महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर हास्पिटल में सुविधाएं बढ़ी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 19 फ़रवरी 2021

महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर हास्पिटल में सुविधाएं बढ़ी

  • मुजफ्फरपुर में भी खुलेगा नया कैंसर अस्पताल 

cancer-hospital-varanasi
वाराणसी (सुरेश गांधी) । महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर केंद्र एवं होमी भाभा कैंसर अस्पताल में बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए और अधिक सुविधाएं बढ़ायी जायेंगी। इसके टाटा कैंसर संस्थान की ओर से मुजफ्फरपुर में एक नया कैंसर अस्पताल खोला जायेगा। यह बातें शुक्रवार को कैंसर हास्प्टिल के दूसरे स्थापना दिवस के मौके पर संस्थान के टाटा मेमोरियल संस्थान के निदेशक राजेंद्र बर्वे और होमी भाभा कैंसर संस्थान के निदेशक डॉक्टर सत्यजीत प्रधान ने कहीं।  पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने बताया कि सुविधाओं में बढ़ोतरी से मरीजों को इलाज में सहूलियत मिलेगी। इस दौरान पिछले दो सालों में कैंसर मरीजों के लिए अस्पताल में शुरू हुई आधुनिक सुविधाओं का भी उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि 18 मई 2018 से लेकर 31 जनवरी 2021 तक दोनों अस्पतालों में 34,248 नए मरीजों का पंजीकरण हुआ है, जबकि इस दौरान बड़ी-छोटी मिलाकर कुल 11706 सर्जरी हुई है, वहीं 3944 मरीजों को रेडियोथेरेपी दी गई है।  बता दें, दोनों अस्पताल का अधिकारिक रूप से उद्धाटन 19 फरवरी 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था। होमी भाभा में 180 बेड्स की सुविधा है, जबकि महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर केंद्र में 350 बेड्स की सुविधा है। 2020 में कोरोना वायरस के कारण जब पूरी दुनिया थम गई थी, उस दौरान भी महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर केंद्र एवं होमी भाभा कैंसर अस्पताल के दरवाजे मरीजों के लिए खुले थे। तमाम चुनौतियों के बावजूद दोनों अस्पतालों में 2020 में 2019 की तुलना में न केवल अधिक मरीज पंजीकृत हुए बल्कि इस दौरान अधिक सेवाएं भी मरीजों को उपलब्ध कराई गईं। आंकड़ों के अनुसार, 2019 में दोनों अस्पतालों में 12,292 नए मरीजों का पंजीकरण हुआ था, जो 2020 में बढ़कर 14,438 हो गए। इसी तरह 2019 में बड़ी छोटी मिलाकर 4098 सर्जरी हुई थी, 2020 में इनकी संख्या बढ़कर 6162 हो गई। बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए ही अस्पताल में नई सुविधाओं को भी बढ़ाया जा रहा है।


पिछले कुछ महीनों में अस्पताल में जिन प्रमुख नई सुविधाओं की शुरुआत हुई है, इनमें टोवास सर्जरी, मेगा प्रोस्थेसिस, कैंसर मरीजों के लिए डॉक्टरों द्वारा शुरू की गई प्लेटलेट रजिस्ट्री, कैंसर मरीजों को बिना रुकावट इलाज देने के लिए अस्पताल में कोविड जांच के लिए आरटीपीसीआर लैब की शुरुआत सहित कई सुविधाएं शामिल हैं। इसमें प्रदेश सरकार के साथ जुड़कर वाराणसी के सेवापुरी ब्लाक में कैंसर स्क्रीनिंग, नगर निगम में कैंसर स्क्रीनिंग के साथ ही पूरी क्षमता के साथ बोन मैरो ट्रांसप्लांट को भी शुरू किया जाएगा। दूरदराज से आने वाले मरीजों के लिए धर्मशाला, न्यूक्लियर मेडिसिन के लिए महामना पंडित मदन मोहन मालवीय सन्स्थान में आइसोटोप उत्पादन की सुविधा शुरू की जाएगी।  महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर केंद्र एवं होमी भाभा कैंसर अस्पताल के निदेशक डा. सत्यजीत प्रधान ने कहा कि हमारा उद्देश्य केवल बनारस ही नही बल्कि आसपास के सभी जिलों सहित उत्तर प्रदेश से सटे राज्यों को उच्च कोटि का कैंसर इलाज उपलब्ध कराना है। आने वाले दिनों में अस्पताल में और भी नई सुविधाओं की शुरुआत की जाएगी, जिससे कैंसर मरीजों को उनके घर के पास अत्याधुनिक इलाज मिल सकेगा। टाटा मेमोरियल सेंटर के निदेशक डा. राजेंद्र ए. बडवे ने कहा कि पैंसों के अभाव में किसी कैंसर मरीज का इलाज न रूके इसके लिए हम प्रतिबद्ध हैं।


उपलब्धियों पर एक नजर:

- बेहतर जांच के लिए पेट-सीटी स्कैन की शुरुआत।

-कैंसर की आधुनिक टोवास सर्जरी की शुरुआत ।

-कैंसर मरीजों की कोविड जांच के लिए अस्पताल में आरटीपीसीआर लैब की शुरुआत ।

-डाक्टरों द्वारा कैंसर मरीजों के लिए प्लेटलेट रजिस्ट्री की शुरुआत।

- जनसंख्या आधारित कैंसर रजिस्ट्री की शुरुआत।

-आयुष्मान भारत योजना के तहत बेहतरीन कार्य करने पर लगातार दूसरी बार मिला शासन से प्रशस्ति पत्र।

-सेवापुरी ब्लाक में कैंसर स्क्रीनिंग, नगर निगम कर्मचारियों की जांच और जागरूकता कार्यक्रम।

-बाल कैंसर मरीजों के इलाज के दौरान उन्हें ठहरने में सहूलियत देने के लिए सेंट ज्यूड के साथ करार।

भविष्य की योजनाएं: 

-बिहार के मुज्जफरपुर में कैंसर अस्पताल की शुरुआत

-न्यूक्लियर मेडिसिन के लिए एमपीएमएमसी में आइसोटोप उत्पादन की सुविधा।  

- कैंसर मरीजों के लिए धर्मशाला।

-फुल प्लेज्ड बोन मौरो ट्रांसप्लांटेशन विभाग।

-बाल कैंसर मरीजों के लिए सिकरौल में ठहरने की व्यवस्था

कोई टिप्पणी नहीं: