जद(यू) मजबूती से राजग के साथ है : ललन सिंह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 10 जनवरी 2021

जद(यू) मजबूती से राजग के साथ है : ललन सिंह

jdu-with-nda-said-lalan-singh
पटना, 10 जनवरी, बिहार में जद(यू) के राजग का साथ छोड़ने की अफवाहों के बीच, सत्तारूढ़ जनता दल (यूनाइटेड) ने रविवार को स्पष्ट किया कि पार्टी राज्य में मजबूती से गठबंधन के साथ है। बिहार राजग में महत्वपूर्ण घटक जद (यू), भाजपा, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के साथ मिलकर गठबंधन सरकार चला रहा है। जद(यू) के वरिष्ठ नेता और सांसद राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने कहा, ‘‘हमारे नेता और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बारे में मीडिया में कई तरह की अटकलें चल रही है। कोई उन्हें कहीं भेज रहा है तो कुछ अन्य कहीं ओर।’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन हम स्पष्ट करना चाहेंगे कि हमारी पार्टी (जद-यू) राजग के साथ मजबूती से एकजुट है।’’ सिंह पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी और प्रदेश परिषद की दो दिवसीय बैठक में लिए गए फैसलों के बारे में प्रदेश मुख्यालय में संवाददाताओं से बात कर रहे थे। सिंह का बयान इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि विपक्षी नेता राजग के दो भागीदारों-भाजपा और जद(यू) के बीच कथित गतिरोध पर राज्य में राजनीतिक अस्थिरता की बात कर रहे हैं। अरुणाचल प्रदेश में जद(यू) के कुछ विधायकों के भाजपा में शामिल हो जाने के बाद कई मुद्दों पर बिहार में सत्तारूढ़ गठबंधन के दोनों भागीदारों के बीच गतिरोध की अटकलें लगने लगी। प्रदेश परिषद की बैठक में लिए गए अन्य फैसलों के बारे में सिंह ने कहा कि पार्टी ने संगठन को मजबूत बनाने पर भी चर्चा की। सिंह ने कहा, ‘‘पार्टी के सदस्यों की आम राय है कि भले ही पार्टी की ताकत कम हुई हो लेकिन जनाधार नहीं घटा है। हम इससे (विधानसभा चुनाव परिणाम में मिली कम सीटों से) हताश नहीं हैं। हम अपनी पार्टी को और मजबूत बनाने के लिए काम करेंगे और आगे बढ़ेंगे। पिछले साल बिहार विधानसभा चुनाव में जद(यू) को महज 43 सीटें मिली जबकि 2015 में उसे 71 सीटें मिली थी। दूसरी तरफ भाजपा को 74 सीटें मिली और गठबंधन में उसका कद भी बढ़ गया।

कोई टिप्पणी नहीं: