आईएसआईएस के सदस्य को सात साल कैद की सजा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 16 दिसंबर 2020

आईएसआईएस के सदस्य को सात साल कैद की सजा

isis-member-7-years-prisionment
नयी दिल्ली, 16 दिसंबर, देश में आतंकी कृत्यों को अंजाम देने की साजिश रचने के आरोप में आईएसआईएस से जुड़े एक व्यक्ति को दिल्ली की एक अदालत ने बुधवार को सात साल कैद की सजा सुनाई। तमिलनाडु स्थित मोहम्मद नसीर पकीर को सूडान से यहां प्रत्यर्पित किये जाने के बाद मामले में 11 दिसंबर 2015 को गिरफ्तार किया गया था। राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने अदालत को बताया कि जांच के दौरान यह पाया गया कि आईएसआईएस संचालकों द्वारा भारत और विदेश में निवासी और अनिवासी भारतीयों की भर्ती के लिये बड़ी साजिश रची जा रही है और ऐसे सभी लोगों की पहचान अभी सुनिश्चित की जा रही है। एनआईए ने आरोप लगाया कि पूछताछ के दौरान नसीर ने आईएसआईएस के कुछ सक्रिय सदस्यों और हमदर्दों के नाम और फोन नंबर बताए हैं और उसके ऐसे सभी सहयोगियों की पहचान सुनिश्चित की जा रही है। नसीर के वकील कौसर खान ने कहा कि विशेष न्यायाधीश प्रवीण सिंह ने उसे भारतीय दंड संहिता की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश) के अलावा गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम की धारा 18 (आतंकी कृत्य की साजिश रचना), 18-बी (आतंकी कृत्य के लिये लोगों की भर्ती), 38 (आतंकी संगठन का सदस्य होने) और 39 (आतंकी संगठन की मदद करने) के तहत उसे दोषी ठहराया। खान ने कहा कि पेशे से इंजीनियर नसीर ने दोष स्वीकार करते हुए अदालत से रहम की मांग की थी।

कोई टिप्पणी नहीं: