जन आंदोलन बन चुका है किसानों का आंदोलन : जयंत चौधरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 9 फ़रवरी 2021

जन आंदोलन बन चुका है किसानों का आंदोलन : जयंत चौधरी

protest-become-public-jayant-chaudhary
अलीगढ़ (उत्तर प्रदेश), नौ फरवरी, राष्ट्रीय लोक दल के उपाध्यक्ष पूर्व सांसद जयंत चौधरी ने मंगलवार को कहा कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसानों का आंदोलन अब 'जन आंदोलन' बन चुका है। चौधरी ने अलीगढ़ के इगलास के पास आयोजित किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए कहा कि हर गुजरते दिन के साथ किसानों का आंदोलन जोर पकड़ रहा है और अब इसके वापस होने का कोई सवाल नहीं है, अब यह किसानों का ही नहीं बल्कि जन आंदोलन बन चुका है। उन्होंने कहा,‘‘ हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक भाषण के दौरान आंसू बहाते देखा गया। मोदी अगर आंदोलन के दौरान बड़ी संख्या में हुई किसानों की मौत पर रोते तो हालात यहां तक न पहुंचते।’’ चौधरी ने आरोप लगाया कि अब सरकार की नजर अभूतपूर्व विनिवेश अभियान के तहत सार्वजनिक क्षेत्र की विशाल कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम को बेचने पर लगी है, इस बेरहम विनिवेश की वजह से देश की अर्थव्यवस्था का संतुलन पूरी तरह बिगड़ जाएगा और सारा धन कुछ मुट्ठी भर लोगों के हाथ में चला जाएगा। पूर्व सांसद ने कहा, "हम कृषि क्षेत्र में सुधार या उसके आधुनिकीकरण के विरोधी नहीं हैं। हर क्षेत्र में सुधार की जरूरत है लेकिन ऐसे किसी भी सुधार का खाका तैयार करने से पहले भारत में आम किसान की जोत के रकबे को ध्यान में रखा जाना चाहिये। सुधार के मायने तभी हैं जब किसानों को जमीन पर इसका फायदा मिलें।’’


कोई टिप्पणी नहीं: