बिहार : बराबरी, न्याय और आजादी के लिए संघर्ष जारी रहेगा : अनीता सिन्हा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 8 मार्च 2021

बिहार : बराबरी, न्याय और आजादी के लिए संघर्ष जारी रहेगा : अनीता सिन्हा

aipwa-women-day-bihar
पटना,8 मार्च. महिला अधिकारों की घोषणा का दिन है 8 मार्च.ऐपवा की नगर सचिव अनीता सिन्हा ने कहा कि बराबरी, न्याय और आजादी के लिए संघर्ष जारी रहेगा. अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन ने आज पटना गांधी मैदान में गांधी मूर्ति के नीचे अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस समारोह का आयोजन किया.  इस समारोह में महिलाओं और छात्राओं ने बड़ी संख्या में भाग लिया.आरंभ में महिला आंदोलन और कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन के शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई . आयोजन को संबोधित करते हुए ऐपवा की नगर सचिव अनीता सिन्हा ने कहा की 8 मार्च मनाने का जो हमें अवसर मिला है इसे हासिल करने के लिए अतीत में महिलाओं को लंबा संघर्ष करना पड़ा है.पूरी दुनिया में काम के घंटे कम करने, मताधिकार,संपत्ति पर महिलाओं के अधिकार के लिए संघर्ष करना पड़ा .भारत में आजादी की लड़ाई में महिलाओं ने आगे बढ़ कर भूमिका निभाई थी और तब हमारे संविधान में महिलाओं के लिए बराबरी  का प्रावधान किया गया. लेकिन ,आज हमारे संविधान प्रदत अधिकार खतरे में है.व्यवहार में आज भी महिलाओं के साथ भेदभाव और अत्याचार जारी है . 8 मार्च हमारे लिए अपने संघर्षों  को जारी रखने के संकल्प का दिन है. सभा को ऐपवा की नेता अनुराधा, विभा गुप्ता, अफ्शां जबीं, नसरीन बानो, रीना प्रसाद, डा.इंदू.आसमा खानम, मंजू देवी,नीतू,राखी मेहता,आप पार्टी की रूपम झा,नागरिकता संशोधन कानून विरोधी आंदोलन की शाहिना, नसीमा खातून, कौशर, समेत कई महिलाओं ने संबोधित किया.पूजा, आरफा, नाजनीन असरफ व अन्य छात्राओं ने भी अपने विचार रखे.कोरस की संयोजक समता राय और रिया ने गीत प्रस्तुत किया.आयोजन स्थल को महिलाओं के अधिकारों की घोषणा करते पोस्टरों से सजाया गया था .महिलाओं ने यहां सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किया.

कोई टिप्पणी नहीं: