40 प्रतिशत आबादी को बेरोजगार करने की साजिश : राहुल गांधी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 13 फ़रवरी 2021

40 प्रतिशत आबादी को बेरोजगार करने की साजिश : राहुल गांधी


अजमेर 13 फरवरी, कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार ने तीनों कृषि कानून के जरिए देश की 40 प्रतिशत आबादी को बेरोजगार करने की साजिश रची हैं। श्री राहुल राजस्थान के अपने दो दिवसीय दौरे के दूसरे दिन अजमेर जिले के रूपनगढ़ में आयोजित किसानों की टैक्टर रैली को संबोधित करते हुये कहा कि नरेन्द्र मोदी सरकार ने देश के 40 प्रतिशत लोगों का धंधा केवल दो मित्र उद्योगपतियों को सौंपने की तैयारी की है। इससे किसान छोटे व्यापारी, गरीब, मजदूर, रेडी पटरी वाले आदि सभी बेरोजगार हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि पहले कानून का लक्ष्य उद्योगपतियों के हाथों कृषि व्यवसाय का नियंत्रण देना है। इस कानून के मुताबिक सबसे बड़े उद्योगपति देश भर में जितना भी अनाज, फल एवं सब्जियां जमा करना चाहते हैं रख सकते हैं। अभी भी अनाज, फल, सब्जी के व्यवसाय का करीब 40 प्रतिशत नियंत्रण देश के इन्हीं दो उद्योगपतियों के हाथों में हैं। कृषि कानून लागू होने के बाद इनका 80 से 90 प्रतिशत कृषि व्यवसाय पर नियंत्रण हो जायेगा। इससे मंडियों की आवश्यता नहीं रहेगी। इससे किसान, फल सब्जी विक्रेता, रेहड़ी वाले और छोटे व्यापारी बेरोजगार हो जायेंगे। उन्होंने कहा कि किसान मर जायेंगे, लेकिन ऐसा नहीं होने देंगे। श्री गांधी ने कहा कि दूसरा कानून जमाखोरी बढ़ाने का है। इसके तहत उद्योपगतियों द्वारा अनाज, फल सब्जियां खरीदकर स्टोरेज कर लेंगे और बाद में उन्हीं किसानों को उूंचे दामों पर बेचेंगे। इससे किसान बर्बाद हो जायेंगे। श्री गांधी ने कहा कि तीसरे कानून के तहत कोई भी किसान उद्योगपतियों के सामने जाकर अपनी उपज का सही दाम मांगने के लिए अदालत में जाकर अपना पक्ष रखने का अधिकार नहीं मिल सकेगा। श्री गांधी ने कहा कि मोदी सरकार ने सत्ता में आने के बाद जीएसटी, नोटबंदी से पहले से छोटे व्यापारियों, मजदूरों एवं किसानों को परेशान कर रखा है। इन तीनों कृषि कानूनों वापस लेने के लिए मोदी सरकार पर दबाव बनाने के लिए केवल किसानों की जिम्मेदारी नहीं है बल्कि मजदूर, छोटे व्यापारी एवं युवा और हिन्दुस्तान के सभी लोेगों की यह जिम्मेदारी हैं। यह केवल कृषि का विषय नहीं है बल्कि भारत माता का मामला है। श्री गांधी ने श्री मोदी द्वारा किसानों से बातचीत करने के बयान पर कहा कि मोदीजी पहले तीनों कृषि कानून वापस लें तभी किसान उनसे बात करेगा। उन्होंने कहा कि श्री मोदी आप किसानों के घर में डाका डालने का काम कर रहे हैं और दूसरी ओर बातचीत करने का न्यौता भी दे रहे हैं। इससे पूर्व श्री गांधी किशनगढ़ हवाई अड्डे पर पहुंचने पर पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया। इसके बाद वह अजमेर जिले के सुरसरा गांव में लोकदेवता वीर तेजाजी के मंदिर पहुंचे और वहां पूजा अर्चना की। इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश प्रभारी अजय माकन, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंदसिंह ड़ोटासरा, पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट, चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा, कृषि मंत्री लालचंद कटारिया सहित अन्य लोग उनके साथ उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: