विजय हजारे ट्रॉफी का 2021 संस्करण में ईशान किशन के 173 रन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 20 फ़रवरी 2021

विजय हजारे ट्रॉफी का 2021 संस्करण में ईशान किशन के 173 रन

ishant-roking-knock
पटना. भारत की प्रमुख घरेलू एक दिवसीय प्रतियोगिता, विजय हजारे ट्रॉफी का 2021 संस्करण शनिवार 20 फरवरी से शुरू हो गया.इस साल के संस्करण में कुल 103 टीमों के 103 50 ओवर मैचों में कुल 38 मुकाबले होंगे, क्योंकि वे प्रतिष्ठित ट्रॉफी जीतने की कोशिश करेंगे. झारखंड की ओर से खेलने वाले बल्लेबाज और विकेटकीपर का नाम ईशान प्रणव कुमार पांडे किशन है.वास्तव में ईशान किशन का जन्मस्थान पटना, बिहार है.उनका जन्मदिन 18 जुलाई 1998 को है.उनके पिता का नाम प्रणव कुमार पांडे (बिल्डर) और माता का सुचित्रा सिंह है.भाई का नाम राज किशन (पूर्व राज्य स्तरीय क्रिकेट खिलाड़ी) हैं.बहन नहीं हैं.स्कूल/विद्यालय दिल्ली पब्लिक स्कूल, पटना महाविद्यालय/विश्वविद्यालय कॉलेज ऑफ कॉमर्स, पटना में पढ़े हैं.


कोच / संरक्षक (Mentor)संतोष कुमार के नेतृत्व में परिपक्व भारतीय खिलाड़ी ईशान किशन बन गये हैं.

ईशान किशन ने रणजी ट्रॉफी मैच में दिल्ली के खिलाफ एक पारी में14 छक्के लगाए, जिसके चलते एक पारी में सर्वाधिक छक्के लगाने का रिकॉर्ड अपने नाम किया.

.वर्ष 2016 के अंडर -19 विश्वकप में लगातार 5 मैचों में, भारत के अंडर-19 टीम से वह लगातार 5 मैचों के लिए नाबाद रहे.

.वर्ष 2016-17 में, ईशान ने रणजी ट्रॉफी में दिल्ली के खिलाफ 273 रन बनाए.रणजी ट्रॉफी में झारखंड के लिए किसी खिलाड़ी का यह उच्चतम स्कोर रहा है.

.वर्ष 2021 में विजय हजारे ट्रॉफी का 2021 संस्करण के प्रथम मैच में मध्य प्रदेश के खिलाफ शनिवार 20 फरवरी को कप्तानी पारी खेस ईशान किशन ने ताबड़तौड़ 173 रन ठोक डाला.इसमें चौका 19 और छक्का 11शामिल  है. 


ईशान किशन से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

क्या ईशान किशन धूम्रपान करते हैं ?: नहीं

क्या ईशान किशन शराब पीते हैं ?: ज्ञात नहीं

अपनी पढ़ाई के बारे में गंभीर नहीं होने के कारण ईशान को स्कूल से निकाल दिया गया था , क्योंकि स्कूल के दौरान वह अपनी पुस्तकों पर क्रिकेट संबंधित चित्र बनाते रहते थे. उन्होंने बहुत ही कम उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था, उन्होंने अलीगढ़ के School World Cup से अपनी स्कूली टीम का नेतृत्व किया, जब वह सिर्फ 7 वर्ष के थे. हालांकि बिहार में उनका जन्म हुआ था, लेकिन वह झारखंड के लिए खेलते थे, क्योंकि बिहार राज्य बोर्ड की बीसीसीआई के साथ संबद्धता समाप्त हो गई थी.अब बहाल हो गयी है. उनके दोस्तों ने ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ (2012) में ज़ीशन क़ादरी द्वारा निभाई गई “Definite Khan” की भूमिका के बाद उन्हें “Definite” उपनाम दिया.ज़ीशन क़ादरी फिल्म गैंग्स ऑफ वासेपुर में  अंडर -19 विश्वकप से पहले किशन ने चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) और राजस्थान रॉयल्स (आरआर) के लिए खेलने की अपनी इच्छा व्यक्त की, क्योंकि वह एमएस धोनी और राहुल द्रविड़ को अपना आदर्श मानते हैं.हालांकि उन्हें दोनों टीमों से दो सत्रों के लिए टूर्नामेंट से बाहर कर दिया गया था.अभी मुम्बई से खेलते हैं. ईशान और उनके भाई राज ने अपने बचपन में क्रिकेटर बनने का सपना देखा था. हालांकि राज एक अच्छे क्रिकेटर थे, लेकिन उन्होंने अपना सपना त्याग दिया ताकि ईशान अपनी इच्छा पूरी कर सके.राज हमेशा महसूस करते थे कि ईशान एक बेहतर खिलाड़ी बन सकते हैं. जब वह U-19 भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान थे, तब उनके सहयोग से भारतीय टीम फाइनल में पहुंची थी, लेकिन ढाका में U-19 वेस्टइंडीज के खिलाफ हार गई. आईपीएल 11 के एक मैच के दौरान, जब हार्दिक पांड्या द्वारा ईशान किशन के पास गेंद फेकी गई, उस समय ईशान गेंद की उछाल नहीं समझ पाए और परिणामस्वरूप वह घायल हो गए. अपने पहले ही मैच में अंडर 19 के पूर्व कप्तान  ईशान किशन ने दिखा दिया कि अन्तरराष्ट्रीय टी-20 मैच खेलने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं.मौका मिलते ही दमखम दिखा देंगे.

कोई टिप्पणी नहीं: