बिहार : राज्यपाल का अभिभाषण दिशाहीन, झूठ का पलिंदा : महबूब आलम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 19 फ़रवरी 2021

बिहार : राज्यपाल का अभिभाषण दिशाहीन, झूठ का पलिंदा : महबूब आलम

cpi-ml-mla-mahboob-alam-condemn-governor-speech
पटना 19 फरवरी, भाकपा-माले विधायक दल के नेता महबूब आलम ने आज बिहार विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि पूरा अभिभाषण दिशाहीन और झूठ का पुलिंदा है. आज पूरे राज्य में जल-जीवन हरियाली योजना की सरकार डींगे हांक रही है, लेकिन इस नाम पर कितने गरीबों को उजाड़ दिया गया, उसपर पूरी तरह से पर्दा डाल दिया गया है. अभिभाषण में गरीबों के हाउसिंग अधिकार के बारे में कोई चर्चा तक नहीं है. कोविड काल में अपनी पीठ थपथपाने वाली सरकार की कलई पूरी तरह खुल चुकी है. और यह बात जाहिर हो चुका है कोरोना व लाॅकडाउन के नाम पर बिहार के गरीबों के साथ क्रूर मजाक हुआ है. उनके इलाज के नाम पर सरकारी खजाने से निकाली गई रकम का बंदरबांट हुआ है और यह सब सत्ता के संरक्षण में हुआ है. आज भूख व कुपोषण का दायरा बिहार में लगातार बढ़ता जा रहा है. बेरोजगारी चरम पर है. युवाओं को रोजगार देने के प्रति सरकार कहीं से भी इच्छुक नहीं दिखती. आज विधानसभा के पहले दिन माले विधायकों ने तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ बिहार विधानसभा से प्रस्ताव पारित करने, एमएसपी को कानूनी दर्जा देने, एपीएमसी ऐक्ट पुनर्बहाल करने, न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान सहित सभी फसलों की खरीद की गारंटी करने, धान खरीद की तिथि बढ़ाने, मुजफ्फरपुर में किसान धरना कर रहे किसान संगठनों पर हमला करने वाले आरएसएस-बजरंग दल के कार्यकर्ताओं को अविलंब गिरफ्तार करने, मीडिया की स्वतंत्रता पर प्रतिबंध को वापस लेने आदि मुद्दों को उठाया.

कोई टिप्पणी नहीं: