माँ ने कहा प्रदूषण ने ली बेटी की जान, पहली बार किसी कोर्ट ने लिया संज्ञान! - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 1 दिसंबर 2020

माँ ने कहा प्रदूषण ने ली बेटी की जान, पहली बार किसी कोर्ट ने लिया संज्ञान!

mother-said-polution-killed-daughter
नौ वर्षीय एल्ला कीसी देबराह की लंदन में वर्ष 2013 में तेज अस्थमा दौरे व सांस की तकलीफ के कारण मृत्यु हो गई। देबराह के घर के पास लगातार तीन वर्षो तक वायु प्रदूषण लंदन के निर्धारित मानकों से ज्यादा था, यानि वायु प्रदूषण ही मृत्यु का संभावित कारण है। मृतक की माता रोजमंड एल्ला ने यूके के हाई कोर्ट में इस मामले में याचिका दायर की है, जिसमें वायु प्रदूषण के कारण मृत्यु होने पर सरकार की विफलता को दर्शाया गया है। यह विश्व का पहला मामला है जब यूके हाई कोर्ट ने प्रदूषण के कारण मृत्यु पर मामले का संज्ञान लिया है। 30 नवंबर से अब इस पर सुनवाई शुरू होगी। इस सुनवाई के दौरान यह तय किया जाएगा कि क्या वायु प्रदूषण ही एल्ला कीसी देबराह की मृत्यु का कारण था या फिर कुछ और। साथ ही सुनवाई में कोर्ट विचार करेगा कि क्या स्थानीय सरकार वायु प्रदूषण स्तर को कम करने में पूरी तरह विफल रही। यह मामला अब यूके व यूरोप में हुई कई अन्य मौतों के मामलों में भी समान कारकों (वायु प्रदूषण) के कारण न्यायालय में विचारणीय तथ्य पेश करेगा।  मालूम हो कि एल्ला किसी देबराह को 27 बार अस्पताल जाना पड़ा था, जब उसे सांस लेने में भारी तकलीफ हो रही थी। मरीज को दौरा भी पड़ा था। उसे सांस लेने में भारी तकलीफ थी और अस्थमा भी था। कोर्ट यह भी देखेगी कि उसकी बीमारी के दौरान क्या प्रदूषण स्तर को सही ढंग से मापा गया था या नहीं। परिवार की लीगल टीम ने इस केस को हाई कोर्ट द्वारा खोलने के लिए वायु प्रदूषण को आधार बनाया है। इसमें संदेह नहीं कि यह केस दुनिया को एक नई राह दिखाएगा और वायु प्रदूषण की गंभीरता के प्रति भी लोगों को जागरूक करेगा।


कोई टिप्पणी नहीं: