बिहार : वह परीक्षा के दौरान ही बच्चे को दिया जन्म - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 21 फ़रवरी 2021

बिहार : वह परीक्षा के दौरान ही बच्चे को दिया जन्म

एमडीडीएम कॉलेज केंद्र की केंद्राधीक्षक डॉ. मीरा मधुमिता ने बताया कि सूचना मिलते ही तत्काल शांति देवी को चैंबर में बुलाकर आराम की मुद्रा में लिटा दिया गया. इसके बाद जिला शिक्षा अधिकारी को सूचना दी गई.एम्बुलेंस बुलाई गई और शांति को तत्काल सदर अस्पताल पहुंचाया गया, जहां देर शाम उसने बेटे को जन्म दिया... 

delevery-in-examination-bihar
मुजफ्फरपुर. परीक्षा देने के लिए पहुंची थी शादीशुदा छात्रा शांति देवी.परीक्षा देने के दौरान बच्चे को जन्म दिया. वह हरेक दिन की तरह बिहार विघालय परीक्षा समिति की ओर से आयोजित परीक्षा केंद्र में परीक्षा देने आयी थी.वह मुजफ्फरपुर के एमडीडीएम कॉलेज में मैट्रिक की परीक्षा दे रही थी. मुजफ्फरपुर एमडीडीएम कॉलेज परीक्षा सेंटर पर शुक्रवार को शादीशुदा छात्रा शांति देवी भी परीक्षा देने के लिए पहुंची हुई थी.इस बीच परीक्षा के लिए पहुंची छात्रा शांति देवी को अचानक प्रसव पीड़ा स्टार्ट हो गई.तुरंत मुजफ्फरपुर एमडीडीएम कॉलेज प्रशासन छात्रा शांति देवी को अस्पताल लेकर पहुंचा.अस्पताल में देर शाम को छात्रा ने एक स्वास्थ्य बेटे को जन्म दिया. दूसरी ओर महिला का पति बिरजू भी इस बात को लेकर बहुत प्रसन्न है कि सबकुछ बिल्कुल सही तरह से निपट गया. इसके बाद बच्चे के पिता बिरजू ने बेटे का नाम इम्तिहान रख दिया.चिकित्सकों के बताए अनुसार बच्चा और मां दोनों स्वस्थ्य हैं.


आगे की परीक्षाओं को भी जारी रखेंगी शांति देवी

बेटे को जन्म देने के बाद छात्रा शांति देवी ने कहा कि वो आगे की मैट्रिक परीक्षाओं को भी जारी रखेंगी. शांति का कहना है कि वो आगे की परीक्षाएं एम्‍बुलेंस से परीक्षा केंद्र पहुंचकर देंगी. छात्रा ने बताया कि प्रसव पीड़ा शुरू होने से पहले ही वो सभी वस्‍तुनिष्‍ठ प्रश्‍नों को हल कर चुकी थीं. उन्होंने ओएमआर शीट भी भरकर जमा कर दी थी.जब शांति देवी ने विषयगत प्रश्‍न हल करने शुरू किए तो उन्हें प्रसव पीड़ा शुरू हो गई. उनके पास बैठी अन्य छात्राओं ने इस बात की सूचना तुरंत कक्ष परीक्षक को दी.तुरंत ही कक्ष परीक्षक ने सराहनीय कदम उठाते हुए छात्र को अस्‍पताल भिजवाने की व्‍यवस्‍था करवाई.बेटे को जन्म देने वाली शांति देवी बोचहां हाई स्कूल की छात्रा हैं एमडीडीएम कॉलेज प्रशासन ने छात्रा के प्रसव पीड़ा शुरू होने की जानकारी तुरंत जिला शिक्षा अधिकारी को भी दी. जिसके बाद वो तुरंत मौके पर पहुंचे और सभी व्यवस्थाएं कराईं.


जच्चा और बच्चा दोनों स्वस्थ 

शांति पुत्र की प्राप्ति के बाद खुश है. शांति के पति बिरजु सहनी बताते हैं कि वह प्रसव पीड़ा के पहले वस्तुनिष्ठ प्रश्न हल कर चुकी थी. उन्होंने कहा कि जच्चा और बच्चा दोनों स्वस्थ हैं. शांति के पति बताते हैं कि परीक्षा के क्रम में भगवान ने उन्हें पुत्र दिया है, इसी कारण से इसका नाम 'इम्तिहान' रखा है. शांति अभी आगे और पढ़कर नौकरी करना चाहती है.


केंद्राधीक्षक डॉ. मीरा मधुमिता ने कहा

एमडीडीएम कॉलेज केंद्र की केंद्राधीक्षक डॉ. मीरा मधुमिता ने बताया कि सूचना मिलते ही तत्काल शांति देवी को चैंबर में बुलाकर आराम की मुद्रा में लिटा दिया गया. इसके बाद जिला शिक्षा अधिकारी को सूचना दी गई.एम्बुलेंस बुलाई गई और शांति को तत्काल सदर अस्पताल पहुंचाया गया, जहां देर शाम उसने बेटे को जन्म दिया.डॉ. मीरा ने बताया कि प्रसव पीड़ा शुरू होने से पहले शांति देवी अपनी ओएमआर शीट जमा कर चुकी थीं.विषयगत प्रश्नों को हल करना बाकी रह गया था.

कोई टिप्पणी नहीं: