मधुबनी : मैथिली में प्रारंभिक शिक्षा को लेकर दी बधाई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 25 फ़रवरी 2021

मधुबनी : मैथिली में प्रारंभिक शिक्षा को लेकर दी बधाई

shitlambar-jha
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) जिला कांग्रेस अध्यक्ष मधुबनी प्रो शीतलाम्बर झा ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के राष्ट्रीय प्रवक्ता टीम के सदस्य, विधान पार्षद श्री प्रेम चन्द्र मिश्रा दुआरा लगातार विधान परिषद के अंदर एवम बाहर मिथिलांचल के 5 करोड़ लोगों की मातृभाषा मैथिली को प्राइमरी स्कूलों में पढ़ाई को लेकर संघर्षोउपरांत सरकार द्वारा स्वीकार करने पर प्रेम चन्द्र मिश्रा को बधाई दिया है। जिला अध्यक्ष प्रो झा ने कहा कि पिछले कांग्रेस सरकार की जमाने से स्कूली पाठ्यक्रम में मैथिली को अनिवार्य विषय के रूप में मान्यता थी लेकिन कुछ बर्षों पूर्व हटा दिया गया था उसके जगह दूसरे भाषा को शामिल कर लिया गया था ,मिथिलांचल के सभी मैथिली भाषा भाषी संस्थाओं एवम आमजनों ने लगातार अपने अपने ढंग से संघर्ष करते रहे ,लेकिन जब से प्रेम चन्द्र मिश्रा विधान परिषद के सदस्य बने तब से ही उन्होंने मातृभाषा मैथिली को लेकर मुखर आवाज बनते रहे जिसका परिणाम विधान परिषद में महामहिम राज्यपाल के अभिभाषण पर बाद विवाद में भी देखने को मिला और विधान पार्षद प्रेम चन्द्र मिश्रा के संशोधन प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री ने मैथिली की पढ़ाई की घोषणा किया। प्रो झा ने मिथिला के समग्र विकास के मुद्दे पर सभी राजनीतिक दलों जनप्रतिनिधियों से आग्रह किया कि सदन के अंदर बाहर एक मत से संघर्ष करें जिसका सुखद परिणाम देखने को मिलेगा। कांग्रेस की सरकार ने मैथिली अकादमी की स्थापना की  आज कई बर्षों से अध्यक्ष एवम उपाध्यक्ष का पद रिक्त है भरा नही जा रहा है,मैथिली शिक्षकों की बहाली नही हो रही है,मैथिली पुस्तकों की छपाई सरकार बन्द कर दी जो दुःखद है। प्रो झा ने कहा आज भी कुछ राजनीतिक दल के जनप्रतिनिधि निर्वाचित तो होते है मिथिला से लेकिन सदन में मैथिली में शपथ तक नही लेते यैसे लोग और उनकी पार्टी अब वाहवाही लेना चाहती है जिसका निंदा करते है।

कोई टिप्पणी नहीं: