झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 21 जनवरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 22 जनवरी 2021

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 21 जनवरी

आदिवासी बाहुल्य जिले झाबुआ की महिमा कमेडिया ने मुंबई में फैशन का खिताब जीता


jhabua news
झाबुआ। झाबुआ की महिमा ने मुंबई बांद्रा पश्चिम बाल गन्धर्व ऑडिटोरियम में हुए ष्बी बोल्ड वूमन फैशन फिवर इंडिया सिजन -2ष् मे खिताब जीता। 5 जजो की जूरी ने महिमा को इस फैशन प्रतियोगिता में टेलेंट राउंड(डांस) में दूसरी रनर-अप का खिताब दिया। तो वंही कैटवॉक में फर्स्ट रनर अप टेग भी मिला। इस प्रतियोगिता में महाराष्ट्र, गुजरात ओर मध्यप्रदेश की युवतियों ने भाग लिया था। इन टेलेंट भरे राज्यो को छोड़ आदिवासी बाहुल्य जिला झाबुआ की रहने वाली महिमा कमेडिया ने यह खिताब जीता। इस प्रतियोगिता के दौरान महिमा को दो वेब सीरीज और कुछ शार्ट फिल्मों का ऑफर भी मिला है। महिमा ने बताया कि ष्बी बोल्ड वुमन फैशन फीवर इंडिया सीजन-2ष् जो इंडिया लेवल पर फैशन का काम करती है, जिसकी डायरेक्टर अमृता मिश्रा है। जोकि झाबुआ में रही है। जिन्होंने मुझे मौका दिया मध्यप्रदेश लेवल पर ऑडिशन होने के बाद मेरा सिलेक्शन हुआ। 2 कोरियोग्राफर के सहयोग से इस प्रतियोगिता में टैलेंट राउंड(डांस) नेशनल लेवल पर मे सेकंड विनर रही, और कैटवॉक में फर्स्ट रनर अप टेग मिला।


मोदी सरकार ने देश की जनता के साथ किया कुठाराघात- कांतिलाल भूरिया


झाबुआ । पेट्रोल   डीजल एवं गैस के दामों में लगातार वृद्धि होती जा रही है झाबुआ जिले में पेट्रोल का भाव 94 एव  डीजल 84.14  अब तक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है वही दाम में निरंतर वृद्धि से भाव 100 प्रति लीटर तक जा सकता है मजबूर होकर लोगों को महंगे दामों में डीजल और पेट्रोल खरीदना पड़ रहा है इससे कई  परिवारों का बजट गड़बड़ा गया है डीजल  पेट्रोल गैस के दाम  के साथ-साथ अन्य उपयोगी वस्तुओं के दाम में भी वृद्धि हो रही है केंद्र और राज्य सरकार  इसको रोकने में पूरी तरह नाकाम से तो हो रही है  उक्त आरोप  पूर्व केंद्रीय मंत्री  एवं क्षेत्रीय विधायक कांतिलाल भूरिया जिला कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल मेहता  जिला कांग्रेस कार्यवाहक अध्यक्ष हेमवन्द्र डामोर रूप सिंह डामोर विधायक वॉलसिंह  मेड़ा विधायक वीर सिंह भूरिया जिला कांग्रेस प्रवक्ता हर्ष भट्ट ने संयुक्त विज्ञप्ति जारी कर  केंद्र एवं राज्य सरकार की निंदा की है।  क्षेत्रीय विधायक कांतिलाल भूरिया ने पेट्रोल डीजल के दामों में रोज-रोज की जारी वृद्धि की तीव्र निंदा करते हुए कहा कि पेट्रोल डीजल के दामों में बेतहाशा वृद्धि कर मोदी सरकार आम जनता का गला घोट रही है, विधायक भूरिया ने कहा कि पेट्रोल डीजल के दामों में लगातार वृद्धि करना जनता के साथ कुठाराघात है कॅरोना महामारी से आर्थिक तंगी बढ़ती बेरोजगारी वह महंगाई की मार से पहले ही आम जनता भारी परेशानी का सामना कर रही है ऐसे में पेट्रोल डीजल के दामों में वृद्धि से आम जनता पर दोहरी मार झेलनी पड़ रही है पेट्रोल डीजल के भाव बढने से परिवहन करने वाले वाहनों द्वारा भी किराया बढा कर लिया जा रहा है इससे अन्य वस्तुओं के दाम में वृद्वि हो रही है, भूरिया ने आगे कहा कि तेल की कीमतों में से वृद्धि में आम जनता की कमर तोड़ दी है लेकिन फिर भी पेट्रोल डीजल लगातार महंगा  होता जा रहा है जो कि देश की जनता के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है देश प्रदेश में कॅरोनाके प्रकोप एवं लगातार लॉकडाउन के चलते चारों और बेकारी आर्थिक तंगी व महँगाई का तांडव हो रहा है ऐसे में केंद्र की मोदी सरकार और प्रदेश की शिवराज सरकार पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ाकर महंगाई का और बोझ बढ़ा रही रही है भारत कॅरोना महामारी के चलते अभूतपूर्व स्वास्थ्य आर्थिक और सामाजिक चुनौतियों का सामना कर रहा है लेकिन ऐसे वक्त में भी सरकार ने पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ाने का असंवेदनशील फैसला लेती जा रही है है जब देश में महामारी के चलते करोड़ों लोगों  की नौकरियां जा चुकी है काम धंधे बंद हो गए हैं और मध्यम वर्ग की आमदनी में तेजी से गिरावट आ रही है यहा तक की रबी के सीजन में किसान फसल बुवाई मैं मुश्किलों का सामना कर रहा है ऐसे में पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ाना गलत है  भूरिया ने पेट्रोल डीजल के  दामों में वृद्धि की आलोचना करते हुए कहा कि यह सरकार की जिम्मेदारी है कि वह लोगों के दुख दूर करें ना कि उन्हें और मुश्किल में डालें जब लोग निराश और मुश्किलों से घिरे हैं ऐसे समय में भी सरकार ने अपने लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए के अलावा कुछ नहीं किया है जिला कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल में ने केंद्र सरकार से पेट्रोल डीजल के दामों में की गई वृद्धि को तत्काल वापस लेने की मांग की है एवं चेतावनी दी है कि यदि पेट्रोल डीजल के भाव में कमी नहीं की जाएगी तो कांग्रेस पार्टी सड़कों पर उतर कर आंदोलन करने से भी नहीं हिचकेगी


शिवगंगा प्रमुख पद्मश्री महेश शर्मा देशभर के सांसदों और विधायकों को करेंगे संबोधित, झाबुआ जिले में सफल हुए समग्र ग्राम विकास के मॉडल पर करेंगे चर्चा


jhabua news
झाबुआ। लोकसभा सचिवालय के संसदीय लोकतंत्र शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान द्वारा सांसदों एवं विधायकों के लिए प्रबोधन कार्यक्रम आयोजित किया गया है। कार्यक्रम 18 से 22 जनवरी तक संसद भवन में आयोजित है। कार्यक्रम का उद्घाटन 18 जनवरी को लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला द्वारा किया गया। 22 जनवरी, शुक्रवार को दोपहर 12.45 बजे पर पद्मश्री सम्मानित षिवगंगा प्रमुख महेश शर्मा ऑनलाइन माध्यम से सर्वांगिण ग्राम विकास विषय पर संबोधित करेंगे। श्री शर्मा गत 25 वर्षों से झाबुआ के वनवासियों के बीच कार्यरत है। इस दौरान सर्वांगीण ग्राम विकास को लेकर अनेक सफल प्रयोग रहे।


झाबुआ जिले की बदली तस्वीर

जिसके सुपरिणाम आज झाबुआ जिले में जल संवर्धन, वन संवर्धन और समाज सशक्तिकरण के रूप में दिखने लगे हैं। झाबुआ में ग्राम विकास को लेकर एक आदर्श प्रक्रिया विकसित हुई है, जिसके सफल प्रयोग के अनुभव श्री शर्मा सांसदों के साथ साझा करेंगे। 4 दिन के इस कार्यक्रम के दौरान भारत के अनेक सामाजिक क्षेत्रों में पद्मश्री सम्मानित समाज सेवक सांसदों के साथ जुड़ेंगे और विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करंेगे।


कभी नारदमुनि तो कभी आदि मानव बन नगर में आया बहरूपिया - जनता में बना कौतूहल

  • शासन प्रशासन लुप्त होती इस कला का उपयोग शासन की योजनाओं में कर दे संरक्षण

jhabua news
थांदला। आजकल का जमाना मौज व टिकटोक जैसे एप के जरिये दिल की ख्वाहिश को पूरा करने का है वही आज भी  का जमाना है लेकिन कुछ खानाबदोश ऐसे भी है जो बहरूपिया बनकर विविध कैरेक्टर करते हुए अनेक वर्षों से अपनी आजीविका के लिए इसका उपयोग करते चले आ रहे है। लगभग दो वर्ष बाद नगर में नारदमुनि व आदि मानव की वेशभूषा में पारंगत बहरूपिया आकाश दिखाई दिए। उन्हें देख कर उनके पिता की स्मृति भी सहज सामने आ गई परिवार से विरासत में मिले इस हुनर को बखूबी निभाने वाले 40 वर्षीय आकाश पढ़े लिखे होने के बावजूद इस कला को जिंदा रखे हुए है।  उन्होंने बताया कि वे राजस्थान के धार्मिक स्थल नाथद्वारा (जयपुर) राजस्थान से थांदला में अपने पिता बाबूभाई भट्ट बहरूपिया के साथ आते थे वही 18 पीढ़ियों से विभिन्न वेशभूषा एवं भावाभिव्यक्ति के द्वारा उनके पूर्वज जनता का मनोरंजन करने आ रहे है। आज यह कला लगभग लुप्त हो चुकी है लेकिन फिर भी अपने व अपने परिवार का भरण पोषण करने के लिये आकाश भी लम्बे समय से सनातनी देवताओं के तो फिल्मी चर्चित रोल कर उनके संवाद कहते चले आ रहे है।  उन्होंने बताया कि आज वे देवऋषि नारदमुनि बने है वही आगामी दिनों में क्रूरसिंह, अलाद्दीन, जानिदुश्मन, जोकर, एकलव्य, भील मानव जैसे किरदार अपनाकर जनता का मनोरंजन करेंगे। वही वे मेरा गांव मेरा देश का डाकू जब्बरसिंह, शोले के गब्बरसिंह, दूधवाली, मालन, भिखारी, अपंग बनकर अपनी डायलॉग बोलने में माहिर है। वे लगभग 10 दिनों तक जनता का मनोरंजन करते हुए उनसे मिलने वाली दक्षिणा से अपना गुजारा करते है। देश के लगभग सभी राज्यों में अभिनय कौशल बता चुके आकाश अपने पिता के साथ गोवा फेस्टिवल व विदेशों में भी अपनी कला का प्रदर्शन कर चुके है। उन्होंने बताया कि उनके पिता व अन्य दो भाई भी इस कला में पारंगत है व वे भी बहरूपिया बनकर अपना व अपने आश्रितों का पेट भरते है। इस प्रतिनिधि के माध्यम से उन्होंने जनता का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि वह इसी तरह का प्यार देते रहे वही सरकार से अपील की की उन्हें इस कला को जिंदा रखने के लिये कुछ प्रयास करना चाहिये। आज मोबाइल युग मे जब भी सोशल मीडिया जैसे एप पर किसी को अभिनय करते देखता हूँ मुझे उस एप निर्माण में कही ना कही बाबू भाई व आकाश जैसे पारंगत कलाकार का अप्रत्यक्ष हाथ जरूर दिखाई देता है। राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग व आईजा मध्यप्रदेश इकाई के प्रदेशाध्यक्ष पवन नाहर  ने भारत सरकार, मध्यप्रदेश शासन प्रशासन से निवेदन करते हुए कहा कि उन्हें चाहिये की वह भी लुप्त होती बहरूपिया कला का शासकीय योजनाओं के प्रचार प्रसार में करते हुए उन्हें संजीवनी प्रदान करें।


गुरू सप्तमी पर बावन जिनालय मंे गुरूपद महापूजन का हुआ आयोजन, महाआरती कर आयंबिल, सामायिक एवं प्रतिक्रमण किए गए

  • समाजजनांे ने गुरूदेव के किए जाप

jhabua news
झाबुआ। गुरू सप्तमी पर्व पर विष्व पूज्य दादा गुरूदेव श्रीमद् विजय राजेन्द्र सूरीष्वरजी मसा के 194वें जन्मदिवस एवं 114वीं पुण्यतिथि पर प्राचीन जैन तीर्थ श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम संपन्न हुए। जिसमें मुख्य रूप से सुबह गुरूपद महापूजन, महाआरती, दोपहर में आयंबिल, सामायिक, शाम को गुरूदेवजी के जाप एवं प्रतिक्रमण का आयोजन हुआ। जानकारी देते हुए श्वेतांबर जैन श्री संघ अध्यक्ष संजय मेहता ने बताया कि गुरू सप्तमी पर 20 जनवरी, बुधवार को सुबह 5 बजे ब्रम्ह मुर्हुत में मंदिर के पट खोले गए। 6.15 बजे श्री आदिनाथ भगवान एवं दादा गुरूदेवजी का लाभार्थी परिवार द्वारा पंचामृत से अभिषेक, 7 बजे गुरूदेवजी की केसर पूजन, 8 बजे दादा गुरूदेवजी की गुरूपद महापूजन का आयोजन हुआ। पूजन श्री आदिनाथ राजेन्द्र जयंत संगीत मंडल एवं विधि विधिकारक ओएल जैन ने संपन्न करवाई। लाभ श्री संघ के विभिन्न सदस्यों द्वारा लिया गया। पूजन में जल, चंदन, पुष्प, धूप, दीप, अक्षत, नैवेद्य, फल आदि 36-36 प्रकार से मंत्रोच्चार के साथ दादा गुरूेदव की प्रतिमा के सम्मुख अर्पण किए गए। मंत्रोच्चार श्रावक रत्न धर्मचन्द मेहता द्वारा करवाया गया। इस दौरान समुधर स्तवन युवा निखिल भंडारी एवं दीपक मुथा ने प्रस्तुत किए। पूजन करीब डेढ़ घंटे तक चली। पूजन के दौरान सुश्राविका लीलाबेन भंडारी परिवार की ओर से लक्की ड्रा के माध्यम से चांदी के सिक्के प्रदान किए गए। इस अवसर पर बड़ी संख्या में श्रावक-श्राविकाएं उपस्थित रहे।


महाआरती कर प्रभावना का किया वितरण

गुरू सप्तमी पर दादा गुरूदेवजी की महाआरती करने का लाभ संदीप जैन ‘नेताजी’ परिवार ने लिया। बाद मनोहरलाल, राजेन्द्र भंडारी परिवार की ओर से सभी को प्रभावना वितरण किया गया। दोपहर 1.30 बजे से ं सामूहिक आयंबिल हुए। 2 से 3 बजे तक गुरू मंदिर हाॅल में सामूूहिक सामायिक का आयोजन हुआ। जिसका लाभ अषोक संघवी परिवार ने लिया। शाम 6 से 6.30 बजे तक राजेन्द्र, राकेष, श्रेयांषकुमार मेहता परिवार द्वारा गुरूदेव के जाप का आयोजन रखा। इस दौरान भी लक्की ड्रा के माध्यम से समाजजनों को चांदी के सिक्कों का वितरण हुआ। 6.30 बजे पुनः दादा गुरूदेव की आरती बाद 7 से 8 बजे तक समाज के श्रावक-श्राविकाओं द्वारा प्रतिक्रमण किया गया।


मोहनखेड़ा तीर्थ दर्षन-वंदन हेतु पहुंचे समाजजन एवं भक्त

गुरू सप्तमी पर झाबुआ जिले से श्री संघ के सदस्यगण एवं गुरू भक्त भी दादा गुरूदेव श्रीमद् विजय राजेन्द्र सूरीष्वरजी मसा के दर्षन-वंदन हेतु मोहनखेड़ा तीर्थ पहुंचे। यहां विराजित ज्योतिष सम्राट गच्छाधिपति आचार्य श्री ऋषभचन्द्र सूरीष्वरजी मसा के भी दर्षन का समाजजनों ने लाभ लिया। इस वर्ष कोविड के कारण मोहनखेड़ा तीर्थ पर मेला एवं सामूहिक स्तर पर होने वाले भव्य कार्यक्रम ट्रस्ट द्वारा निरस्त किए गए। केवल दर्षनार्थियों के दर्षन एवं भोजन आदि हेतु मोहनखेड़ा तीर्थ खुला रहा। वहीं इस दिन झाबुआ के श्री गौड़ी पाष्र्वनाथ मंदिर, महावीर बाग, श्री नाकोड़ा पाष्र्वनाथ मंदिर, अतिप्राचीन दादावाड़ी, जैन तीर्थ रंगपुरा, श्री आदिनाथ मणिभ्रद जैन मंदिर देवझिरी पर भी दिनभर समाजजनों का भगवान एवं गुरूदेवजी के दर्षन-पूजन हेतु आना-जाना लगा रहा।


झाबुआ -अलिराजपुर के पत्रकारो के  समागम में हुआ सयुक्त पत्रकार संघ के गठन का निर्णयं

  • श्री घोडावत पुण्य स्मरण दिवस हुआ यादगार, पत्रकारों के साथ प्रतिभावान एवं कोरोना योद्वा का हुआ सम्मान
  • पत्रकारिता के पतन नहीं , परवान का माध्यम बने पत्रकार- श्री कोठारी

jhabua news
झाबुआ। जिले के ग्राम करवड में स्व.श्री यशवंतजी घोडावत के सप्तम पुण्यस्मरण दिवस पर आयोजित पत्रकारों का महासम्मेलन कई मायनों में पुरानी यादों के साथ यादगार साबित हुआ । बुधवार को जिले के पत्रकारिता के पितृ पुरूष एवं जिला पत्रकार संघ के भीष्म पितामह यशवंतजी घोडावत के सप्तम पुण्य स्मरण दिवस पर श्रद्वांजलि सभा एवं झाबुआ अलिराजपुर जिले के पत्रकारों का महासम्मेलन आयोजित किया गया । उक्त सम्मेलन जिला पत्रकार संघ द्वारा 20 जनवरी को प्रतिवर्ष आयोजित किया जाता है। परन्तु इस वर्ष पत्रकारों का यह महासम्मेलन कई मायनों में यादगार साबित हुआ । बता दे कि, झाबुआ-अलिराजपुर के विभाजन के बाद यह पहला ऐसा अवसर था जब झाबुआ एवं अलिराजपुर के पत्रकारों का संयुक्त महासम्मेलन आयोजित हुआ। उक्त महासम्मेलन की गरिमा अलिराजपुर जिले के वे पत्रकार थे ,जिन्होंने स्व. घोडावतजी के समकालीन रहकर 25 से 30 वर्षो तक साथ रहकर पत्रकारिता में आने वाली हर बाधाओं को लांघकर अपनी पैनी कलम का परचम लहराया था । आयोजन में अतिथि के रूप में अलिराजपुर से अशोकजी ओझा , रघु जी कोठारी , आशुतोष जी पंचोली , आम्बुआ से जगराम जी विश्वकर्मा ,नानपुर से शफाकत जी दाउदी ,प्रदीप क्षीरसागर , जिले के वरिष्ठ पत्रकार विरेन्द्रजी व्यास ,ग्राम पंचायत करवड की सरपंच श्रीमती शांतिबाई सोलंकी प्रमुख रूप से उपस्थित थे । साथ ही मंच पर जिला पत्रकार संघ अध्यक्ष संजय भटेवरा , युवा पत्रकार संघ अध्यक्ष लोकेन्द्र परिहार ,पेटलावद तहसील अध्यक्ष मोहन पडियार , करवड पत्रकार संघ इकाई अध्यक्ष बंशीलाल शर्मा उपस्थित थे । आयोजन का शुभारंभ अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के छायाचित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन के साथ स्व. श्री यशवंतजी घोडावत को भावपूर्ण पुष्पांजलि एवं श्रद्वांजलि अर्पित करने के साथ किया गया ।  आयोजन में मां सरस्वती वन्दना एवं स्वागत गीत की प्रस्तुति शा.हाईस्कूल की छात्राओं द्वारा दी गई । स्वागत भाषण देते हुए जिला पत्रकार संघ अध्यक्ष संजय भटेवरा ने कहा कि स्व.यशवंतजी घोडावत ने जिस जिला पत्रकार संघ का संगठन के रूप में एक विशाल परिवार का गठन किया था जिसके लिए वे जीवन भर समर्पित रहे । घोडावतजी के समय में अविभाजित झाबुआ जिले के पत्रकारों को वर्तमान परिपेक्ष में पुनः एक कडी में जोडकर संगठन को और अधिक व्यापक बनाने हेतु झाबुआ-अलिराजपुर जिला पत्रकार संघ के संयुक्त संगठन की आवश्यकता है। श्री भटेवरा ने स्व. यशवंतजी घोडावत की मंशानुरूप झाबुआ -अलिराजपुर जिले के समीप्रस्थ जिला दाहोद ,बांसवाडा, धार ,रतलाम आदि को मिलाकर एक भीलांचल पत्रकार संघ बनाए जाने की बात कहीं ।श्री भटेवरा ने पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि, किस तरह से सत्ता एवं प्रशासन निरंकुश होकर कार्य कर रही है और जब पत्रकार उनके काले कारनामों को उजागर करता है तो वे राजनैतिक संरक्षण के साथ पत्रकारिता को प्रभावित करने में कोई कसर नहीं छोडते है । आयोजन के अतिथि प्रदीप जी क्षीरसागर ,शफाकत जी दाउदी, आशुतोष जी पंचोली, विरेन्द जी्र व्यास ने पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि, स्व. घोडावतजी ने जिन आदर्शो के साथ पत्रकारिता की थी वह आज के युग के पत्रकारों के लिए प्रेरणास्पृद है ,स्व. घोडावतजी ने आज से 20-25 वर्प पूर्व अविभाजित झाबुआ जिले में जिला पत्रकार संघ रूपी जो वृक्ष लगाया था जो कि अब वृहद आकार ले चुका है, ऐसे आयोजनों में परिचर्चा का विषय होना चाहिए जिससे नए पत्रकारों को पुराने पत्रकारों के अनुभव का लाभ मिल सके । आयोजन में अशोक जी ओझा ने काव्यात्मक रूप से अपनी बात कहते हुए कहा कि पत्रकारिता करना एक कठिन काम है और अपने गीतों के माध्यम से पत्रकारों को नई दिशा प्रदान की । अतिथि रघु जी कोठारी ने अपने जोशपूर्ण उदबोधन में कहा कि, पत्रकारिता समाज ,देश-प्रदेश के पतन का कारण ना बने बल्कि सेवा के माध्यम से पत्रकारिता परवान चढे । श्री कोठारी ने 35 वर्षो तक घोडावत जी के साथ रहकर की गई अपनी पत्रकारिता के विभिन्न उतार -चढाव के दौर का वर्णन किया । श्री कोठारी ने श्री भटेवरा के रखे विचारों पर अपनी पूर्ण सहमति देते हुए कहा कि, अब से झाबुआ-अलिराजपुर जिला पत्रकार संघ संयुक्त रूप से पत्रकारों के कार्यक्रम आयोजित करेगा । इस संदर्भ में श्री कोठारी ने कहा कि होली मिलन समारोह अलिराजपुर जिले में आयोजित होगा तथा 31 दिसम्बर का आयोजन झाबुआ जिले में आयोजित किया जावेगा । इस प्रकार वर्ष में दो आयोजन दोनों जिले में संयुक्त रूप से आयोजित होगें , जिसको लेकर शीघ्र ही झाबुआ एवं अलिराजपुर के पदाधिकारियों की एक बैठक आयोजित की जाएगी ।


इनका हुआ सम्मान-

आयोजन में अतिथियों के कर-कमलों से प्रतिभा सम्मान के रूप में खवासा के चार संकुल क्षेत्र मे सत्य सांई कांवेट स्कूल की ं कु.हर्षिता संजय पाटीदार को वर्ष 2019-20 में कक्षा 12 वीं में 79 प्रतिशत अंक प्राप्त कर द्वितीय स्थान प्राप्त करने पर, कु.बबली किशोर मकवाना को कक्षा 12 वीं में 80.04 प्रतिशत अंक. प्राप्त कर प्रथम आने पर , कु. प्रमिला गौरीशंकर कटारा को कक्षा 10 वीं में 95.03 प्रतिशत अंक प्राप्त कर संकुल में द्वितीय स्थान ,कु.मुस्कान देवेन्द्रसिंह यादव को कक्षा 10 वीं 97 प्रतिशत अंक प्राप्त कर संकुल क्षेत्र में प्रथम एवं जिले में चतुर्थ स्थान पर आने,  शा.कन्या हाईस्कूल करवड की कु. दिव्या भवरसिंह झाला को कक्षा 10 वी में संकुल क्षेत्र में 91 प्रतिशत अंक प्राप्त करं प्रथम स्थान प्राप्त करने पर 1111रूपए के पारितोषिक व सम्मान पत्र. के साथ जिला पत्रकार संघ द्वारा सम्मानित किया गया । कोरोना योद्वा के रूप में उत्कृष्ट सम्मान ग्राम करवड की सफाईकर्मी श्रीमती धापूबाई,ं श्रीमती सुगनाबाई एवं जरूरतमंदों को सहायता करने के लिए समरथमल माण्डोत को सम्मान पत्र प्रदान किया गया ।


पत्रकारिता का हुआ सम्मान-

जिला पत्रकार संघ द्वारा प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष 2020-21 का उदयमान पत्रकारिता सम्मान राकेश गेहलोत बामनिया , आजीवन प्रखर पत्रकारिता सम्मान वरिष्ठ पत्रकार बंशीलाल शर्मा करवड तथा सर्वकालिक संघर्षशील पत्रकारिता सम्मान (मरणोपंरात ) स्व. श्री ठा.जोरावरसिंह जी गौर पिटोल को सम्मानित करते हुए उनके पुत्र ठा. निर्भयसिंह गौर को प्रदान किया गया । आयोजन में झाबुआ एवं अलिराजपुर जिले के विभिन्न ग्रामों से बडी संख्या में पत्रकारों ने सहभागिता की । जिला पत्रकार संघ द्वारा अतिथियों को स्मृति चिंह से सम्मानित किया गया । आयोजन का संचालन वरिष्ठ पत्रकार हरिशंकर पंवार व महासचिव राजेश सोनी द्वारा किया गया । आभार पत्रकार संघ करवड के अभीजीतसिंह पंवार ने माना ।


अखिल विष्व गायत्री परिवार शांतिकुंज की अनूठी पहल, हर-हर गंगे, घर-घर गंगे के तहत प्रत्येक घरों में होगी कंुभ कलष एवं गायत्री माता की स्थापना

  • गायत्री शक्तिपीठ काॅलेज मार्ग झाबुआ पर गोष्ठी का हुआ आयोजन

jhabua news
झाबुआ। अखिल विष्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के कुलाधिपति डाॅ. प्रणव पंड्या एवं शैल दीदी द्वारा वर्तमान कोरोनोकाल के चलते हरिद्वार में चल रहे महाकुंभ पर्व में श्रद्धालुओं का हरिद्वार पहुंचना संभव नहीं हो पाने से शांतिकुंज द्वारा गंगाजल के कुंभ तैयार कर उसे अभिमंत्रित कर घर-घर स्थापना करने का संकल्प लिया गया है। हर-हर गंगे, घर-घर गंगे के तहत प्रत्येक घरों में इन कंुभ कलष की स्थापना के साथ ही गायत्री माता की भी स्थापना की जाना है। जानकारी देते हुए गायत्री परिवार के जिला समन्वयक पं. घनष्याम बैरागी एवं नारी जागरण अभियान की जिला संयोजिका श्रीमती नलिनी बैरागी ने बताया कि इस हेतु शांतिकुंज हरिद्वार से एक रथ विगत 14 जनवरी से रवाना किया गया है, जो भारत के प्रत्येक राज्यों में जाकर शक्तिपीठों के माध्यम से गांव-गांव घर-घर जाकर गंगाजल की स्थापना करेगा। इस संबंध में मप्र के प्रभारी योगेंद्र गिरी एवं इंदौर के जोन प्रभारी कृष्णकांत शर्मा द्वारा प्रत्येक शक्तिपीठों पर जाकर कार्यकर्ताओं की गोष्ठीयों का आयोजन किया जा रहा है।


गायत्री शक्तिपीठ पर किए दर्षन एवं पूजन

इसी के तहत 20 जनवरी, बुधवार को गायत्री शक्तिपीठ कॉलेज मार्ग झाबुआ पर भी कार्यकर्ताओं की गोष्ठी का आयोजन हुआ। जिसमें अतिथि के रूप में मप्र प्रभारी योगेन्द्र गिरी एवं इंदौर जोन प्रभारी केके शर्मा द्वारा शक्तिपीठ पर पहुंचने पर सर्वप्रथम प्रवेष द्वार पर ही प्रखर प्रज्ञा एवं सजल श्रद्धा के दर्षन किए। बाद मंदिर के अंदर प्रवेष कर वेद माता गायत्री, अष्टभुजा दुर्गाजी, महा सरस्वतीजी के साथ पं. श्री राम शर्मा आचार्य एवं मां भगवती देवी शर्मा की प्रतिमा एवं तस्वीर पर माल्यार्पण किया गया। बाद समीप स्फटिक महाकाल मंदिर में भी भगवान भोलेनाथ के दर्षन बाद आयोजित गोष्ठी में दोनो पधारे अतिथियों का स्वागत तिलक लगाकर गायत्री परिवार की ओर से किया गया।


कार्यकर्ताआंे को सौंपी जिम्मेदारी

तत्पष्चात् यहां उपस्थित गायत्री परिवारजनांे, कार्यकर्ताओं एवं युवाओं को संबोधित करते हुए योगेन्द्र गिरी एवं केके शर्मा द्वारा शांतिकुंज हरिद्वार के इस महाभियान की जानकारी देते हुए बताया कि इस महा-अभियान के तहत झाबुआ जिले के शहरी, नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रांे में प्रत्येक घरों में मां गंगा का पवित्र एवं अभिमंत्रित जल पहुंच सके। इस हेतु गंगा जल से भरे कुंभ कलष के साथ मां गायत्री की घरांे में स्थापना की जाना है। यहीं हमारा उद्देष्य होकर हमे पूरी जिम्मेदारी और निष्ठा से इस पूूर्ण करना है। जिले मंे अपने-अपने क्षेत्रों मंे सभी कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी के साथ यह कार्य करना है। अतिथिद्वय द्वारा सभी को इस संबंध में संकल्प भी दिलवाया गया।


यह रहे उपस्थित

यह गोष्ठी करीब एक घंटे तक चली। इस अवसर पर गायत्री परिवार से जुड़ी बहनों में श्रीमती किरण डावर, राजकुमारी, खंगारोत, हरिप्रिया निगम, लेखा बैराग1ी, शंभुसिंह पुरोहित, केके डावर, प्रषांत मल्लिक सहित गायत्री शक्तिपीठ से जुड़े युवाजन बड़ी संख्या में उपस्थित थे। अंत में आभार जिला परिवार के जिला समन्वयक पं. घनष्याम बैरागी ने माना।


मध्यस्थता ने जोड़ा परिवार, जिला जज ने पति-पत्नी को समझाकर सुलह कराई


jhabua news
झाबुआ,। मध्यस्थता प्रक्रिया के माध्यम से न्यायिक मजिस्टेªट सुश्री प्रतिभा वास्कले के न्यायालय में लंबित विविध आपराधिक प्रकरण 1/2020 श्रीमती भारती विरूद्ध राहुल जो घरेलू हिंसा, प्रताड़ना और पारिवारिक विवाद से संबंधित मामला था। पत्नी भारती की ओर से पति राहुल के विरूद्ध मानसिक और शारीरिक प्रताड़ना का मामला पेश किया गया था, जिसका मध्यस्थता के द्वारा सुलह-समझौता के आधार पर 20 जनवरी 2021 को अंतिम रूप से निराकरण किया गया। इसके पूर्व मामले को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण में मीडिएशन के लिए रैफर किया गया। पति-पत्नी के मध्य जिला जज श्रीराजेश कुमार गुप्ता के द्वारा समझौता वार्ता कराई गई एवं पति-पत्नी को साथ-साथ रहने की समझाईस देकर दोनों में सुलह कराई तथा भविष्य में शांतिपूर्वक दाम्पत्य जीवन निर्वाह करने के लिये प्रेरित किया। मध्यस्थता प्रक्रिया में सुलह-समझौते के आधार पर विवादों का समाधान शीघ्रता से एवं कम खर्चीली और सरल प्रक्रिया के द्वारा किया जाता है संपत्ति विवाद, पारिवारिक विवाद, चैक बाउंस एवं आपराधिक राजीनामा योग्य मामलों में पक्षकारों द्वारा आपसी बातचीत के द्वारा सुलह-समझौते के आधार पर मामले का निराकरण कराया जाता है। मध्यस्थता के परिणाम स्वरूप पक्षकारों के समय और खर्चों की बचत होती है तथा एक सर्वमान्य समाधान होने से पुनः सद्भाविक संबंध स्थापित हो जाते है। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण अंतर्गत संचालित मध्यस्थता केन्द्र में भी अपर जिला न्यायाधीश सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री राजेश देवलिया के द्वारा दोनों पक्षों को आपसी सामंजस्य बनाये रखने तथा सुखमय वैवाहिक जीवन निर्वाह के लिये शुभकामनाऐं देकर न्यायालय परिसर से रवाना किया। पीड़िता पत्नी श्रीमती भारती एवं पति राहुल ने पुनः साथ-साथ रहने के लिये सहमति व्यक्त की और दोनों एक साथ न्यायालय परिसर से ही खुशी-खुशी अपने घर गये। इस प्रकार एक बिखरा हुआ परिवार मध्यस्थता के माध्यम से पुनः एक होकर जुड़ गया। विवादों के शांतिपूर्वक उचित समाधान के लिये न्यायालयीन प्रक्रिया लंबी और कष्टकारी रहती है। जबकि वर्तमान समय में मध्यस्थता के द्वारा शीघ्र और सकारात्मक परिणाम प्राप्त हो रहे है। इसमें किसी भी पक्षकार की न तो हार होती है, और न ही किसी पक्षकार की जीत होती है, बल्कि दोनों ही पक्षकार संतुष्ट होकर प्रसन्न रहते है और एक सर्वमान्य फैसले को स्वीकार कर लेते है। उनके मध्य कटुता एवं वैमनस्यता भी समाप्त हो जाती है तथा आपसी सद्भाव पुनः कायम हो जाता है। पक्षकारों को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के माध्मम से मध्यस्थता प्रक्रिया का सहारा लेकर अधिक से अधिक मामलों के निराकरण के लिए पहल करना चाहिए। प्राधिकरण द्वारा समय-समय पर पक्षकारों और अधिवक्ताओं के लिये मध्यस्थता जागरूकता कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जा रहा है एवं यह नारा सार्थक हो रहा है कि मध्यस्थता से फैला उजियारा, समझौते से झगड़ा हारा।

कोई टिप्पणी नहीं: