ऋषिकेश में अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव का समापन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 7 मार्च 2021

ऋषिकेश में अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव का समापन

international-yoga-day-ends
ऋषिकेश (उत्तराखंड), सात मार्च, पिछले सप्ताह यहां शुरू हुए अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव का रविवार को समापन हो गया । उत्तर प्रदेश के जमाने में 1992 से हर साल होते आ रहे योग महोत्सव के समापन समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने कहा कि योग से मन व शरीर को नई उर्जा मिलती है। उन्होंने कहा कि योगाभ्यास रोजाना करना चाहिए जिससे रोगी भी निरोग हो जाता है। राज्यपाल के अनुसार यह प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने योग की ख्याति को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंचाया और वह चाहते है कि योग को लेकर देश पूरे विश्व का प्रतिनिधि बने। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि योग से भारत विश्वगुरु बन सकता है। योगाभ्यास की प्राचीन पद्धतियों को जानने आये 425 प्रशिक्षक व प्रशिक्षुओं ने इस महोत्सव में प्रशिक्षण लिया। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल ने कहा कि हर माह की 21 तारीख को विधानसभा में योगाभ्यास किया जाता है। आयुष मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि 1992 में तत्कालीन उत्तर प्रदेश सरकार में पर्यटन राज्य मंत्री रहते उन्होंने ही ऋषिकेश में प्रतिवर्ष एक मार्च से सात मार्च तक अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव की शुरूआत की थी । इस अवसर पर फिजी समेत तीन देशों के राजदूतों ने भी योग की बढ़ती महत्ता पर प्रकाश डाला।

कोई टिप्पणी नहीं: