बिहार : संत जेवियर हॉस्टल फोर वीमेंस में रैंगिग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 10 मार्च 2021

बिहार : संत जेवियर हॉस्टल फोर वीमेंस में रैंगिग

ranging-in-patna-women-hostel
पटना. दीघा थाना क्षेत्र के फेयर फील्ड कॉलोनी में है संत जेवियर हॉस्टल फोर वीमेंस.संत जेवियर कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट की सीनियर्स और जूनियर्स छात्राएं रहती हैं. जूनियर ने सीनियर्स पर रैंगिग का आरोप लगा दी है.उसका आरोप है कि कॉलेज से निकलवा देने की धमकी देकर हाथ-पांव पकड़ ली.दीघा थाने में शिकायत करने से पुलिस हॉस्टल में आकर छानबीन कर रही है. आशियाना-दीघा मार्ग पर अवस्थित है संत जेवियर कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट. इस कॉलेज में पढ़ने वाली प्रथम वर्ष की छात्रा ने सीनियर्स पर आरोप लगाया है कि उनके  रैगिंग किया जा रहा है.इस मामले की लिखित जानकारी दीघा थाने में आवेदन देकर कहा है कि मेरे साथ कॉलेज की ही कुछ लड़कियों ने रैगिंग की कोशिश की धमकी दी और मुझे बंधक बना लिया, फिलहाल दीघा थाना पुलिस लड़की से पूछताछ कर रही है.      संत जेवियर कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट की फ‌र्स्ट ईयर की छात्रा ने अपने सीनियर पर रैगिंग का आरोप लगाया है.छात्रा ने दीघा थाने को दिए आवेदन में बताया है कि कॉलेज की 12 छात्राएं अक्सर रैगिंग करती है. विरोध करने पर उठवा लेने और एसिड फेंकवाने की धमकी देती है.शिकायत मिलने के बाद मंगलवार की देर शाम दीघा थाने की पुलिस हॉस्टल पहुंचकर मामले की जांच की.थानेदार राजेश सिन्हा ने बताया कि शिकायत की जांच की जा रही है.कॉलेज में एंटी रैगिंग सेल होता है.उसकी जांच रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी. छात्रा ने वार्डन पर भी रैगिंग करने वाली छात्राओं का साथ देने का आरोप लगाया है.छात्रा वार्डन पर अभिभावक से नहीं मिलने देने का भी आरोप लगाई है. वहीं, कॉलेज प्रबंधन का कहना है कि कॉलेज का अपना कोई हॉस्टल नहीं है.छात्रा निजी हॉस्टल में रहती है.उसने एंटी रैगिंग सेल से किसी तरह की शिकायत दर्ज नहीं कराई है.रैगिंग को लेकर यूजीसी की गाइडलाइन का पालन किया जाता है.मामला संज्ञान में आने पर जांच कर दोषियों पर नियम के अनुसार कार्रवाई की जाएगी. 

कोई टिप्पणी नहीं: