केन्द्र सरकार को व्यापारी चला रहे हैं : टिकैत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 14 मार्च 2021

केन्द्र सरकार को व्यापारी चला रहे हैं : टिकैत

modi-government-runing-by-buisinessman-tikait
रीवा (मध्य प्रदेश), 14 मार्च, भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश सिंह टिकैत ने रविवार को भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार को कोई राजनीतिक पार्टी नहीं, बल्कि व्यापारी चला रहे हैं। टिकैत ने रीवा में किसान रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘केन्द्र सरकार को राजनीतिक पार्टी नहीं चला रही है। इसे व्यापारी चला रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि भूख से फायदा उठाने का एक तरह का नया व्यापार आजकल दुनिया में चल रहा है। टिकैत ने कहा, ‘‘महिलाएं तीज, त्योहार एवं शादियों में एक साल में 17 बार सोना पहनती है। लेकिन आदमी को भूख एक साल में 700 बार लगती है, दिन में दो बार लगेगी भूख।’’ उन्होंने केन्द्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा, ‘‘इसलिए उन्होंने (केन्द्र सरकार ने) कहा कि भूख का कारोबार करो। भूख का कारोबार तब होगा, जब अनाज कब्जे में होगा और अनाज पर व्यापार होगा।’’ टिकैत ने कहा, ‘‘14 लाख मीट्रिक टन की विशाल क्षमता वाले गोदाम बनाये गये हैं। इतने बड़े-एड़े गोदाम बनाये गए हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ये गोदाम पहले बनाए गये और केन्द्र सरकार के नये कृषि कानून बाद में आए। इसका मतलब यह है कि यह केन्द्र सरकार किसी (राजनीतिक) पार्टी की नहीं है, बल्कि व्यापारियों की सरकार है। यह कारोबारियों के हाथों की कठपुतली है।’’ किसान नेता ने आगे कहा, ‘‘हमें इससे छुटकारे के लिए आंदोलन चलाना होगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘पुराने समय के भाजपा के बड़े नेताओं को भी चुप करा दिया गया है। वे कुछ नहीं बोल रहे हैं। हमें उन्हें भी मुक्त करने के लिए काम करना होगा।’’ टिकैत ने कहा, ‘‘तीन नए कृषि कानूनों से अकेले किसान ही मुसीबत में नहीं हैं। रेलवे को भी बेच दिया गया है। युवाओं को विद्रोह करना चाहिए था। लेकिन वे सोते रहे और देश बिक गया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘विपक्ष कमजोर था। विरोध करने का काम तो विपक्ष का था। लेकिन उसका भी मनोबल गिर गया और उसे भी बोलने नहीं दिया गया। (ज्योतिरादित्य की ओर इशारा करते हुए) विपक्ष के कुछ नेता भाग गये और दूसरी पार्टी में जाकर शामिल हो गये। विपक्ष का एक नेता जवान एवं मजबूत था, उसे भी अपने में शामिल कर दिया।’’ टिकैत ने केन्द्र पूर्ववर्ती कांग्रेस नीत संप्रग सरकार की तारीफ की और कहा कि इसके कारण पिछले 14 वर्षों में देश में गेहूं की कमी नहीं हुई है। उन्होंने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘ये लुटेरे देश में (सत्ता) आ गए हैं। हमें इन लुटेरों से लड़ना होगा। वह लुटेरों का आखिरी बादशाह साबित होगा। हम इस बादशाह को बदलने जा रहे हैं।’’ हालांकि, अपनी टिप्पणी में उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया। टिकैत ने कहा कि आने वाले दिनों में समाचारों को छापने एवं दिखाने के लिए भी एक सेंसर बोर्ड बना दिया जाएगा। उन्होंने किसानों से कहा कि जब तक नए कृषि कानूनों को निरस्त नहीं किया जाता, तब तक किसान जिलाधिकारी कार्यालयों में बैठकर अपना गेहूं 1975 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से बेचेंगे। उन्होंने किसानों से कहा कि अपने घरों से बाहर आकर जिला स्तर पर विरोध प्रदर्शन करें। टिकैत ने कहा, ‘‘किसानों का सम्मान और मजदूरों एवं युवाओं का भविष्य दांव पर है। हमें अपने देश को बचाना होगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आंदोलन से हटना है तो माफी नामा भर देना। देश बंधन में है, गुजरात बंधन में है। इसे आजाद कराना है।’’ टिकैत ने कहा,‘‘आंदोलन करने पड़ेंगे। किसानों की आजादी की लड़ाई है।’’

कोई टिप्पणी नहीं: