करने से एक लड़की ने बालिका गृह में कर ली आत्महत्या - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 4 दिसंबर 2020

बिहार : टॉर्चर करने से एक लड़की ने बालिका गृह में कर ली आत्महत्या

girl-suicide-begusarai-shelter-home
अरुण कुमार ( बेगूसराय ) प्राप्त सूचना के अनुसार ताजा खबर बेगूसराय जिले से सामने आ रही है, जहाँ बालिका गृह में एक लड़की  ने आत्महत्या कर ली है।मृतक लड़की के परिजनों ने बालिका गृह में प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है।घटना सामने आने के बाद मामले में जाँच की बात पर बल देते हुए जाँच की बात कही जा रही है।शुक्रवार को बेगूसराय बालिका गृह में एक लड़की ने गले में फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली है।घटना रतनपुर थाना क्षेत्रान्तर्गत निराला नगर बालिका गृह की है।मृतका की पहचान शेखपुरा जिला अंतर्गत बरबीघा थाना क्षेत्र के मोर गाँव वार्ड संख्या 25  के निवासी राजीव कुमार सिंह की पुत्री उम्र लगभग 17 वर्ष गुड़िया कुमारी के रूप में की गई है।बताया जाता है कि पिछले छः महीने से बेगूसराय बालिका गृह में वह रह रही थी।आज अचानक ऐसा क्या हो गया जो गुड़िया ने गले में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली।परिजनों ने बताया कि गुड़िया कुछ बदमाशी करती थी, इसके चलते वह घर से भाग गई थी, जिसके कारण उसे बालिका गृह में रखा गया था और वह विगत छः महीने से बालिका गृह में रह रही थी।आज अचानक बालिका गृह से फोन किया गया कि आपकी बेटी गले में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली है।मृतिका के पिता ने आरोप लगाया है कि मेरे बेटी के साथ बालिका गृह में लगातार टॉर्चर किया जाता था और उसके साथ ना ही सही ढंग से उसकी देखभाल ही ढंग से किया जाता था।उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि अगर सुरक्षा रहता तो इस तरह की घटना ही नहीं घटती।जब फोन पर कहते थे मेरे पुत्री से बात कराइए तो उसमें भी लोग नहीं बात कराते थे और जबरन उसके साथ टॉर्चर किया जाता था।उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि बालिका गृह में कोई सुरक्षा व्यवस्था नहीं रहने के कारण बच्ची ने आत्महत्या कर ली है।उन्होंने साफ तौर पर ये भी कहा कि एक रूम में 10 बच्चियां रहती थीं अगर 10 बच्ची थीं तो फिर उनकी बेटी ने कैसे सुसाइड कर लिया और 9 बच्ची कहााँचली गई थीं?वहीं बालिका गृह माता सुधा कुमारी ने बताया कि शुक्रवार को मृतिका गुड़िया अन्य दिनों के तरह भोजन नही लेकर थोड़ा ही खाना खाकर ऊपर बाले कमरे में चली गई और अन्दर से रूम को बंद कर ली थी।उन्होंने बताया कि थोड़ी देर बाद कमरा नही खोलने पर रतनपुर थाना को सूचना देकर बुलाया और थाना के द्वारा गेट को तोड़ा गया, उसके बाद जब जैसे ही दरवाजा टूटा तो गुड़िया पंखे से झूलती नजर आई।सारी प्रक्रिया के बाद पुलिस ने गुड़िया के शव को अपने कब्जे में लेकर अंत्यपरीक्षण के लिए बेगूसराय सदर अस्पताल भेज दिया।वहीं परिजन जांच की मांग को लेकर लाश को पोस्टमार्टम होने से मना कर रहा है।फिलहाल जो भी हो आत्महत्या किस लिए किया गया यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा।समाचार लिखने तक आगे अन्य किसी बात  की पुष्टि नहीं हुई है।

कोई टिप्पणी नहीं: