मुख्तार से जान का खतरा,योगी सरकार नहीं दे रही सुरक्षा : अजय राय - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 7 फ़रवरी 2021

मुख्तार से जान का खतरा,योगी सरकार नहीं दे रही सुरक्षा : अजय राय

life-thretain-to-mukhtar-ajai-rai
वाराणसी, 07 फरवरी, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व विधायक अजय राय ने अपने बड़े भाई अवधेश राय की हत्या के मुख्य आरोपी मऊ के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी से जान पर खतरे की आशंका व्यक्त करते हुए सुरक्षा नहीं देने के मामले में योगी आदित्यनाथ सरकार पर अदालती आदेश की अनदेखी करने का आरोप लगाया है। श्री राय ने रविवार को संवाददाताओं को बताया कि वह अपने भाई अवधेश राय की हत्या के मामले में चश्मदीद गवाह हैं एवं शिकायतकर्ता हैं। अदालत द्वारा उन्हें चौबीसों घंटे सुरक्षा मुहैया कराने के के आदेश सरकार को दिये गये थे लेकिन अधिकारी उस पर अमल नहीं कर रहे हैं। उन्हें नौ फरवरी को इलाहाबाद में गवाही के लिए जाना है लेकिन उन्हें सुरक्षा नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने अपनी जान का खतरा बताते हुए आरोप लगाया कि उनके भाई के हत्या के आरोपी मुख्तार अंसारी को राज्य की भाजपा सरकार मदद कर रही है। शायद यही वजह है कि अदालत के आदेश के बाद भी उन्हें प्रशासन ने सुरक्षा मुहैया नहीं करा रहा है। श्री राय ने कहा कि राजनीति कारणों से राज्य सरकार ने उनकी सुरक्षा हटा ली एवं उनका शस्त्र लाइसेंस भी रद्द कर दिया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि कोशिश की जा रही है कि वह गवाही दें और आरोपी मुख्तार अंसारी बच जाये। लेकिन उनका कहना है कि वह नौ फरवरी को संकट मोचन मंदिर में हाज़िर लगाकर हनुमान जी का आशीर्वाद लेने के बाद इलाहाबाद (प्रयागराज) गवाही देने के लिए अवश्य जाएंगे।   जिले के पिंडरा क्षेत्र से पांच बार विधायक रहे तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से वाराणसी संसदीय क्षेत्र से दो बार चुनावी मुकाबला कर चुके श्री राय ने बतया कि उन्होंने इस मामले में मुख्यमंत्री आदित्य नाथ को पत्र लिखकर हस्तक्षेप करने और तत्काल पर्याप्त सुरक्षा देने की मांग की है। ग़ौरतलब है कि अवधेश राय की हत्या तीन अगस्त 1991 को कर दी गई थी। इस मामले में अजय राय ने मुख्तार अंसारी पर हत्या का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज करायी थी।

कोई टिप्पणी नहीं: