दरभंगा : विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त शिक्षा कर्मियों को पुनः पेंशन का भुगतान नहीं. - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 5 मार्च 2021

दरभंगा : विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त शिक्षा कर्मियों को पुनः पेंशन का भुगतान नहीं.

  • ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त शिक्षा कर्मियों को पुनः फरवरी माह का पेंशन का भुगतान नहीं किया गया है .

dr binod-chahudhry
दरभंगा (आर्यावर्त संवाददाता) 
शिक्षाकर्मियों में पेंशन भुगतान नहीं होने से आक्रोश व्याप्त है. उल्लेखनीय है कि विश्वविद्यालय को 20 करोड़ की राशि की आवश्यकता प्रति मा ह पेंशन भुगतान मैं लगता है विश्वविद्यालय ने पहले भी सरकार को इस संबंध में पत्र लिखा तथा 23 फरवरी को पटना में आयोजित समीक्षा बैठक में उक्त विषय पर लंबी बहस के बाद 20 करोड़ की राशि प्रतिमाह पेंशन हेतु विश्वविद्यालय को दिए जाने पर सहमति बनी और इससे संबंधित पत्र विश्वविद्यालय को प्राप्त हो चुकी है लेकिन राशि निर्गत नहीं किए जाने के कारण अवकाश प्राप्त शिक्षा कर्मियों को पेंशन का भुगतान नहीं किया गया वही कार्यरत शिक्षा कर्मचारियों को वेतन का भुगतान कर दिया गया हैl इस असमानता को लेकर सेवानिवृत्त शिक्षाकर्मियों में आक्रोश व्याप्त हैl सूत्रों का कहना है कि शिक्षकों एवं कर्मचारियों के वेतन भुगतान में विश्वविद्यालय को 17 करोड़ की राशि प्रतिमा ह लगती है सरकार से यह राशि मिलने के कारण फरवरी माह का वेतन भुगतान कर दिया गया लेकिन पेंशन की राशि के अभाव में अवकाश प्राप्त शिक्षा कर्मियों को पेंशन नहीं दिया गया। बिहार विधान परिषद के पूर्व सदस्य एवं सिंडिकेट सदस्य प्रोफेसर विनोद कुमार चौधरी ने सरकार से अविलंब पेंशन की राशि निर्गत करने की मांग की गई है उन्होंने कहा कि बार-बार टेंशन रोक दिया जाना आक्रोश का कारण बन रहा है और यदि ऐसा होता रहा तो आंदोलन से इनकार नहीं किया जा सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं: