मधुबनी : कृषि विरोधी तीनों काला कानून के खिलाफ चक्का जाम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 6 फ़रवरी 2021

मधुबनी : कृषि विरोधी तीनों काला कानून के खिलाफ चक्का जाम

madhubani-congress-chakka-jam
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) देश के विभिन्न किसान संगठनों द्वारा आज कृषि विरोधी तीनों काला कानून के खिलाफ देशब्यापी चक्का जाम कार्यक्रम 3 घण्टें का निर्धारित किया गया था,किसानों के समर्थन में जिला कांग्रेस कमिटी द्वारा इंटरमीडिएट परीक्षा को ध्यान में रखते हुए एक घण्टे का चक्का जाम जिला समाहरणालय के सामने किया गया,जिला अध्यक्ष प्रो शीतलाम्बर झा के नेतृत्व में सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जोरदार नारेबाजी करते हुए शहर का मुख्य सड़क को जाम कर दिए जिला अध्यक्ष प्रो शीतलाम्बर झा ने कहा केंद्र की मोदी सरकार द्वारा अपने पूंजीपति मित्रों को मदद करने के इरादे से किसान विरोधी तीन काला कानून लाकर देश के अन्नदाता किसान,मजदूरों का जमीन हड़पना चाहती है,किसानों को लागत का दो गुना मुनाफा देना नही चाहती,एम एस पी को कानूनी दर्जा नही देना चाहती,किसानों को विजली बिल मांफी एवम पराली जलाने कानून वापस नही लेना चाहती। आज देश के लाखों लाख किसान देश के राजधानी दिल्ली के सिमा पर पिछले 73 दिनों से धरना,प्रदर्शन, अनशन पर बैठे हुए है,लेकिन देश के प्रधानमंत्री मंत्री हिटलरशाही पर उतर चुके है,देश भर के लगभग 2 सौ से ज्यादा किसानों की शहादत होने के बाद भी सरकार चुप बैठी है,किसानों के ऊपर गलत ढंग से मुकदमा किया जा रहा है,सिमा को छावनी में तबदील किया जा रहा है,आज इन सभी प्रमुख बातों के खिलाफ चक्का जाम शांतिपूर्ण ढंग से हुआ,जिला के सभी एन एच् एवम स्टेट हाइवे के साथ साथ प्रखण्ड मुख्यालयो के सभी सड़क को अवरुद्ध किसानों ने सफलतापूर्वक किया,आम लोगों का समर्थन भी किसान संगठनों को मिला। कार्यक्रम में मनोज कुमार मिश्र,ज्योतिरामन झा,मो आकिल अंजुम,कौशल किशोर चौधरी, अनुरंजन सिंह, फ़ैज़ी आर्यन,बिपिन कुमार झा,प्रफुल्ल चन्द्र झा,सुरेश चंद्र झा,जय कुमार झा,कृष्ण कुमार मालिक,मीनू पाठक,मुकेश कुमार झा,मायानंद झा,सुनील कुमार झा,मो साबिर अहमद,धनेश्वर ठाकुर,समरजीत सिंह,आलोक कुमार झा,बिनय झा,मो अनीसुर्रहमान, गौतम किशोर राय, गंगाधर पासवान, विश्व नाथ पासवान,सुनील कुमार झा,महेश चंद्र झा,मो मंसूर आलम,दिनेश ठाकुर,योगेंद्र प्रसाद यादव,रमेश पासवान, आदि सैकड़ों लोग थे।

कोई टिप्पणी नहीं: