दोस्त दुश्मन समझ पाते तब तक बहुत देर हो चुकी थी : नीतीश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 9 जनवरी 2021

दोस्त दुश्मन समझ पाते तब तक बहुत देर हो चुकी थी : नीतीश

delay-when-understand-nitish-kumar
पटना : जदयू की राज्य कार्यकारिणी की बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पता ही नहीं चला कि कौन दोस्त है और कौन दुश्मन? किस पर भरोसा करें किस पर ना करें? लेकिन जब तक समझ पाते तब तक बहुत देर हो चुकी थी। सीट शेयरिंग को लेकर 5 महीने पहले बात-चीत हो जानी चाहिए थी, लेकिन नहीं हुआ। इसी का नतीजा है कि आज जदयू 43 सीटों पर आकर सिमट गई। सीएम ने कहा कि हारे हुए प्रत्याशी क्षेत्र में विकास की योजनाओं को लागू कराएं और क्रेडिट लें। चुनाव में सब बातें आम लोगों तक नहीं पहुंच सकी। पार्टी के 45 लाख सदस्य हैं, लेकिन जमीनी स्तर तक बात नहीं गई। सरकार के काम को हम जनता तक नहीं पहुंचा सके। हमने कई बार कहा, युवाओं तक बात पहुँचाईये। खैर, इन बातों का चिंता छोड़िए और मजबूत होना है, फिर तो परिवर्तन जरूर होगा। वैसे नीतीश कुमार ने परिवर्तन की बात किस सन्दर्भ में कही है, इसके बारे में राज्य कार्यकारिणी की बैठक के बाद ही पता चलेगा। वहीं, बैठक में हारे हुए उम्मीदवार भाजपा के खिलाफ जमकर हमला बोला। हारे हुए प्रत्याशियों ने कहा कि भाजपा ने पीठ में छुरा घोंपा। लोजपा ने नहीं भाजपा ने हराया। विदित हो कि मटिहानी के पूर्व विधायक व जदयू नेता बोगो सिंह ने कहा कि भाजपा के साथ नहीं देने कारण जदयू की हार हुई। बोगो सिंह ने कहा कि वे अपने नेता के कहेंगे कि लोजपा से ज्यादा दोषी भाजपा है। भाजपा के समर्थकों का वोट जदयू प्रत्याशियों को नहीं मिला। अगर वोट मिला होता, तो ये हालत नहीं होती। हम राजनीति शौक और सेवा के लिए करते हैं, राजनीति हमारी मजबूरी नहीं है।

कोई टिप्पणी नहीं: