बिहार : लालू प्रसाद यादव को निशाने पर रखने वाले नीरज कुमार जीते - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 29 दिसंबर 2020

बिहार : लालू प्रसाद यादव को निशाने पर रखने वाले नीरज कुमार जीते

neeraj-kumar-jdu-won-election
पटना. जदयू नेता और नीतीश कुमार सरकार में मंत्री रहे नीरज कुमार ने बिहार विधान परिषद का चुनाव जीत लिया है. नीरज कुमार ने आरजेडी उम्मीदवार को 8 हजार 252 वोटों से मात दी है. नीरज कुमार की जीत के बाद उनके कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर है.बिहार सरकार के मंत्री बनने के जुगाड़ में नीरज कुमार लग गये हैं ताकि कार्यकर्ताओं के खुशी दोगुनी दे सके.इसके प्रयास में लग गये हैं.ट्वीट करने का सिलसिला शुरू कर लालू प्रसाद यादव को निशाने पर रखते हैं. एमएलसी नीरज कुमार ने ट्वीट कर जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और राजद की राष्ट्रीय अध्यक्ष से तुलना कर दिया है.अंतर बेहतर समझ आया न दागी @yadavtejashwi जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने भारतीय प्रशासनिक सेवा के पूर्व पदाधिकारी माननीय @RCP_Singh जी वहीं दूसरी तरफ आपके पारिवारिक पार्टी के सर्वेसर्वा हैं दफा 420 के सजायाफ्ता कैदी नंबर 3351 @laluprasadrjd अंतर तो साफ है. जदयू में आरसीपी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने के बाद नई ऊर्जा मिल गई है.पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता नीरज कुमार ने राजद और तेजस्वी यादव पर तंज कसते हुए कहा है कि हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष देश का एक पूर्व प्रशासनिक ऑफिसर है और आपका अध्यक्ष कैदी नबंर 3351.यह दोनों पार्टियों के बीच के अंतर को दर्शाता है. ट्विटर पर किए पोस्ट में एमएलसी नीरज कुमार ने लिखा है कि ‘अंतर बेहतर समझ आया न दागी तेजस्वी जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने भारतीय प्रशासनिक सेवा के पूर्व पदाधिकारी माननीय आरसीपी सिंह जी, वहीं दूसरी तरफ आपके पारिवारिक पार्टी के सर्वेसर्वा हैं दफा 420 के सजायाफ्ता कैदी नंबर 3351 लालू प्रसाद यादव। अंतर तो साफ है.’ नीरज कुमार ने यह बात राजद के उन आरोपों के बाद दी है, जिसमें कहा गया था कि आरसीपी के अध्यक्ष बनाए जाने के बाद जदयू में बिखराव शुरू हो जाएगा. उनके पास सियासी अनुभव की कमी है. गौरतलब है नीतीश कुमार ने अपने उत्तराधिकारी के रूप में आरसीपी सिंह को पार्टी का नया अध्यक्ष चुना था. जिसके बाद जदयू न सिर्फ राजद, बल्कि अपने सहयोगी बीजेपी और एनडीए से अलग हुए लोजपा पर जमकर निशाना साधा था.

कोई टिप्पणी नहीं: