बिहार : रूपेश सिंह हत्या कांड की जांच सी.बी.आई. से कराने की मांग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 4 फ़रवरी 2021

बिहार : रूपेश सिंह हत्या कांड की जांच सी.बी.आई. से कराने की मांग

बिहार के राज्यपाल फागु चौहान से मुलाकात कर भारतीय सबलोग पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद डॉक्टर अरुण कुमार ने रूपेश सिंह हत्या कांड की जांच सी.बी.आई. से कराने की मांग की है...

cbi-demand-for-rupesh-murder
पटना. आखिरकार देर-सवेर पुलिस ने इंडिगो स्टेशन मैनेजर रूपेश सिंह हत्याकांड का खुलासा कर ही दिया. इस मामले में पटना पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है. पुलिस के अनुसार, रूपेश की हत्या रोडरेज के कारण हुई. पुलिस जो तर्क दे रही है, उसपर मृतक के परिजनों को विश्वास नहीं है.पक्ष व विपक्ष को भी यकीन नहीं हो रहा है. यही कारण है कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ट्वीट कर नीतीश सरकार पर हमला बोला है. इंडिगो स्टेशन मैनेजर रूपेश सिंह की पत्नी नीतू सिंह का कहना है कि "पिछले साल 29 नवंबर को उनके पति और हत्यारे के बीच कोई झगड़ा हुआ ही नहीं था. मेरे पति के वाहन से एक मोटरसाइकिल के टकराने की घटना सही है पर पुलिस द्वारा जिस तरह का विवाद व झगड़ा होने का दावा किया जा रहा है, वह सही नहीं है.''  इस तरह सवालों के घेरे में पुलिस आ गयी.वहीं नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर लिखा कि 'रूपेश हत्याकांड में मैंने आज से 15 दिन पहले कह दिया था, नीतीश कुमार जी अपने नाक के बाल और आंखों के तारे को बचाने को लिए बकरा खोज रहे हैं, आज बिहार पुलिस ने बकरा खोज ही लिया, यकीन मानिए ऐसी कहानी C ग्रेड की घिसी-पिटी फिल्मों में भी नहीं मिलेगी. आपको पुलिस की कहानी जरूर सुननी चाहिए.' दरअसल, तेजस्वी ने 19 जनवरी को एक ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने लिखा था कि 'बिहार पुलिस बकरा खोज रही है? राज्य के गृहमंत्री ने सत्ता शीर्ष पर बैठे लोगों को बचाने के बहाने खोजने की निविदाएं आमंत्रित की है.'


पुलिस की थ्योरी पर विपक्ष सवाल उठा रहा है. वहीं सत्तापक्ष के नेता हैरान हैं. बीजेपी सांसद विवेक ठाकुर ने ट्वीट किया कि "अाज पटना पुलिस ने जो रूपेश हत्याकांड में खुलासा किया कि रूपेश जी की हत्या रोड रेज के कारण हुई, यह अति चौकाने वाला है. SIT द्वारा मुख्य आरोपी का पकड़ा जाना सराहनीय है. उम्मीद है बाकी बचे अपराधी भी जल्द पकड़े जाएंगे." ऐसे में सवाल उठ रहा है कि पटना पुलिस की थ्योरी पर सवाल क्यों उठ रहा है. इस सवाल का जवाब पटना पुलिस के पास फिलहाल नहीं है. पटना एसएसपी उपेन्द्र शर्मा ने बुधवार को मीडिया से बात करते हुए कहा था कि पुलिस की गिरफ्त में आया ऋतुराज आज तक गोली नहीं चलाई. फिलहाल वह किसी मामले में जेल नहीं गया है. ऐसे में सवाल उठता है कि गाड़ी चोरी करने वाला एक शख्स, शार्प शूटर की तरह किसी पर गोली दाग सकता है क्या? मीडिया से बात करते हुए एसएसपी ने कहा कि अपराधी ऋतुराज शातिर है. ऐसे में सवाल उठता है कि अगर वह शातिर था. हर पल का खबर रखता था तो उसने अब तक हथियार, वारदात में इस्तेमाल कपड़े और चोरी की बाइक को ठिकाने नहीं लगाया. जो वह कर सकता था, ऐसे में सवाल उठता है कि अगर वह शातिर था तो ऐसा क्यों नहीं किया?


पुलिस का कहना है कि रूपेश की हत्या रोड रेज के कारण हुई. ऐसे में सवाल उठता है कि महीने भर पहले जो वारदात हुआ था, उसका बदला अब लिया गया. जबकि रेड रेज जैसी घटना में वारदात ऑन द स्पॉट हो जाती है. इसकी एक बानगी गया का आदित्य सचदेवा केस है. ऐसे में सवाल उठता है कि आरोपी ने महीने भर से गुस्सा पाल रखा था. मर्डर के लिए सिर्फ रोड पर हुई पिटाई ही मकसद बन गई? इन सबके अलावा सबसे बड़ा सवाल ये है कि कुछ दिन पहले डीजीपी ने जो बयान दिया था वह गलत था. कुछ दिन पहले डीजीपी एसके सिंघल ने कहा था कि रूपेश सिंह की हत्या कॉन्ट्रैक्ट किलर्स से कराई गई है. इस हत्या कि पीछे पार्किंग के ठेके का विवाद है. यही नहीं, डीजीपी ने कहा था कि इस बात की जानकारी सीएम नीतीश को दे दी गई है. ऐसे में सवाल उठता है कि सचा कौन, बिहार के डीजीपी या पटना के एसएसपी? क्योंकि बिहार पुलिस की जांच कॉन्ट्रैक्ट किलर्स से गाड़ी चोर पर आ गई है. बताया गया कि पुलिस ने पुलिस ने 22 दिन में 200 कैमरे, 400 सीडीआर (कॉल डिटेल रिपोर्ट) और 600 जीबी डेटा को खंगाला. केस की जांच-पड़ताल में 100 किलोमीटर पैदल चला गया.तब जाकर पकड़ा गया रूपेश का कातिल. इस बीच भारतीय सबलोग पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद डॉक्टर अरुण कुमार ने बिहार के राज्यपाल फागु चौहान से मुलाकात कर रूपेश सिंह हत्या कांड की जांच सी. बी. आई. से कराने की मांग की है.उन्होंने कहा सरकार अपराधियों को संरक्षण दे रही है मौजूदा सरकार !

कोई टिप्पणी नहीं: