साइनसिने अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म फेस्टिवल में 200 से अधिक फिल्मों की प्रदर्शनी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 3 मार्च 2021

साइनसिने अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म फेस्टिवल में 200 से अधिक फिल्मों की प्रदर्शनी

cine-cine-international-felm-festival
शिवाय प्रोडक्शन्स के बैनर तले हो रहे साइनसिने अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म फेस्टिवल के प्रथम सत्र में ही दुनियाँ के 22 देशों से 200 से अधिक फिल्मों की प्रविष्ठि हुई । जिनमें से 82 फिल्मों के प्रदर्शन के लिए आधिकारिक प्रविष्ठि हुई है जिनका प्रदर्शन बसन्त पैलेस में होना तय है । इस अंतराष्ट्रीय फ़िल्म फरस्टिवल की खास बात ये है कि ये फेस्टिवल मुजफ्फरपुर बिहार में आयोजित हो रही है । मुजफ्फरपुर में पहली बार किसी अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म फरस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है, जिससे फ़िल्मों में काम करनेवाले मुजफ्फरपुर शहर के हर छोटे-बड़े कलाकारों का मनोबल बढ़ेगा । साइनसिने फ़िल्म फेस्टिवल में सभी 82 फिल्मों के प्रदर्शन दिनांक 5 से 7 मार्च को बसन्त पैलेस में होना है । इस अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म फेस्टिवल को भव्य बनाने के लिए तीन अलग-अलग प्रदर्शन कक्ष बनाया गया है । जिनमें फीचर फिल्म्स, शार्ट फिल्म्स, डॉक्युमेंट्रीज़ और रिजिनल फिल्म्स का प्रदर्शन होना है । जहाँ दुनियाँ के कई देशों के फ़िल्म कलाकार और कला प्रेमी का आना तय है मुजफ्फरपुर के कला प्रेमियों के लिए साइनसिने फ़िल्म फेस्टिवल एक सुनहरा अवसर लेकर आया है, जिससे फ़िल्म के क्षेत्र में काम करने वाले सभी कलाकारों को बड़े से बड़े फ़िल्म मेकर्स से मिलने का मौका मिलेगा । जिससे इन कलाकारों को बहुत कुछ सीखने समझने का मौका मिलेगा । इतना ही नहीं साइनसिने फ़िल्म फेस्टिवल में बिहार की कला संस्कृति को भी प्रमुखता से केंद्रित किया गया है जिससे दुनियाँ के कोने कोने से आए कला प्रेमी बिहार की कला संस्कृति को और गहराई से समझ सकेंगे । बिहार पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए भी साइनसिने फ़िल्म फेस्टिवल प्रतिबद्ध है ताकी बिहार के विषय मे जो भ्रांतियां है वो दूर हो और बिहार पर्यटन को बढ़ावा मिले । देश-विदेश से आए सभी मेहमानों को इस अन्तर्राष्ट्री फ़िल्म में झाँकी के रूप में बिहार की कला संस्कृति का झलक देखने को तो मिलेगा ही साथ ही साथ यहाँ के खान-पान की खुशबू भी पूरी दुनियाँ को आकर्षित करेगी ! साइनसिने अन्तर्राष्ट्री फ़िल्म फेस्टिवल में कहीं लिट्टी चोखे की खुशबू मिलेगी तो कहीं ठेकुओं की खुशबू और कहीं मिथिला के प्रसिद्ध पान और मखान की । कल दिनांक 03 मार्च 2021 को साइनसिने फ़िल्म फरस्टिवल के कोर टीम से एक विशेष मुलाकात में इसकी जानकारी दी गई इस विशेष मुलाकात में फेस्टिवल के निदेशक एन. मंडल, सह निदेशक अशोक 'अश्क', रचनात्मक निदेशक विकाश चौहान , प्रबंध निदेशक संतोष कुमार, किशल्य कृष्णा और संरक्षक शत्रुघ्न साहू के साथ पुरी कोर टीम के सदस्य अनुपम, साकेत साही, दीनबंधु महाजन और अन्य सदस्यों के साथ मुजफ्फरपुर के कई प्रशासनिक अधिकारी भी उपस्थित थे ।

कोई टिप्पणी नहीं: