झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 22 मार्च - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 23 मार्च 2021

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 22 मार्च

मप्र में षिवराजसिंह चैहान सरकार में कोरोनाकाल में भी हुए ऐतिहासिक कार्य, गरीब, मजूदर, हाथ ठेलागाड़ी व्यवसायी, किसानांे को आर्थिक रूप से बनाया गया मजबूत -ः भाजपा जिलाध्यक्ष श्री नायक

  • मप्र मंे भाजपा सरकार के एक वर्ष पूर्ण होने पर किया पत्रकारवार्ता का आयोजन

jhabua news
झाबुआ। मप्र मंे षिवराजसिंह चैहान सरकार के एक साल पूर्ण होने एवं पूर्व में कमलनाथ सरकार के 15 महीने की सरकार की विफलताआंे को लेकर जिला भाजपा कार्यालय पर 22 मार्च, सोमवार शाम 4 बजे से पत्रकारवार्ता का आयोजन किया गया। जिसमें भाजपा जिलाध्यक्ष लक्ष्मणसिंह नायक ने मप्र में षिवराजसिंह सरकार की 1 साल की उपलब्धियां गिनाते हुए बताया कि कोरानाकाल में सरकार ने ऐतिहासिक कार्य करते हुए विषेषकर हाथ ठेलगाड़ी व्यवसाईयों, किसानों मजबूरों और मध्यम वर्ग के लोगांे की मद्द कर उन्हें आर्थिक रूप से सषक्त बनाया। इसके साथ ही इस बीच जिले में भी कई विकास के कार्य हुए। भाजपा जिलाध्यक्ष श्री नायक ने बताया कि जो कार्य मप्र मंे पूर्व में कमलनाथ की कांग्रेस सरकार द्वारा 15 माह में नहंी किए गए, उससे दो गुना ऐतिहासिक और विकास के कार्य 1 साल में भाजपा के मुूखिया षिवराजसिंह चैहान द्वारा करके दिखाए गए है। जब मप्र में विगत वर्ष 2020 में 20 मार्च को भाजपा की सरकार बनी, उसके अगले दिन ही कोराना महामारी के चलते संपूर्ण भारत में लाॅकडाउन लग गया। लाॅकडाउन अवधि में ही भाजपा सरकार द्वारा कोरोना को मप्र मंे नियंत्रित करने के भरसक प्रयास किए गए। विषेषकर बच्चों और बुजुर्गों की सुरक्षा और देखभाल पर ध्यान दिया गया।


हर वर्ग का रखा जा रहा ध्यान

भाजपा जिलाध्यक्ष श्री नायक ने आगे बताया कि कोरोना की अवधि में मप्र के मुखिया श्री चैहान ने अपनी गंभीरता और सजगता का परिचय देते हुए स्कूल, काॅलेजों को बंद कर आॅनलाईन षिक्षा पद्धति की व्यवस्था की गई। मप्र में अधिक संक्रमित जिलों में संपूर्ण लाॅकडाउन के माध्यम से हालात पर काबू पाने के प्रयास किए गए। इसके साथ ही लाॅकडाउन में आषिंक छूट मिलने पर प्रदेष के गरीब एवं मध्यम वर्ग की आर्थिक स्थिति कमजोर होने पर उन्हंे मुख्यमंत्री पथ विक्रेता के माध्यम से फुटकर एवं ठेलागाड़ी व्यवसाईयों को, किसानों को उनकी पैदावार का उचित मूल्य दिलवारकर, मजदूरों को मनरेगा सहित अन्य योजनाओं के माध्यम से समय पर मजदूरी दिलाने और रोजगार की व्यवस्था करने के अतिरिक्त मध्यर्ग को भी अनेक योजनाओं के माध्यम से उन्हें लाभान्वित किया गया।


तालाब, गौषाला, विद्युत सेवा सहित कई सेवा कार्य किए गए

इसके साथ ही जिले में सिंचाई के लिए कई तालाबों का निर्माण, गौषालाओं का निर्माण के साथ हर गांव में बिजली उपलब्ध करवाने के लिए भी पूरजोर प्रयास किए। पत्रकारों द्वारा जिले में अभी तक सरकार द्वारा प्रभारी मंत्री की घोषणा नहीं किए जाने के सवाल पर भाजपा जिलाध्यक्ष श्री नायक ने कहा कि यह सरकार का फैसला है और सरकार द्वारा जल्द ही मप्र के सभी जिलों में सजगता से प्रभारी मंत्रियों की नियुक्तियां की जाएगी। साथ ही जिले में कई किसानों को सम्मान निधि नहीं मिलने के सवाल पर जिलाध्यक्ष ने कहा कि वह इस मामले को गंभीरता से लेकर दिखवाएंगे। मुख्यमंत्री षिवराजसिंह चैहान और पूर्व कंेद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच मनमुटाव एवं तालमेल नहीं स्थापित होने की बात को भी जिलाध्यक्ष श्री नायक ने सिरे से खारिज किया।


यह रहे उपस्थित

पत्रकारवार्ता का संचालन भाजपा जिला मीडिया प्रभारी योगेन्द्र नाहर ने किया। इस अवसर पर विषेष रूप से पूर्व विधायक झाबुआ शांतिलाल बिलवाल, भाजपा जिला उपाध्यक्ष अजय पोरवाल, भाजपा जिला कार्यालय मंत्री पं. महेन्द्रकुमार तिवारी, आईटी सेल जिला संयोजक अर्पित कटकानी, भाजपा मंडल झाबुआ के अध्यक्ष अंकुर पाठक, मंडल महामंत्री एवं युवा पार्षद पपीष पानेरी तथा जुवानसिंह गुंडिया, नगर आईटी सेल संयोजक विपिन गंगराड़े आदि उपस्थित थे।


आईपीएस अकेडमी झाबुआ में स्वतंत्रता सेनानियों एवं गुमनाम नायकों के योगदान पर व्याख्यान का हुआ आयोजन, जीवन गाथा और आाजदी मंे भूमिका पर प्रकाष डाला


jhabua news
झाबुआ। स्थानीय आईपीएस अकेडमी में “आजादी का अमृत महोत्सव” कार्यक्रम श्रृंखला के तहत स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों एवं गुमनाम नायकों के सम्मान में व्याख्यान का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में विद्यार्थी एवं प्राध्यापकगण उपस्थित रहे। अपने उद्बोधन में प्रभारी प्राचार्य विकास सक्सेना ने आजादी आंदोलन में स्वतंत्रता सेनानियों के कार्यो पर प्रकाश डाला। प्राध्यापक श्रेया संघवी द्वारा ऐसे नायको के बारे में जानकारी दी गई, जिन्होंने अपने प्राणों की आहूतियां तो दी, किन्तु उनका जिक्र आज इतिहास में या तो किया ही नहीं गया या फिर उन्हें यथेष्ठ सम्मान नहीं मिला, जिसके वे हकदार थे। आजादी का उत्सव इन महान गुमनाम नायको को याद किए बिना एवं बिना उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किए अधुरा है। कम ही लोग जानते है कि शहीद भगतसिंह जिन्होंने सेंट्रल असेंबली में न सिर्फ बम विस्फोट किया था, बल्कि घटनास्थल से भागने से भी इंकार किया था। इसी घटना पर उन्हें फँसी दी गई थी। तब उनके साथ उनके दो अन्य साथी राजगुरु एवं सुखदेव भी फांसी के फंदे पर झूले थे।


गुमनाक नायकों के योगदान पर प्रकाष डाला

प्राध्यापक ओमेशसिंह हाडा ने “प्रिसनर ऑफ वार” के रूप में बंदी सैनिको एवं उनके किये कार्यो पर प्रकाश डाला। साथ ही बांग्लादेश युद्ध में पाकिस्तान की पराजय के बारे में भी विद्यार्थियों को जानकारी दी। विद्यार्थियों में से भी रानी लक्ष्मीबाई के आंदोलन के बारे में अपने विचार व्यक्त किए गए। प्राध्यापक अफसर शेख द्वारा भीकाजी कामा, अरुणा आसिफ अली, सेनापति बापट, तारा रानी श्रीवास्तव आदि गुमनाम नायकों के आजादी आंदोलन में किए योगदान पर प्रकाष डाला।


यह रहा कार्यक्रम का उद्देष्य

कार्यक्रम का उद्देष्य विद्यार्थियों को पद महानायको के बारे में न सिर्फ जानकारी देना, बल्कि उनमे आजादी के महत्व को समझने या एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में देश के विकास में अपने योगदान देने को प्रोत्साहन देना था। कार्यक्रम का संचालन प्राध्यापक राजेश भूरिया ने किया। आभार प्राध्यापक शैलेन्द्र कुमावत ने माना।


पीजी काॅलेज झाबुआ में आजादी के अमृृत महोत्सव अंतर्गत दांडी मार्च की वर्षगांठ पर जिला स्तरीय निबंध प्रतियोगिता का किया आयोजन, विजेताओं को किया गया पुरस्कृत


jhabua news
झाबुआ। मप्र षासन उच्च षिक्षा विभाग मंत्रालय भोपाल के निर्देषानुसार शहीद चन्द्रशेखर आजाद शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय झाबुआ में दांडी मार्च की वर्षगांठ के अवसर पर स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूर्ण होने पर आजादी का अमृृत महोत्सव मनाया जा रहा है। जिसके अंतर्गत महाविद्यालय स्तर पर निबंध प्रतियोगिता “महात्मा गांधी की स्वदेषी अवधारणा“ पर आयोजन किया गया। जिसमें चयनित विद्यार्थियों ने जिला स्तरीय निबंध प्रतियोगिता में भाग लिया। इसमें विभिन्न महाविद्यालयों के 15 विद्यार्थी सम्मिलित हुए। प्रथम स्थान संजय मेड़ा शासकीय महाविद्यालय थांदला, द्वितीय साईलेस डामोर शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय झाबुआ एवं तृतीय कु. षिवानी धाकड़ शासकीय महाविद्यालय पेटलावद ने प्राप्त किया।


पुरस्कार वितरित किए गए

प्रतियोगिता के निर्णायक टीम में प्रो. दिलीपकुमार राठौर, लोहारसिंह ब्राहम्णे, विधि विषेषज्ञ डाॅ. संगीता मसानी (भाबोर), प्रो. जेमाल डामोर एवं अजय कुमार थे। यह प्रतियोगिता 22 मार्च, सोमवार को संपन्न हुई। इस अवसर पर वरिष्ठ प्राध्यापक डाॅ. अंजना मुवेल, डाॅ. राजू बघेल, प्रो. बीएल डावर ने छात्र-छात्राओं को पुरस्कार वितरित किए। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. प्रदीप कटारा ने किया तथा आभार डाॅ. संगीता मसानी (भाबोर) ने माना।


शारदा विद्या मंदिर हिन्दी माध्यम द्वारा शारदा प्रतिभा खोज परीक्षा-2021 का आयोजन आगामी 18 अप्रेल को, विद्यालय से 10 किमी की परिधि में आने वाले ग्रामों के बच्चंे ले सकेंगे भाग


jhabua news
झाबुआ। मप्र मंे साक्षरता के मामले में झाबुआ जिले की गिनती पिछड़े जिलों में आती है। एक तरह से जिले के विकास में ये निरक्षता बाधा बनी हुई है। जिले में शिक्षा के प्रति लोग जागरूक हो और गांव की हर प्रतिभा को श्रेष्ठ शिक्षा प्राप्त करने का अवसर मिले। आर्थिक परिस्थिति कही ंभी शिक्षा के मार्ग में बाधा ना बन पाए। इस पुनित उद्देश्य को लेकर शारदा विद्या मंदिर हिन्दी माध्यम ग्राम बिलिडोज झाबुआ द्वारा अनूठी पहल की जा रही है। ग्राम शिक्षा की ओर एक प्रयास के तहत शारदा प्रतिभा खोज प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है। जिसके अंतर्गत शारदा विद्या मंदिर बिलिडोज से 10 किमी की परिध्ाि में आने वाले प्रत्येक गांव के बच्चे सम्मिलित हो सकते है। उक्त परीक्षा आगामी 18 अप्रेल, रविवार को सुबह 11 बजे से आयोजित होगी। जिसका समय एक घंटे रहेगा। परीक्षा के बाद ही तत्काल परिणाम भी जारी किए जाएंगे। जिसमें 90ः अंक लाने वाले विद्यार्थी को कक्षा 12 वी तक निःशुल्क अध्ययन हेतु नामित किया जाएगा। इसी प्रकार 80ः अंक प्राप्ति करने पर 70 प्रतिषत शुल्क माफ, 70ः अंक प्राप्त करने 40 प्रतिषत शुल्क माफ एवं 60ः अंक प्राप्त करने वाले परीक्षार्थी का 15 प्रतिषत शुल्क माफ किया जाएगा। परीक्षा में भाग लेने वाले छात्रों के लिए झाबुआ बस स्टैंड  से विद्यालय तक निःशुल्क परिवहन व्यवस्था भी की जाएगी।


ये है आयोजन के संयोजक एवं प्रभारी

ग्रामीण शिक्षा की ओर एक प्रयास की यह परिकल्पपना संस्था के अथर्व शर्मा की है। परीक्षा के प्रभारी राकेश शाह है। संस्था् प्राचार्य डॉ. कंचन चैहान के साथ पुरी कार्ययोजना बनाई गई। 10 किमी की परिधि मंे ग्रामों में में संपर्क के लिए टीम प्रभारी भी बनाए जा चुके है। जिसमें राजेश चैहान, देवेन्द् व्यास, सतीश लाखेरी रितेश शर्मा एवं यशपाल ठाकुर को सम्मिलित किया गया है।


परीक्षा में भाग लेने के लिए इन मोबाईल नंबरों पर कर संपर्क

संस्था संचालक ओम शर्मा एवं श्रीमती किरण शर्मा बताया कि आने वाले वर्षो में शारदा विघा मंदिर मप्र का सर्वाधिक निःशुल्क अध्यापन कराने वाला विद्यालय बनेगा। उन्होंने झाबुआ के सभी आमजनो से अपेक्षा की है कि वे गांव की प्रतिभा को खोजने में सहायता करे। इच्छुक प्रतिभागी परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए मोबाईल नंबर 96308-21610, 88783-41896 एवं 95847-98543 पर संपर्क कर सकते है।


विश्व जल दिवस पर 1 वर्षीय मोरिंगा मिल कार्यक्रम इनरेम फाउंडेशन एवं सहयोगी संस्थाओं द्वारा संयुक्त रूप से किया गया लांच


jhabua news
झाबुआ। 22 मार्च, विश्व जल दिवस के उपलक्ष्य मैं इनरेम फाउंडेशन आणंद गुजरात द्वारा कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ के अटल सभागृह में मोरिंगा (सहजन) मिल एक वर्षीय कार्यक्रम लांच किया गया। इस कार्यक्रम मे मुख्य अतिथि वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक अधिकारी डाॅ. आईएस तोमर, रोटरी 3040 मंडल के स्वास्थ चेयरमेन भरत मिस्त्री, संकल्प ग्रुप झाबुआ की संयोजक श्रीमती भारती सोनी, बैंक ऑफ बड़ोदा स्वरोजगार संस्था से अजय अवस्थी, राष्ट्रीय फ्लोरोसिस निवारण कार्यक्रम के प्रभारी डॉक्टर एलएन गर्ग, पीएचई विभाग से कौशल्या रावत की उपस्थिति में सरस्वती माता एवं राजमाता विजयराजे सिंधिया को माल्यार्पण कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर जिला कॉर्डिनेटर सचिन वाणी द्वरा पॉवर पाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से मोरिंगा मिल कैंपेन के बारे मे विस्तार से बताया।


झाबुआ और आलीराजपुर जिले में फैल रहीं ये बिमारियां

उन्होंने बताया कि झाबुआ एवं अलीराजपुर जिला फ्लोरोसिस, सिकल सेल एनीमिया, कुपोषण, इन 3 बीमारियों मैं प्रदेश के टॉप 10 जिलों मैं आते है। वर्ष 2022 मैं आजादी के 75 साल पूरे होने वाले है, फिर भी ये बीमारियां इन दो जिलों से जड़ से समाप्त नहीं हुई हैं। इन तीनों का संबंध न्यूट्रिशन कैल्शियम, मैग्नीशियम, विटामिन सी, प्रोटीन, आयरन, विटामिन डी आदि पोषक तत्वों की कमी से होता है।


मोरिंगा स्वास्थ्य की दृष्टि से महत्वपूर्ण

रोटरी क्लब अपना मेघनगर के भरत मिस्त्री ने बताया कि झाबुआ एवं अलीराजपुर जिले मे 7 मंडल है। इन मंडलो मैं मोरिंगा कैंपेन संबंधित, जो भी सहयोग होगा। उसमें पूरी मदद की जाएगी। कार्यक्रम मुख्य अतिथि डॉ. आईएस तोमर ने बताया कि मोरिंगा एक जल्दी बढ़ने वाला पौधा है, ये हमारे स्वास्थ्य को तो ठीक की करता है। साथ ही आजीविका के अवसर प्रदान करने में महत्वपूर्ण है।जिले मे मोरिंगा के साथ सोयाबीन मैं भी प्रोटीन आदि पोषक तत्व पाए जाते है। 1 किलो सोयाबीन से 7 लीटर दूध बनाया जा सकता है। पनीर, सोयाबड़ी, आटे आदि मैं प्रयोग करे तो 50 प्रतिशत बीमारियां ठीक हो जाती है।


प्रतिदिन की डाईट में किया जाए उपयोग

डॉक्टर एलएन गर्ग राष्ट्रिय फ्लोरोसिस निवारण कार्यक्रम के प्रभारी ने बताया कि हर व्यक्ति को इसे अपनी डेली डाईट मैं उपयोग करना चाहिए, मोरिंगा तो हमारे कल्चर में पहले से थ। जिला चिकित्सालय में जल्द ही वाटर, यूरिन मं फ्लोराइड के लिऐ लेब स्थापित होने वाली है। संकल्प ग्रुप संयोजक श्रीमती भारती सोनी ने भी इस कारगर स्वास्थ्य प्रोजेक्ट में अपनी संस्थाओं की ओर से पूर्ण सहयोग देने की बात कहीं।


मेरिंगा के प्लांटस उपलब्ध करवाए जाएंगे

बैंक ऑफ बड़ोदा स्वरोजगार संस्था से उपस्थित अजय अवस्थी ने कहा कि मोरिंगा मील कार्यक्रम मे ट्रेनिंग मैं जो भी सहयोग होगा वह उपलब्ध करवाने की बात कहीं। नाबार्ड से नितिन अलोने ने बताया कि छत्तीसगढ़ मैं ट्राइबल एरिया मैं मोरिंग जूस, सब्जियां, पाउडर आदि का प्रयोग करते थे, साथ ही ये जानवरों के लिए फोड़र का काम करता है। नाबार्ड के द्वरा भी इस वर्ष वाड़ी परियोजना अंतर्गत आम, मोरिंगा, आँवला आदि प्लांट्स उपलब्ध करवाएं जाएंगे।


पोस्टर्स का किया गया विमोचन

इस दौरान सभी अतिथियों एवं प्रतिभागियों द्वारा मोरिंगा मील कैंपेन का पोस्टर लांच किया गया। सचिन वाणी ने बताया कि यह कैंपेन 22 मार्च से आरंभ होकर जनवरी 2022 तक चलेगा। जिसमे झाबुआ और अलीराजपुर जिले के 800 स्कूल, आगनवाडी, होस्टल में मोरिंगा का प्लांटेशन करने के साथ, मध्यान्ह भोजन बनाने वाले समूह को ब्लॉक अनुसार ट्रेनिंग, क्विज कॉम्पिटिशन, चित्रकला प्रतियोगिता आदि गतिविधियां आयोजित की जाएगी।


इनका रहा विषेष सहयोग

इस कार्यक्रम मे एक्सपर्ट के रूप मे डॉ. सुनिता सपुर, डॉ. मेघना शुक्ला, कल्पना बिलवाल जिला फील्ड  कार्यक्रम अधिकारी, सरिता खराड़ी द्वारा इस संबंध में अपने-अपने अनुभव साझा किए गए। कैंपेन मैं विभिन्न सरकारी विभागों में महिला एवं बाल विकास विभाग, स्वास्थ विभाग, पीएचई विभग, शिक्षा विीााग, फारेस्ट,    कृषि, उद्यानिकी विभाग, सामाजिक संस्थाएं एवं एनजीओ, रोटरी क्लब मेघनगर, आशा, आईजी.एसएस, संकल्प ग्रुप, समावेश, मां शक्ति, ब्रेड फॉर ट्रायबल विलेज आदि का विषेष सहयोग प्राप्त होेगा। वहीं कार्यक्रम को सफल बनाने मे डॉक्टर चंद्रशेखर, अंकिता पाठक, काशीराम बघेल, अर्चना डावर, खुशबू, प्रकाश डामोर, अजय, डॉ. भारत निगवाल, केवलसिंह डामोर, अजय चैहान जितेंद्र पाल, सरिता खराड़ी, सोहनसिंह भूरिया, अर्जुन खराडी आदि ने सहयोग प्रदान किया। कार्यक्रम बाद पत्रकारवार्ता के माध्यम से भी इनरेम फाउंडेषन के जिला कोर्डिनेटर सचिन वाणी ने मलिंगा मिल प्रोजेक्ट के बारे में विस्तार से जानकारी दी।


युवा शक्ति संगठन द्वारा मनकामेष्वर महादेव मंदिर के समीप प्याऊ का किया गया शुभारंभ, ग्रीष्मकाल में ठंडे जल की सुविधा उपलब्ध रहेगी


jhabua news
झाबुआ। युवा शक्ति संगठन की जिला इकाई झाबुआ द्वारा 22 मार्च, सोमवार को दोपहर 12 बजे शहर के छोटे तालाब स्थित श्री मनकामेष्वर महादेव मंदिर के समीप ग्रीष्मकाल में राह चलते लोगांे को ठंडा जल उपलब्ध करवाने के लिए प्याऊ का शुभारंभ किया गया। शुभारंभ जिले के वरिष्ठ समाजसेवी एवं वरिष्ठ रोटेरियन यषवंत भंडारी तथा सकल व्यापारी संघ अध्यक्ष नीरजसिंह राठौर ने राहगीरों को ठंडा पानी पिलवाकर किया। शुभारंभ अवसर पर वरिष्ठ रोटेरियन श्री भंडारी ने कहा कि निष्चित ही इस प्याऊ से इस मार्ग से निकलने वाले ग्रामीणजनों, रहवासियांे और वाहन चालकांे को ठंडा पानी मिलने से उनके सूख कंठ तृप्त हो सकेंगे और उनके प्यास की पिपासा शांत हो सकेगी। सकल व्यापारी संघ अध्यक्ष श्री राठौर ने भी युवा शक्ति संगठन के मानव सेवा के इस पुनित कार्य को सराहा।


24 घंटे उपलब्ध रहेगा पेयजल

संगठन के जिलाध्यक्ष घनष्याम राठौर (रितिक भाई) ने बताया कि प्रतिवर्ष संगठन द्वारा ग्रीष्मकाल मंे जल सेवा की व्यवस्था की जाती है। इसी के तहत इस वर्ष भी यह प्याऊ लगाया गया है। प्याऊ पर दो नवीन मटकों एवं ग्लास की व्यवस्था कर यहां से प्रतिदिन निकलने वाले आसपास के ग्रामीण क्षेत्रांे के लोगांे, रहवासियांे और वाहन चालकों को इस प्याऊ पर 24 घंटे पानी मिलेगा। उद्घाटन अवसर पर संगठन से जुड़े पदाधिकारियों में रविराजसिंह राठौर, सुनिल चैहान, डाॅ. वरूण बैरागी, मीडिया प्रभारी दौलत गोलानी आदि उपस्थित थे।


मां त्रिपुरा नर्सिंग काॅलेज की 250 छात्राओं द्वारा झाबुआ में प्रमुख स्थानांे पर कार्यालय के बाहर बनाई जाएगी मानव श्रृंखलाएं, कोविड से बचाव के लिए की जाएगी सराहनीय पहल


झाबुआ। मां त्रिपुरा कॉलेज ऑफ नर्सिंग झाबुआ द्वारा 23 मार्च, मंगलवार को दोपहर 11 बजे मप्र के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान के आव्हान पर कॉलेज की लगभग 250 छात्राओं द्वारा आजाद चैक ,राजवाड़ा, बस स्टेंड, बैंक, एवं सभी कार्यालयों के सामने गोले बनाए जाएंगे। उक्त कार्यक्रम की मुख्य अतिथि पूर्व आईएएस अधिकारी श्रीमती सूरज डामोर रहेंगी। कॉलेज की छात्राओं द्वारा इस दौरान झाबुआ की जनता को 2 मिनट खड़े रहकर मास्क एवं सोशल डिस्टेंसिंग बनाने का संकल्प दिलवाया जाएगा। यह अभियान कॉलेज के छात्र-छात्राओं द्वारा आगामी दिनांे में भी जारी रखा जाएगा एवं झाबुआ जिले में जहां पर भी कोविड-19 का टीका लगाया जा रहा है। वहा पर जाकर छात्र-छात्राओं द्वारा जनता को कोविड-19 का टीका लगाने के प्रति समझाइश दी जाएगी। कॉलेज के संचालक ओम शर्मा एवं प्राचार्य कपिल राठौर ने झाबुआ की जनता से आव्हान किया है कि 23 मार्च को होने वाले इस आयोजन में सहयोग प्रदान करे।


विष्व जल दिवस कार्यक्रम का आयोजन


jhabua news
झाबुआ। शहीद चन्द्रशेखर आजाद, शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय झाबुआ की एन.सी.सी. इकाई द्वारा 21, म0प्र0 प्रदेश बटालियन एन.सी.सी. रतलाम के कमांडिंग आॅफिसर कर्नल एच.पी.एच. अहलावत, प्रषासनिक अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल एनजेएस सिधु तथा संस्था प्रमुख एवं प्राचार्य डाॅ0 एच.एल. अनिजवाल के निर्देशानुसार महाविद्यालय के एन.सी.सी. अधिकारी केप्टन डाॅ0 गोपाल भूरिया के मार्गदर्शन में एन.सी.सी.केडेट्स द्वारा 22 मार्च को विष्व जल दिवस कार्यक्रम आयोजित किया गया। विष्व जल दिवस के तहत् जल के प्रति जागरूकता लाने के लिए व्याख्यान कार्यक्रम रखा गया । केप्टन डाॅ0 गोपाल भूरिया द्वारा व्याख्यान दिया गया । कार्यक्रम जल ही जीवन है, जल की उपयोगिता, उसके रख-रखाव पर विस्तृृत रूप से व्याख्यान दिया गया। अंडर आॅफिसर पौलुष बारिया एवं जयदीपसिंह जाटव ने भी पानी बचाव नारे के साथ केडेट्स को संबोधित किया एवं बताया कि 22 मार्च को विष्व जल दिवस के उपलक्ष्य में सारे विष्व में जल के प्रति सतत् जनजागरूता कार्यक्रम होने चाहिए। कार्यक्रम का संचालन एन.सी.सी. अधिकारी केप्टन डाॅ0 गोपाल भूरिया ने किया तथा आभार सीनियर अंडर आॅफिसर भरतचंद षर्मा ने व्यक्त किया । कार्यक्रम में 50 केडेट्स उपस्थित थेे।

कोई टिप्पणी नहीं: