रोहित का विस्फोटक शतक, भारत का मजबूत स्कोर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 13 फ़रवरी 2021

रोहित का विस्फोटक शतक, भारत का मजबूत स्कोर

rohit-sharma-century
चेन्नई, 13 फरवरी, सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा की 161 रन की विस्फोटक शतकीय पारी और उनकी उपकप्तान अजिंक्या रहाणे (67) के साथ चौथे विकेट के लिए 162 रन की बेहतरीन साझेदारी की बदौलत भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शनिवार को छह विकेट पर 300 रन का मजबूत स्कोर बना लिया। रोहित ने अपने शतक से कप्तान विराट कोहली के टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने के फैसले को सही साबित किया। रोहित ने 231 गेंदों पर 161 रन की पारी में 18 चौके और दो छक्के लगाए। रोहित का इंग्लैंड के खिलाफ यह पहला और अपने करियर का सातवां शतक था। रोहित ने रहाणे के साथ चौथे विकेट के लिए 310 गेंदों में 162 रन की साझेदारी कर भारत को तीन विकेट पर 86 रन की नाजुक स्थिति से उबार लिया। रहाणे ने अपनी खराब फॉर्म को पीछे छोड़ते हुए पिछली 15 पारियों में दूसरा फिफ्टी प्लस का स्कोर बनाया। रहाणे ने 149 गेंदों पर 67 रन में नौ चौके लगाए। चेतेश्वर पुजारा ने 21 रन बनाये जबकि विकेटकीपर ऋषभ पंत 33 रन बनाकर क्रीज पर हैं। ओपनर शुभमन गिल और कप्तान विराट खाता खोले बिना आउट हुए। रविचंद्रन अश्विन ने 13 रन बनाये जबकि पदार्पण टेस्ट खेल रहे अक्षर पटेल पांच रन बनाकर पंत के साथ क्रीज पर हैं। इंग्लैंड की तरफ से उसके स्पिनरों जैक लीच और मोईन अली ने दो-दो विकेट लिए। भारत ने लंच तक तीन विकेट खोकर 106 रन और चायकाल तक तीन विकेट खोकर 189 रन बनाये थे। रोहित ने अपने 50 रन 47 गेंदों में, 100 रन 130 गेंदों में और 150 रन 208 गेंदों में पूरे किये। दूसरे टेस्ट के पहले दिन का खेल पूरी तरह हिटमैन के नाम से मशहूर रोहित के नाम रहा। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सुबह टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। भारत ने सुबह के सत्र में ओपनर शुभमन गिल, चेतेश्वर पुजारा और विराट के विकेट गंवाए। गिल और विराट का खाता नहीं खुला जबकि पुजारा ने 21 रन बनाये। लंच के समय रोहित 78 गेंदों में 13 चौकों और एक छक्के की मदद से 80 रन और रहाणे 12 गेंदों में पांच रन बनाकर क्रीज पर थे। रोहित ने सुबह के सत्र में स्कोरिंग की सारी जिम्मेदारी अपने कंधों पर रखी। तीन विकेट गिरने के बावजूद रोहित ने तेज गति से रन बटोरकर इंग्लैंड के गेंदबाजों को हावी नहीं होने दिया। रोहित ने स्वीप का इस्तेमाल कर इंग्लैंड के दोनों स्पिनरों लेफ्ट आर्म स्पिनर जैक लीच और ऑफ स्पिनर मोईन अली की गेंदों पर चौके मारे। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ अपना पहला अर्धशतक भी पूरा किया।


भारत को टॉस जीतने के बाद दूसरे ओवर में ही झटका लगा जब ओली स्टोन ने गिल को पगबाधा कर दिया। गिल ने कोई शॉट ऑफर नहीं किया और अपना बल्ला हवा में उठा लिया। अम्पायर ने गिल को पगबाधा आउट करार दिया। रोहित और पुजारा ने दूसरे विकेट के लिए 85 रन की साझेदारी की। पुजारा ने लीच की गेंद पर फॉरवर्ड डिफेंसिव शॉट खेलने के प्रयास में स्लिप में बेन स्टोक्स को कैच थमा दिया। पुजारा ने 58 गेंदों में दो चौकों की मदद से 21 रन बनाये। कप्तान विराट को अली ने एक खूबसरत गेंद पर बोल्ड कर दिया। अली की गेंद टप्पा पड़ने के बाद तेजी से टर्न हुई और विराट के बल्ले तथा पैड के बीच में से निकलती हुई उनकी बेल्स गिरा गयी। विराट को इस तरह आउट होने पर भरोसा नहीं हुआ। उन्हें लगा कि शायद बेल्स विकेटकीपर के दस्तानों से लग कर गिरी हो। उन्होंने तुरंत डीआरएस का सहारा लिया लेकिन वह साफ़ बोल्ड थे और उन्हें पवेलियन लौटना पड़ा। विराट अपने करियर में 11 वीं बार शून्य पर आउट हुए। विराट को पहली बार किसी स्पिनर ने शून्य पर आउट किया। लंच के बाद रोहित और रहाणे ने दूसरे सत्र में टीम को कोई नुकसान नहीं होने दिया। इस सत्र में पहले सत्र के मुकाबले बल्लेबाजी कुछ धीमी रही लेकिन भारत ने इस दौरान कोई विकेट नहीं गंवाया। रोहित ने इस सत्र में अपना सातवां शतक पूरा किया। भारत ने लंच के तीन विकेट पर 106 रन से आगे खेलना शुरू किया और अपने स्कोर को चायकाल तक 189 रन तक पहुंचा दिया। चायकाल के समय रोहित 178 गेंदों में 16 चौकों और दो छक्कों की मदद से 132 और अजिंक्या रहाणे 80 गेंदों में पांच चौकों के सहारे 36 रन बनाकर क्रीज पर थे। चायकाल के बाद भी यह साझेदारी बढ़ती रही। यह साझेदारी 248 के स्कोर पर जाकर टूटी जब रोहित ने लीच पर एक बड़ा शॉट खेलने के प्रयास में मोईन को कैच थमा दिया। रोहित के आउट होते ही रहाणे की एकाग्रता भी टूटी और वह मोईन की गेंद पर स्वीप मारने की कोशिश में बोल्ड हो गए। रहाणे का विकेट 249 के स्कोर पर गिरा। ऋषभ पंत और अश्विन ने छठे विकेट के लिए 35 रन जोड़े। पंत ने अपनी पारी में अपने चिर परिचित अंदाज में कुछ शानदार बॉउंड्री लगायीं। अश्विन को इंग्लैंड के कप्तान जो रुट ने ओली पॉप के हाथों कैच कराया। अश्विन का विकेट 284 के स्कोर पर गिरा। पंत ने फिर पटेल के साथ दिन का शेष खेल सुरक्षित निकाल लिया। पंत ने 56 गेंदों पर नाबाद 33 रन में पांच चौके और एक छक्का लगाया है। अश्विन ने 19 गेंदों पर 13 रन बनाये। इंग्लैंड की तरफ से लीच ने 78 रन पर दो विकेट, मोईन ने 112 रन पर दो विकेट, स्टोन ने 42 रन पर एक विकेट और रुट ने 15 रन पर एक विकेट लिया। भारत ने इस मैच में अपनी एकादश में तीन परिवर्तन किये और वाशिंगटन सुन्दर की जगह को कुलदीप यादव, शाहबाज नदीम की जगह अक्षर पटेल और जसप्रीत बुमराह की जगह मोहम्मद सिराज को एकादश में शामिल किया। पटेल भारत के 302वें टेस्ट खिलाड़ी बने। 

कोई टिप्पणी नहीं: