सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 04 जनवरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 4 जनवरी 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 04 जनवरी

आज बालरूप हनुमान भक्त मंडल, करेगा बजरंगबली की महाआरती

 

सीहोर। बालरूप हनुमान भक्त मंडल के द्वारा हनुमान जी महाराज की आज महाआरती की जाएगी। नूतन वर्ष के प्रथम मंगलवार को शकर फेक्ट्री के सामने स्थित बालरूप हनुमान मंदिर में भव्य कार्यक्रम  आयोजित किया जाएगा। बालरूप हनुमान भक्त मंडल अध्यक्ष  शिवम लोवंशी ने कार्यकम की जानकारी देते बताया की मंगलवार सुबह मंदिर श्री में पंडित रामचरण भार्गव के द्वारा अभिषेक किया जाएगा। भगवान हनुमान जी महाराज  को विधिवत चोला चड़ाया जाएगा। मंदिर श्री में श्रद्धालुओं के द्वारा हवन किया जाएगा। शाम को शास्त्रोनुसार भगवान हनुमानजी महाराज की महाआरती की जाएगी। कार्यक्रम में विशेष रूप से पूर्व विधायक रमेश सक्सेना, सुदीप व्यास,  रामसिंह धनगर, रामप्रकाश चौधरी, धमेंद्र गहलोत, हरि लोवंशी, मुकेश मेवाड़ा अमन घावरी, संजय   शर्मा सम्मिलित होंगे। बालरूप हनुमान भक्त मंडल राजेश मेवाडा, सचिन लोवंशी, अनुज,राजू मेवाड़ा साईल मेवाड़ा आदि ने श्रद्धालुओं से कार्यक्रम में पहुंचने की अपील की है।


सांप सिढ़ी के खेल से समझा रहे क्षय रोग को टी.बी.हारेगा, देश जीतेगा अभियान संचालित


sehore news
टी.बी.हारेगा, देश जीतेगा अभियान के अंतर्गत सांप सिढ़ी का खेल खिलाकर जनजागरूकता अभियान संचालित किया जा रहा हैं। जिला क्षय नियंत्रण अधिकारी डॉ.जे.डी.कोरी ने जानकारी दी कि साकारात्मक व्यवहार कैसा किया जाएं यह सांप सिढी के माध्यम से बताया जा रहा है। जिला चिकित्सालय परिसर में एसटीएस श्री प्रदीप भावसार तथा श्री महेन्द्र सिंह ठाकुर ने अस्पताल में पहुचने वाले मरीजों और उनके परिजनों को बता रहे है कि खेल हमारे जीवन का एक जरूरी भाग है, फिर चाहे वे कोई भी या कहीं भी खेले। खेल में हमें हार-जीत के साथ ही मुश्किलों में लडने की क्षमता और जिंदगी भर काम आने वाला ज्ञान और अनुभव दे कर जाता हैं। डॉ.कोरी ने बताया कि पासा बोर्ड के माध्यम से टीबी से संबंधित दवा के साथ ही अच्छी खुराक भी महत्वपूर्ण है। दवा लेने में नागा या लापरवाही घातक है। परिवार व आसपास टीबी के प्रसार को रोक सकते हे। टीबी की जांच एवं उपचार एकदम निःशुल्क है। इसके साथ ही नकारात्मक व्यवहार साफ सफाई का ध्यान नहीं रखने से संक्रमण हो सकता है सहित कई प्रभावों को लेकर पांसा के माध्यम से अंकवार सांप सिढी खेल के माध्यम से आमलोगों को जागरूक किया गया है। 


कोरोना के उपचार की व्यवस्थाएं यथावत पूर्ववत जारी, बिना लक्षण और मामूली लक्षण वाले कोरोना पॉजिटिव मरीजों के लिए बनाए कोविड केयर सेंटर खाली रहने पर बंद करने का निर्णय


प्रदेश में कोरोना संक्रमितों के किए उपचार के लिए की गई सभी व्यवस्थाएं  पहले की तरह यथावत चल रही हैं। संयुक्त संचालक स्वास्थ्य एवं कोविड-19 की व्यवस्थाओं की नोडल अधिकारी डॉ. वीणा  सिन्हा ने बताया कि बिना लक्षण और मामूली से मामूली लक्षणों वाले कोरोना पाजीटिव की देखरेख के लिए बनाए गए कोविड केयर सेंटर में पहुंचने वालों की संख्या न के बराबर होने से यह सेंटर लगभग खाली हो गए। ऐसी स्थिति में अब कोविड केयर सेंटर चालू रखना का कोई ओचित्य नहीं रहा और इन सेंटर को चालू बनाए रखने की आवश्यकता नहीं है।  इस बात को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है कि भोपाल में स्थित कोविड-केयर सेंटर को छोड़कर राज्य के अन्य जिलों में बनाए गए कोविड-केयर सेंटर को इस शर्त के साथ बंद किया जाए कि जब इनकी जरूरत और उपयोगिता हो तब जिला कलेक्टर राज्य स्तर से अनुमति प्राप्त कर फिर से चालू कर सकें। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमितों के  उपचार  के लिए पर्याप्त व्यवस्थाएं हैं और सभी व्यवस्थाएं पहले की तरह यथावत संचालित हैं।


02 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई, वर्तमान में कोरोना एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 83 है


मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि पिछले पिछले 24 घंटे के दौरान 02 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है। सीहोर के चाणक्यपुरी तथा श्यामपुर के जाजनाखेडी से 1-1  व्‍यक्तियों की  रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्‍त हुई है । जिले में एक्टिव/संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 83 है। । कुल रिकवर की संख्या 2561 है। 48 संक्रमितों की उपचार के दौरान मृत्यु हुई है। आज 261 सैम्पल लिए गए है । सीहोर शहरी क्षेत्र से 19  सैम्पल लिए गए, नसरूल्लागंज 45 आष्टा से 59, इछावर से 31, श्यामपुर से 85,  बुदनी से 22 सैम्पल लिए गए है । आज पॉजीटिव मिले नए कंटेनमेंट जोन सहित समस्त कंटेनमेंट एवं बफर जोन में स्वास्थ्य दलों द्वारा सघन स्वास्थ्य सर्वे किया जा रहा है। वहीं पॉजीटिव मिले व्यक्तियों के करीबी संपर्क वाले व्यक्तियों की पहचान कर उनकी सूची तैयार की जा रही है। प्रत्येक कंटेनमेंट जोन में सर्वे के लिए एक से दो दल लगाए गए है । सर्वे दल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को बनाया गया है तथा स्वास्थ्य सर्वे दल में ए.एन.एम. आशा कार्यकर्ता, आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई गई है। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 2692 है जिसमें से 48 की मृत्यु हो चुकी है 2561 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है तथा वर्तमान में एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 83 है। आज 261 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 58152 हैं जिनमें से 547175  सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 411 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 672 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 काल सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर-7247704181 है कोविड-19 से संबंधित जानकारी इस संपर्क नंबर पर ली व दी जा सकती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसीन के लिए संपर्क नंबर 07562-401259 जारी किया गया है तथा राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर काल करके भी टेलीमेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। ई-संजीवनी ओपीडी सेवा हेतु  www.esanjeevaniopd.in  पंजीयन कराया जा सकता है। कलेक्टेट कार्यालय में भी जिला स्तरीय काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है तथा होम क्वारंटाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है जिस पर संस्थागत क्वारंटाइन अथवा होम क्वारंटाइन व्यक्ति या उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साईकोलाजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से निःशुल्क प्राप्त कर सकते है । 


एक वर्षीय अरबी, फारसी और उर्दू कक्षाओं में प्रवेश प्रारंभ


मध्यप्रदेश उर्दू अकादमी संस्कृति परिषद की निगरानी में चल रहे कौमी कौंसिल बराए फरोगे उर्दू जबान, भारत सरकार के एक वर्षीय प्रमाण-पत्र पाठ्यक्रम अरबी भाषा, एक वर्षीय प्रमाण-पत्र फारसी (परशियन) कोर्स और एक वर्षीय उर्दू डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश प्रारंभ हो गये हैं। अरबी, फारसी और उर्दू भाषा सीखने के इच्छुक इस पाठ्यक्रम में प्रवेश प्राप्त कर सकते हैं। प्रवेश-पत्र जमा करने की अंतिम तिथि 28 फरवरी, 2021 नियत की गई है। अरबी कोर्स में प्रवेश के लिये उर्दू की प्रारंभिक शिक्षा के अतिरिक्त उर्दू लिखने और समझने का ज्ञान भी आवश्यक है। फारसी कोर्स में प्रवेश के लिये उर्दू एवं अंग्रेजी लिखने और पढ़ने का ज्ञान आवश्यक है। उर्दू डिप्लोमा कोर्स में शैक्षणिक योग्यता की कोई शर्त नहीं है। तीनों पाठ्यक्रमों में आयु सीमा की बाध्यता नहीं है। प्रति कोर्स 200 रुपये पंजीयन शुल्क प्रवेश के समय जमा होंगे। इसके अलावा अन्य कोई फीस नहीं ली जायेगी। कोर्स की किताबें नि:शुल्क मिलेंगी। प्रवेश-पत्र सीमित हैं। प्रवेश-पत्र की छाया-प्रति स्वीकार नहीं की जायेगी। फार्म मध्यप्रदेश उर्दू अकादमी के कार्यालय, मुल्ला रमूजी संस्कृति भवन, बाणगंगा रोड, भोपाल में कार्यालयीन समय में प्राप्त एवं जमा किये जा सकते हैं। अन्य जानकारी के लिये अकादमी के दूरभाष क्रमांक 0755-2551691 पर कार्यालयीन समय में सम्पर्क किया जा सकता है।


कक्षा 1 से 8 वीं के विद्यार्थियों का वार्षिक मूल्यांकन वर्कशीट आधारित होगा


प्रदेश में शासकीय शालाओं में कक्षा एक से आठवीं तक के विद्यार्थियों का मूल्यांकन वर्कशीट के आधार पर होगा। जिला शिक्षा अधिकारी, भोपाल ने बताया कि कक्षा पहली से आठवीं तक के बच्चों को वर्कशीट दी जाएगी। इसके आधार पर उनका अर्द्धवार्षिक एवं वार्षिक मूल्यांकन किया जाएगा। विद्यार्थियों का अर्द्धवार्षिक मूल्यांकन जनवरी माह में एवं वार्षिक मूल्यांकन फरवरी एवं मार्च में किया जाएगा। राज्य शिक्षा केंद्र ने माध्यमिक शिक्षा मंडल से संबद्ध सभी शासकीय शालाओं में शिक्षण सत्र 2020-21 में कक्षा एक से आठवीं तक के विद्यार्थियों के अर्धवार्षिक मूल्यांकन (प्रतिभा पर्व) एवं वार्षिक मूल्यांकन के संबंध में दिशा-निर्देश जारी किए हैं। कक्षा पहली एवं दूसरी के बच्चों को शालाओं से ही अभ्यास पुस्तिका दी जाएगी जिसके अंत में वर्कशीट होगी। इसमें हिंदी, अंग्रेजी एवं गणित विषय के प्रश्न होंगे। कक्षा तीसरी से आठवीं तक के बच्चों को दी जाने वाली वर्कशीट में कौशल आधारित प्रश्न और प्रोजेक्ट वर्क होगा। वर्कशीट में ही प्रश्नों के उत्तर और प्रोजेक्ट वर्क लिखने के लिए स्थान रहेगा। वर्कशीट में 60 प्रतिशत लिखित एवं 40 प्रतिशत अंक प्रोजेक्ट कार्य के आधार पर दिए जाएंगे। प्रोजेक्ट वर्क में छात्रों से कोई मॉडल नहीं बनवाया जाएगा। यह प्रोजेक्ट वर्क घर में उपलब्ध रोजमर्रा की सामग्री के आधार पर या घर के सदस्यों से पूछ कर पूरे किए जा सकेंगे। विद्यार्थियों का अर्द्धवार्षिक मूल्यांकन 20 से 30 जनवरी के मध्य एवं वार्षिक मूल्यांकन 15 से 28 फरवरी और 10 से 20 मार्च के बीच किया जाएगा। परीक्षाफल का निर्धारण अर्द्धवार्षिक एवं वार्षिक परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर किया जाएगा। "हमारा घर-हमारा विद्यालय" अंतर्गत शिक्षक विद्यार्थियों के सह-शैक्षिक एवं व्यक्तिगत सामाजिक गुणों का मूल्यांकन कर ग्रेड का निर्धारण करेंगे। इन परीक्षाओं का संचालन करते हुए कोविड-19 संक्रमण से बचाव के नियत सुरक्षा मापदंडों और गाइडलाइन का पालन किया जाएगा।


संघ लोक सेवा तथा मप्र लोक सेवा परीक्षा के उम्मीदवारों हेतु प्रोत्साहन योजना


मप्र शासन के पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक कल्याण विभाग द्वारा अखिल भारतीय और राज्य प्रशासनिक सेवाओं के उम्मीदवारों के लिए प्रोत्साहन योजना संचालित की जा रही हैं। जिसके अंतर्गत मप्र लोक सेवा आयोग एवं संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षाओं में विभिन्न स्तरों में सफलता प्राप्त करने पर प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है। मप्र लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा में प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करने पर 15 हजार रूपए, मुख्य परीक्षा उत्तीर्ण करने पर 25 हजार रूपए तथा साक्षात्कार में सफल होने पर 10 हजार रूपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है। इसी प्रकार संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा में प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करने पर 25 हजार रूपए, मुख्य परीक्षा उत्तीर्ण करने पर 50 हजार रूपए तथा साक्षात्कार में सफल होने पर 25 हजार रूपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है। पिछड़ा वर्ग के ऐसे उम्मीदवार जिन्होंने मप्र लोक सेवा आयोग एवं संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा विभिन्न स्तरों पर उत्तीर्ण की हो वह 15 जनवरी 2021 तक कार्यालय पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक कल्याण विभाग में आवेदन प्रस्तुत कर सकते हैं।


सम्पूर्ण ग्रामीण आबादी पायेगी नल कनेक्शन से पानी


जल जीवन मिशन के अन्तर्गत प्रदेश के सम्पूर्ण ग्रामीण क्षेत्र को नल कनेक्शन के माध्यम से जलप्रदाय करवाने के लिए 2024 तक का लक्ष्य रखा गया है। राज्य सरकार के निर्देश पर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग इस कार्य को पूरा करने के लिए वर्ष 2023 को लक्ष्य बनाकर ग्रामीण क्षेत्र की जलप्रदाय व्यवस्था पर त्वरित गति से कार्य कर रहा है। प्रदेश के सभी ग्रामों में जलप्रदाय व्यवस्था के लिए बनाई गई योजनाओं पर विभागीय अमले द्वारा कार्य किये जा रहे हैं।


सत्यापन अभियान में निरस्त पंजीयन वाले निर्माण श्रमिकों को दो स्तर पर मिलेगा अपील का मौका


मध्यप्रदेश भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल के अंतर्गत सत्यापन अभियान में निरस्त पंजीयन वाले कर्मकार को अब दो स्तर पर अपील का मौका मिलेगा। श्रम विभाग द्वारा शनिवार को इस आशय के आदेश जारी किए गए है। वर्ष 2014 से ग्रामीण क्षेत्र में निर्माण श्रमिकों को पंजीयन के लिये जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी और शहरी क्षेत्रों में नगर निगम आयुक्त/ मुख्य नगरपालिक अधिकारी को अधिकृत किया गया था। पंजीयन के लिए आवेदन पत्र की प्राप्ति पर संबंधित अधिकारी समुचित जाँच बाद और आवेदन पत्र की वास्तविकता का समाधान होने के बाद पंजीयन स्वीकृत या अस्वीकृत करने की कार्यवाही करते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों और शहरी क्षेत्रों के निर्माण श्रमिकों के पंजीयन अस्वीकृत करने के मामले में जारी आदेश के विरुद्ध अपील का प्रावधान किया गया है। ग्रामीण क्षेत्र में जनपद पंचायत के सीईओ द्वारा आदेश जारी के विरुद्ध प्रथम अपील अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) को और द्वितीय अपील जिले के कलेक्टर को की जा सकेगी। इसी तरह शहरी क्षेत्र में नगर निगम आयुक्त द्वारा पारित आदेश के विरुद्ध प्रथम अपील कलेक्टर और द्वितीय अपील संभाग के आयुक्त को की जा सकेगी। मुख्य नगर पालिका अधिकारी द्वारा पारित आदेश के विरुद्ध प्रथम अपील अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) ओर द्वितीय अपील जिले के कलेक्टर को कर सकेंगे। म.प्र. भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल के अन्तर्गत पंजीकृत ऐसे हिताधिकारी जिनका पंजीयन सत्यापन के दौरान अपर्याप्त कारणों से निरस्त दिया गया वे अपनी पात्रता के सभी साक्ष्यों सहित पदाभिहित अधिकारी के समक्ष अपनी अपील आवेदन प्रस्तुत कर सकेंगे ओर पदाभिहित अधिकारी उस पर विचार कर और अन्य ऐसी जाँच कर जो वह आवश्यक समझे, करने के बाद अपने स्पष्ट अभिमत सहित प्रतिवेदन निराकरण के लिए अपीलीय प्राधिकारी को प्रेषित करेगा। अपीलीय प्राधिकारी प्रतिवेदन प्राप्त होने पर पदाभिहित अधिकारी के जाँच प्रतिवेदन अथवा ऐसे और जाँच के बाद जैसे वह आवश्यक समझे/पूर्ण संतुष्ट होने पर समुचित आदेश जारी करेगा। जिससे वह अपील स्वीकार/अस्वीकार कर सकेगा। अपीलीय प्राधिकारी द्वारा किए गए अपील के विनिश्चय के बाद पंजीयन के लिए अधिकृत अधिकारी द्वारा अपने श्रम सेवा पोर्टल लॉगिन पर उपलब्ध कराई गई यूटिलिटी में अपील के विनिश्चय की जानकारी आदेश प्रति सहित अपलोड की जाएगी। इसके आधार पर अपील स्वीकार होने की स्थिति में संबंधित अपीलार्थी का पुराना पंजीयन पुनर्जीवित हो जाएगा। अपीलीय आदेश में पात्र पाए गए निर्माण श्रमिक जिसका पंजीयन पुनर्जीवित हुआ हो, सत्यापन बाद उसे जिस अवधि में अपात्र रहा था उस अवधि में मंडल द्वारा संचालित किसी भी योजना के लिए पात्र नहीं होगा।


कृषि मंत्री श्री पटेल ने सीहोर टोल नाके पर 108 एंबुलेंस बुलाकर घायलों को  भेजा अस्पताल


किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने भोपाल से इंदौर जाते समय सीहोर टोल नाके के पास हुए सड़क हादसे को देखकर तत्काल अपनी गाड़ी रुकवाई। उन्होंने मौके पर ही 108 एंबुलेंस को बुलवाया और सड़क हादसे में घायल लोगों को अस्पताल पहुंचाया। कृषि मंत्री श्री पटेल ने सीहोर टोल नाके के पास कार और बाइक दुर्घटना के शिकार हुए घायलों को तत्काल अस्पताल पहुंचा कर एक बार फिर संवेदनशीलता का परिचय दिया है। इसके पहले विगत दिनों भोपाल से इंदौर के मार्ग में देवास के पास तेंदुए के घायल होने पर भी उन्होंने तत्काल अमले को सूचित कर तेंदुए का उपचार सुनिश्चित करवाने की व्यवस्था की थी।


किसानों को फसलों के  भंडारण और प्रोसेसिंग  करने में   सक्षम बनाने वाली योजनाओं को भी  लागू करेंगे - उद्यानिकी राज्य मंत्री  (स्वतंत्र प्रभार) श्री कुशवाह


उद्यानिकी, खाद्य प्रसंस्करण (स्वतंत्र प्रभार) एवं नर्मदा घाटी विकास राज्यमंत्री श्री भारत सिंह कुशवाह ने कहा है कि किसानों को उन्नत तकनीक से अधिक उत्पादन वाली फसलें उगाने में और वर्ष में तीन बार फसलें लेने में सक्षम बनाने के साथ-साथ फसलों के भंडारण और प्रोसेसिंग करने में सक्षम बनाने वाली योजनाओं को  उद्यानिकी विभाग  लागू करेगा।  उद्यानिकी  किसानों को योजनाओं में मदद देने के साथ प्रशिक्षण भी दिलाया जाएगा।  राज्य मंत्री श्री कुशवाह भोपाल जिले की बैरसिया तहसील मुख्यालय पर  कृषक प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।  राज्यमंत्री श्री कुशवाह ने कहा कि किसान बरसात और बरसात बाद की फसलों के साथ ही गर्मियों की सब्जी आदि फसलों  का उत्पादन कर सकें इसके लिए  खेतों की सुरक्षा के लिए  'चैन फेंसिंग' योजना बनाई जा रही है। राज्यमंत्री श्री कुशवाहा ने बताया कि किसानों को उद्यानिकी  फसलों के भंडारण के लिए कोल्ड  स्टोरेज की सुविधा भी उपलब्ध करवाई जाएगी।  इसके लिए 5 मीट्रिक टन क्षमता के  कोल्ड स्टोरेज किसान अपने खेत पर बना सके ऐसी योजना बनाई जा रही है।  प्रशिक्षण कार्यक्रम में विषय विशेषज्ञों ने उद्यानिकी फसलों के उत्पादन ने उत्पादन के संबंध में किसानों को जानकारी दी।

कोई टिप्पणी नहीं: