सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 10 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 10 अप्रैल 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 10 अप्रैल

कोरोना योद्धाओं को सरकार दे अलग से भत्ता, राष्ठ्रीय मानव अधिकार मंच ने की शासन से मांग


सीहोर। राष्ठ्रीय मानव अधिकार मंच के प्रदेशाध्यक्ष नौशाद खान ने शनिवार को कहा की दुनिया में खतरनाक बीमारी करोना ने फिर पैर पसारे हैं। मजबूती से देश और प्रदेश सरकार बुरे वक्त का मुकाबला कर रहीं है। यह हकीकत है कि बीमारी बहुत खतरनाक है। एैसे समय में स्वास्थ्य विभाग पुलिस विभाग सहित  नगर प्रशासन के अधिकारी कर्मचारी गरीब तबके के लिए इमानदारी से अपना काम कर रहे है। एैसे कोरोना योद्धाओं को सरकार के द्वारा अलग से भत्ता उपलब्ध कराया जाए जिस से की उनका मनोबल बना रहे। इधर देश में करोना कुछ अनोखे ढंग का है। देश में जहां-जहां चुनाव होते है करोना वह जाता नहीं है। चुनावी रैलियों में पक्ष विपक्ष के नेता लाखों लोगों के बीच अपनी कुर्सी बचाने की बात तो करते हैं मगर करोना कि बात कोई नहीं करता है। राष्ट्रीय मानव अधिकार मंच प्रदेश अध्यक्ष नौशाद खान ऑल इंडिया राजीव गांधी युवा मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष कुतुबुद्दीन शेख, आमिर मौलाना खान, शैली छाबड़ा, अयूब खान, शकील अहमद, आफताब अली, फरान मिया,ं जी एस ठाकुर, आरिफ कुरैशी,  अजहर बाबा, महमूद अली, कृष्ण मालवीय, सलीम खान, कमल कुमार चौधरी, अली खान आदि ने जनता से मास्क लगाने,टीका लगवाने,2 गज की दूरी रखने की अपील की है।


जिला दण्डाधिकारी ने धारा 144 के तहत जारी किये प्रतिबंधात्मक आदेश, लॉक डाउन में निर्धारित समय के लिए खुलेंगी दुध, फल, सब्जी की दुकाने


जिला क्राईसेस मेनेजमेंट ग्रुप की बैठक मे लिए गए निर्णयों को लागू करने के लिए कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री अजय गुप्ता ने धारा 144 के तहत अनेक प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए है। यह प्रतिबंधात्क आदेश 30 अप्रैल 2021 तक के लिए प्रभाव शील रहेंगे। कलेक्टर द्वारा जारी आदेश के तहत समस्त सामाजिक कार्यक्रम शादी, मृत्युभोज इत्यादि मे 50 से अधिक व्यक्ति सम्मिलित होना प्रतिबंधित रहेगा। नर्मदा नदी के घाटो पर समूह में स्नान करना पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। जिले के समस्त नगरीय क्षेत्रों में शुक्रवार को शाम 6 बजे से सोमवार प्रात: 6 बजे तक पूर्णत: लॉक डाउन रहेगा। लॉक डाउन की अवधि मे दूध डेयरी, फल, सब्जी की दुकाने प्रात: 6 बजे प्रात: 10 बजे तक तथा शाम 5 बजे से शाम 8 बजे तक खुली रहेंगी। यह आदेश तत्काल प्रभाव से प्रभावशील रहेगा।  


जिला स्तरीय क्राईसेस मेनेजमेंट की बैठक में लिए गए अनेक निर्णय

  • नर्मदा घाटो पर स्नान प्रतिबंधित, शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रो में हॉट-बाजार पूर्णत: बंद, शादी, मृत्यु, दाह संस्कार तथा मृत्युभोज मे 50 से अधिक लोग शामिल नही हो सकेंगे

sehore news
जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को रोकने तथा कोविड-19 की गाईड लाईन का पालन कराने के लिए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता की अध्यक्षता में जिला स्तरीय क्राईसेस मेनेजमेंट ग्रुप की बैठक आयोजित की गई। बैठक में सदस्यों के सुझावों पर अनेक निर्णय लिए गए। बैठक मे लिए गए निर्णय के बारे मे जानकारी देते हुए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने बताया कि जिन स्थानों पर कोरोना हॉट-स्पॉट पाए जाऐंगे वहां माईक्रो कंटेनमेंट एरिया बनाया जाएगा। माईक्रो कंटेनमेंट एरिये की मॉनीटरिंग का कार्य संबंधित एसडीएम/ मुख्य नगर पालिका अधिकारी द्वारा टीम गठित कर किया जाएगा। हॉट-स्पॉट एरिया तथा नगरीय क्षैत्र के 45 वर्ष के समस्त निवासीयों का वैक्सीनेशन प्राथमिकता से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा टीम गठित कर किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग के अमले को मोबाइल फीवर क्लिनिक तत्काल प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया।


नर्मदा घाटो पर स्नान प्रतिबंधित

यह भी निर्णय लिया गया कि नर्मदा के तटीय घाटो पर तथा जिले कि अन्य नदी घाटो पर स्नान पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। समस्त अनुविभागीय अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि किसी भी घाट पर स्नान हेतू भीड़ एकत्रित न हो। इन घाटो पर अन्य जिलो से स्नान करने हेतु लोग न आए इसके लिए एसडीएम से समन्वय कर रोकने का निर्णय लिया गया है।


दूध डेयरी, फल, सब्जी की दुकाने निर्धारित समय के लिए खुलेंगी

समिति द्वारा निर्णय लिया गया कि लॉक डाउन के दौरान दूध डेयरी, फल, सब्जी की दुकाने प्रात: 6 बजे से प्रात: 10 बजे तक तथा शाम 5 बजे से शाम 8 बजे तक खुली रहेंगी।


अस्थाई जेल बनाने का निर्णय एसडीएम लेंगे

क्राईसेस मेनेजमेंट ग्रुप द्वारा जिले के अन्य उपखण्ड मुख्यालय पर आवश्यकतानुसार कोविड-19 प्रोटोकाल का उल्लंघन की स्थिति में एसडीएम द्वारा अस्थाई जेल बनाने का निर्णय लिया गया किन्तु अस्थाई जेल में बुजुर्गो, महिलाओं एवं बच्चो को  अस्थाई जेल नही भेजने पर सहमति व्यक्त की गई।


बाहर से आने वाले मजदूरों की रखी जाएगी  जानकारी

वर्तमान मे मजदूरी अथवा अन्य कार्य से दूसरे राज्य से आने वाले  प्रत्येक व्यक्ति की जानकारी संबंधित ग्राम पंचायत मे एक पंजी संधारित कर प्रविष्ट की जाएगी। यह कार्यवाही जनपद पंचायत के सीईओं अपने अधिनस्थ अमले से कराना सुनिश्चित करेंगे।


रोको-टोको अभियान सघनता से चलाने का निर्णय

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए वर्तमान मे जन सामान्य को जागरूक करने लिए एवं मॉस्क नही लगाने वाले व्यक्तियों पर जुर्माने की कार्यवाही की जा रही है। इस कार्यवाही तथा रोको- टोको अभियान को और अधिक सघन रूप से चलाने का निर्णय क्राईसेस मेनेजमेंट ग्रुप द्वारा लिया गया है।


हॉट-बाजार बंद, मृत्यु, मृत्युभोज, दाहसंस्कार तथा विवाह में 50 से अधिक व्यक्ति नही होंगे शामिल

लॉकडाउन के दौरान शहरी तथा ग्रामीण क्षैत्र मे हॉट-बाजार पूर्णत: बंद रखने का निर्णय लिया गया है एवं यह भी निर्णय लिया गया कि शादी, दाह संस्कार, मृत्युभोज में 50 से अधिक लोग शामिल नही हो सकेंगे। समस्त निजी चिकित्सालय कोविड-19 के उपचार तथा जॉच शासन द्वारा निर्धारित दर पर अनिवार्य रूप से करेंगे। तथा इन दरों को प्रदर्शित करेंगे। काईसेस मेनेजमेंट की बैठक में विधायक आष्टा श्री रघुनाथ सिंह मालवीय, पुलिस अधीक्षक श्री एसएस चौहान, सीईओ जिला पंचायत श्री हर्ष सिंह, एडीएम श्रीमती गुंचा सनोबर, जिला भाजपा अध्यक्ष श्री रवि मालवीय,  जिला प्रवक्ता श्री आर के गुप्ता, पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती अमिता अरोरा, पूर्व जिला अध्यक्ष श्री सीताराम यादव, श्री राजेश राठौर सहित अनेक सदस्य उपस्थित थे।


कोविड मरीजों के इलाज के लिये निजी अस्पतालों को डिस्प्ले कराना होगा पैकेज

  • इलाज और जांच का पैकेज मरीजों-परिजनों को पहले बताएगा अस्पताल प्रबंधन
  • एक जैसे इलाज के लिये अलग-अलग मरीजों से अलग-अलग राशि वसूलने पर होगी कठोर कार्रवाई

कोविड-19 के मरीजों की बढ़ती हुई संख्या को दृष्टिगत रखते हुए मरीजों को त्वरित और समुचित उपचार की दृष्टि से कलेक्टर श्री अजय गुप्ता की अध्यक्षता में निजी अस्पतालों के  संचालकों के साथ बैठक आयोजित की गई। बैठक में कलेक्टर श्री गुप्ता ने सभी अस्पताल संचालकों से 30 प्रतिशत बिस्तर कोविड मरीजों के लिये आरक्षित रखने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। बैठक में कलेक्टर श्री गुप्ता ने कोविड मरीजों के इलाज के लिये हर अस्पताल अपना  पैकेज प्रदर्शित करें। उन्होंने इस पैकेज में जनरल वार्ड, आइसीयू में भर्ती, ऑक्सीजन, ऑक्सीजन के बगैर इलाज, मरीज के लिये आवश्यक पृथक-पृथक इलाज के पृथक-पृथक दरों के साथ ही एक्सरे, सीटी स्केन आदि सभी जांचों की शुल्क डिस्पले करने के निर्देश दिए। ताकि हर मरीज या उसके परिजन को यह पता हो कि इलाज के लिये कितनी राशि अस्पताल प्रबंधन द्वारा ली जायेगी। उन्होंने कहा कि कोविड के एक जैसे मरीजों के एक समान इलाज के लिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा प्रदर्शित पैकेज के अनुसार एक जैसी राशि ली जानी चाहिए। यदि एक जैसे इलाज की अलग-अलग मरीजों से अलग-अलग राशि की शिकायत मिलने पर ऐसे निजी अस्पतालों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश में कोविड-19 के इलाज के लिये प्रदेश सरकार द्वारा बनाये गये सार्थक पोर्टल के लिये सीएमएचओ को सही जानकारी देने के निर्देश दिए। बैठक में सीएमएचओ श्री सुधीर कुमार डेहरिया ने सार्थक पोर्टल तथा निजी अस्पतालों में कोविड के इलाज के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपाल अधिकारी श्री हर्ष सिंह तथा जिले के निली अस्पतालों के संचालक उपस्थित थे।


बुलंद हौसले से अपने सपने को साकार किया चन्दर सिंह जीरो से शुरूआत करने वाले चन्दर सिंह आज सफल उद्यमी हैं


sehore-news
हमारे देश में अधिकांश युवा उच्च शिक्षा के बाद एक अच्छी नौकरी के लिए संघर्षरत रहते हैं। जिसमें कुछ ही युवा सफल हो पाते हैं और उनके माता पिता भी बच्चों को अच्छा जॉब मिलने पर संतुष्ट हो जाते हैं। जब सभी मित्र अच्छी नौकरी पाने की उम्मीद में पढ़ाई कर रहे थे, तब सीहोर जिले के मगरखेड़ा गांव का बालक चन्दर सिंह नौकरी करने की बजाय अपना खुद का उद्योग लगाकर दूसरों को रोजगार देने का सपना देख रहा था। पढ़ाई पूरी करने के बाद चन्दर सिहं के इस सपने को साकर करने में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना और प्रधान मंत्री सृजन कार्यक्रम ने मदद की। श्री चन्दर सिंह आज इंडियन कैटल फीड इंडस्ट्री के मालिक हैं और 18 से 20 लोगों को नियमित रोजगार दे रहे हैं। इस इंडस्ट्री का विस्तार कर 1000 से अधिक लोगों को रोजगार देने का उनका का सपना है और इस सपने को साकार करने की दिशा में निरन्तर आगे बढ़ रहे हैं। श्री चन्दर सिंह ने हायर सेकेन्ड्री  और बीएसडब्ल्यू की पढ़ाई करने के बाद 2017 अपनी इंडस्ट्री बड़ियाखेड़ी में नया इंडस्ट्री एरिया बायपास पर स्थापित की। वे इस इंडस्ट्री में पशुओं का आहार बनाने का काम शुरू किया। उद्योग लगाने के लिये उन्होंने मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत 5 लाख रूपय का लोन लिया। इस लोन पर एक लाख 50 हजार रूपये की सब्सीडी मिली। इसके बाद चन्दर सिंह ने एमएसएमई प्रोत्साहन योजना के तहत अपने उद्योग का विस्तार करने 21 लाख रूपयो का लोन लिया। चन्दर ने बताया कि इस लोन की राशि से 30 लाख रूपये लागत की मशीन लगाएंगे। श्री चन्दर ने बताया कि वर्तमान में 20 लोग उसकी इंडस्ट्री काम करते हैं। स्टॉफ के वेतन पर 2 लाख रूपये खर्च होता है। मासिक टर्नओर लगभग 40 लाख रूपये है।  चन्दर सिंह बताया कि पढ़ाई के बाद न तो उसके पास फूटी कौड़ी थी और न ही उनके परिवार के पास इतनी पूंजी भी थी कि वे अपना उद्योग लगा सके। यह सफर चन्दर सिंह ने शून्य से शुरू किया और अपने बुलंद हौसले से शिखर तक पहुंचे। सफलता के इस मुकाम तक पहुंचने के लिए चन्दर सिंह मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान और उनके द्वारा शुरू की गयी मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना को श्रेय देते हैं। श्री चन्दर सिंह युवाओं को संदेश देते हैं कि बड़े सपने देखना चाहिए और उसे पूरा करने के लिए दिनरात परिश्रम करना चाहिए। वे कहते हैं कि बुलंद हौसला हो और इरादा मजबूत हो तो न मुमकिन कुछ भी नहीं है।


प्रदेश में तीन गुना हुई ऑक्सीजन की आपूर्ति : मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • प्रति माह 1 लाख रेमिडिसीवर इंजेक्शन उपलब्ध कराये जायेंगे, जन-जागरूकता, इलाज और टीकाकरण से होगा कोरोना पर नियंत्रण पैनिक की आवश्यकता नहीं, कोरोना के प्रबंधन पर मंत्रि-परिषद की बैठक सम्पन्न 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में फैलते कोरोना संक्रमण को देखते हुए इलाज की हर संभव व्यवस्था की जा रही है। प्रदेश में तीन दिन में तीन गुना अधिक ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित की गई है। तीन दिन पहले जहाँ 60 मीट्रिक टन ऑक्सीजन प्राप्त हो रही थी, वहीं आज 180 मीट्रिक टन की आपूर्ति हुई है। प्रदेश में प्रति माह 1 लाख रेमिडिसीवर इंजेक्शन की डोज उपलब्ध कराई जायेगी। मरीजों के लिए 50 हजार रेमिडिसीवर इंजेक्शन के आर्डर जारी किये जा चुके हैं। इसकी आपूर्ति आरंभ हो गई है। प्रदेश में एक लाख बिस्तरों की व्यवस्था की जा रही है। सभी जिला चिकित्सालयों में सीटी स्कैन की व्यवस्था की जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान कोविड 19 के प्रबंधन पर आयोजित मंत्रि-परिषद की बैठक को मंत्रालय से वर्चुअली संबोधित कर रहे थे। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान, अपर मुख्य सचिव गृह श्री राजेश राजौरा बैठक में उपस्थित थे। मंत्रि-परिषद की बैठक वंदेमातरम के गान से आरंभ हुई।


कोरोना संक्रमण प्रबंधन पर प्रतिदिन होगी प्रेस ब्रीफिंग

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में किसी प्रकार के पैनिक की आवश्यकता नहीं है। कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए त्रि-स्तरीय रणनीति पर कार्य किया जा रहा है। कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए व्यापक स्तर पर जन-जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। इसके अंतर्गत स्वास्थ्य आग्रह, रोको-टोको अभियान जैसी गतिविधियाँ संचालित की जा रही हैं। इलाज की व्यवस्था के लिए आवश्यक सामग्री की आपूर्ति, बिस्तरों की संख्या में वृद्धि और कुशल प्रबंधन पर ध्यान दिया जा रहा है। इसके साथ ही टीकाकरण अभियान को सघन और व्यापक किया जा रहा है। धैर्य और संयम बनाये रखें। राज्य सरकार व्यवस्था बनाये रखने के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है। समाज के सहयोग से कोरोना की स्थिति को नियंत्रित किया जायेगा। कोरोना संक्रमण के प्रबंध पर प्रतिदिन प्रेस ब्रीफिंग कर स्थिति की जानकारी दी जायेगी।


बड़े शासकीय भवनों में होगी मरीजों के लिए व्यवस्था- निजी क्षेत्र से भी लिया जायेगा सहयोग

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बिस्तरों या आवश्यक मेडिकल सामग्री के अभाव में इलाज न हो, प्रदेश में ऐसी स्थिति निर्मित नहीं होने दी जायेगी। शासकीय अस्पतालों के साथ निजी क्षेत्र के अस्पतालों का सहयोग लिया जा रहा है, इसके साथ ही बड़े शासकीय भवनों में अस्पताल जैसी व्यवस्था विकसित करने के लिए भी कार्य हो रहा है। इसके लिए निजी क्षेत्र से भी प्रस्ताव आमंत्रित किये जा रहे हैं। 


जिला स्तर पर मंत्रियों को जिम्मेदारी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण के प्रबंधन के लिए जिला स्तर पर मंत्रि-परिषद के सदस्यों को जिम्मेदारी सौंपी जायेगी। वर्तमान में जो मंत्री जिस जिले से हैं वे उस जिले में व्यवस्था संभालेंगे। जिन जिलों में एक से अधिक मंत्री हैं, वे आसपास के जिलों की व्यवस्था देखेंगे। इस क्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट को इंदौर, श्री जगदीश देवड़ा को रतलाम, श्री विश्वास सारंग को भोपाल, श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर को ग्वालियर, श्री हरदीप सिंह डंग को नीचम तथा मंदसौर और श्री इंदर सिंह परमार को शाजापुर की व्यवस्था देखने के निर्देश दिये।


प्रतिदिन में पाँच लाख टीकाकरण का लक्ष्य

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में 11 से 14 अप्रैल तक 'टीका उत्सव' मनाया जायेगा। इस दौरान प्रतिदिन 5 लाख टीके लगाने का लक्ष्य रखा गया है। जिन जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण अधिक फैल रहा है, वहाँ टीकाकरण के लिए विशेष गतिविधियाँ संचालित की जायेंगी। इसके साथ ही इन जिलों में किल कोरोना-2 अभियान भी संचालित किया जायेगा। जन-सामान्य में मास्क लगाने, उचित दूरी बनाये रखनें, भीड़ इकट्ठी न करने संबंधी सावधानियों का पालन करने के लिए व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार गतिविधियाँ संचालित की जा रही हैं। संक्रमण नियंत्रण के लिए बड़े शहरों में बड़े कंटेनमेंट जोन बनाये जायेंगे। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के लिए मेडिकल किट के साथ डॉक्टरों की विजिट की व्यवस्था की जा रही है। कोविड सेंटरों पर पर्याप्त स्टाफ की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए सभी अवश्यक स्वीकृतियाँ जारी की जा चुकी हैं।


कालाबाजारी पर होगी सख्त कार्यवाही

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी जाँचों तथा अस्पतालों की दरें तय कर दी गई हैं। ऑक्सीजन की कालाबाजारी करने वालों, जाँच और इलाज की निर्धारित दर से अधिक दर लेने वाले अस्पतालों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी। मंत्रि-परिषद के सम्मुख अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान ने प्रदेश में कोरोना की स्थिति पर प्रस्तुतीकरण दिया।


सरकार का दायित्व है, सबकी स्वास्थ्य रक्षा अच्छे से अच्छे प्रबंध रहेंगे, राशि की कमी नहीं आयेगी

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की कोरोना नियंत्रण पर वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश की जनता की स्वास्थ्य रक्षा सरकार का दायित्व है। कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण और संक्रमित नागरिकों के बेहतर से बेहतर उपचार का कार्य सुनिश्चित किया जा रहा है। ऑक्सीजन की कमी या अन्य अफवाहों को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग प्रतिदिन प्रदेश में उपलब्ध बिस्तर क्षमता और अन्य व्यवस्थाओं की जानकारी प्रदान करे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज शाम मंत्रालय में वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक में निर्देश दिये कि कोविड केयर सेंटर्स अधिक सक्षम बनाये जायें। इनमें आइसोलेशन की व्यवस्था के साथ ही अन्य व्यवस्थायें भी मजबूत की जायें। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान और अपर मुख्य सचिव श्री राजेश राजौरा उपस्थित थे।


सांसद, विधायक निधि के उपयोग पर भी विचार

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वे संक्रमण की रफ्तार को देखते हुए विषम परिस्थितियों की कल्पना कर अच्छे से अच्छे प्रबंध करने के निर्देश पूर्व में भी दे चुके हैं। इसके अनुरूप विभिन्न व्यवस्थायें सुनिश्चित की जा रही हैं। व्यवस्थाओं में कहीं कमी न हो, न ही कोई अफरा-तफरी मचे, जिम्मेदार अधिकारियों की यही ड्यूटी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य शासन द्वारा कोरोना नियंत्रण की व्यवस्थाओं के लिए राशि की कोई कमी आड़े नहीं आयेगी। अनेक विधायक एवं सांसद अपनी निधि से भी स्वास्थ्य अधोसंरचना के विस्तार के लिए सहमत हैं। इस संबंध में विचार विमर्श कर निर्णय लिया जायेगा।  


अधिकारियों को दायित्व मिले, बढ़ी ऑक्सीजन आपूर्ति

बैठक में जानकारी दी गई कि कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए प्रत्येक मोर्चे पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। पर्याप्त ऑक्सीजन व्यवस्था, बिस्तरों की संख्या में वृद्धि, रेमिडिसीवर इंजेक्शन की आपूर्ति प्राथमिकता से की जा रही है। इसके लिए राज्य स्तरीय प्रकोष्ठ बनाया गया है। अपर मुख्य सचिव श्री एस.एन. मिश्रा, प्रमुख सचिव श्री नीरज मंडलोई, प्रबंध संचालक राज्य सहकारी विपणन संघ, नियंत्रक खाद्य एवं औषधि प्रशासन और आयुक्त खाद्य सुरक्षा श्री पी. नरहरि को दायित्व सौंपे गये हैं। प्रदेश में ऑक्सीजन की वर्तमान खपत 234 मेट्रिक टन है। इसके मुकाबले 264 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उपलब्ध है। बोकारो, राउरकेला स्टील प्लांट से भी अतिरिक्त ऑक्सीजन के लिए चर्चा हो चुकी है। भिलाई से भी ऑक्सीजन टेंकर मध्यप्रदेश आ रहे हैं। इसके अलावा प्रदेश के ही एमएसएमई सेक्टर से 80 मीट्रिक टन की आपूर्ति संभव हुई है।


सिर्फ सघन आबादी वाले नगरीय क्षेत्रों में दीर्घ अवधि के लॉकडाउन पर विचार

प्रदेश में सिर्फ सघन आबादी क्षेत्र में अधिक दिन तक  लॉकडाउन की व्यवस्था कोलार क्षेत्र भोपाल से प्रारंभ की गई है। प्रदेश के शेष नगरीय क्षेत्रों में शनिवार और रविवार को लॉक डाउन रखने पर सहमति हुई है। सभी शहरों में कोरोना कर्फ्यू की अवधि शुक्रवार की शाम 6 बजे से सोमवार की सुबह 6 बजे तक रखी गई है। यही व्यवस्था जारी रहेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि लॉकडाउन के स्थान पर कोरोना कर्फ्यू शब्द का प्रयोग किया जाए। इससे लोगों में कोरोना के प्रति जागरूकता बढ़ेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना नियंत्रण के लिये छोटे-छोटे कंटेनमेंट जोन बनाये जाये। जिलों की स्थिति अनुसार बड़े कंटेनमेंट जोन भी बनाये जा सकते हैं।


मुख्यमंत्री के अन्य निर्देश

कोविड केयर सेंटर अधिक सक्षम बनाए जाएँ। इनमें आइसोलेशन की व्यवस्था के साथ ही ऑक्सीजन और अन्य मेडिकल व्यवस्थाएँ भी हो। आम जनता को बेड, इंजेक्शन और दवाओं की प्रतिदिन जानकारी सार्वजनिक रूप से दी जाए। प्रदेश में कोरोना नियंत्रण के कार्यों को और प्रभावी ढंग से लागू किया जाए। जन-जागरूकता के कार्यों में भी तेजी आए। प्रदेश में पंजीकृत 82 हजार वालेंटियर्स को दायित्व दिया जाए। वालेंटियर्स मास्क उपयोग जागरूकता, रोको टोको जैसे कार्य करें।  विशेष ऐप निर्मित कर व्यवस्थाओं को रिव्यू किया जाए। वेक्सीनेशन अभियान को गति दी जाए। प्रदेश में 11 से 14 अप्रैल टीका उत्सव की तैयारियाँ पूरी करें। पुलिस प्रशासन, जन अभियान परिषद और अन्य संगठन समन्वय का कार्य करें। वालेंटियर जनता और सरकार के बीच सेतु हैं। इनकी महत्वपूर्ण भूमिका सुनिश्चित की जाए। मुख्यमंत्री  श्री चौहान ने कहा सभी व्यवस्थाएँ सक्षम ढंग से करें।  उत्तम से उत्तम प्रबंध सुनिश्चित किए जाएँ। आम जनता को कोई तकलीफ नहीं होना चाहिए। प्रतिदिन मीडिया  के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारी कोरोना नियंत्रण की जानकारियाँ प्रदान करें।


यदि आप होम क्वारेंटाइन हैं तो...


शासन द्वारा होम आइसोलेशन के संबंध में कोविड-19 प्रोटोकॉल के अनुसार दिशा-निर्देश जारी किये गये हैं। तदनुसार संक्रमित व्यक्ति एक अलग हवादार बाथरूम अटैच कमरे में रहे। आइसोलेशन अवधि में संक्रमित व्यक्ति न तो अपने कमरे से बाहर निकले, व्यक्तियों से सीधे सम्पर्क में न आये और अपने कमरे में ही खाना खाये। वह अपने कपड़ों, दरवाजे का हेण्डल, बिजली के बटन, बाथरूम आदि की सफाई एक प्रतिशत सोडियम हाईपोक्लोराइड साल्यूशन से करे। अपने खाने के बर्तन भी स्वयं ही साफ करे। होम आइसोलेशन के दौरान संक्रमित व्यक्ति घर के सभी सदस्यों, विशेषकर वृद्ध, गर्भवती महिलाएँ और बच्चों से दूरी बनाये रखें। किसी भी सामाजिक और धार्मिक कार्य में सम्मिलित न हों। संक्रमित व्यक्ति के किसी कार्यक्रम में शामिल होने से कोरोना मरीजों की एक नई श्रृंखला निर्मित हो जायेगी। पर्याप्त आराम करें, क्योंकि कोरोना में कमजोरी काफी आती है, आराम से जल्दी स्वास्थ्य लाभ होगा। चिकित्सीय परामर्श के अनुसार दवाइयाँ समय-समय पर लेते रहें। कोरोना संक्रमित व्यक्ति के घर वाले भी सावधानियाँ बरतें। वृद्ध संक्रमित व्यक्तियों की देखभाल घर के युवा सदस्य तीन परतों वाला मास्क पहनकर ही करें। भोजन, पानी, दवाइयाँ आदि देते समय दूरी बनाये रखें। न तो घर से बाहर निकलें और न किसी को घर में प्रवेश करने दें। देखभाल के दौरान सर्दी, खाँसी, बुखार, गले में खराश आदि होने पर समीप के फीवर क्लीनिक में तुरंत जाँच करायें। होम आइसोलेशन में रह रहे संक्रमित व्यक्ति अपने सम्पर्क में आये सभी व्यक्तियों को संक्रमण की जानकारी दूरभाष पर तुरंत दें। सम्पर्क में आये हुए परिचितों को अपने सम्पर्क दिनांक से 5वें से 10वें दिन के बीच जाँच कराने की सलाह दें। कोरोना से संबंधित जानकारी के लिये हेल्पलाइन 104 और 1075 लगातार 24 घंटे कार्यरत हैं।


अस्पताल जाने की आवश्यकता है तो...

कोरोना पॉजिटिव पाये जाने पर सक्षम व्यक्ति जिला कोविड कंट्रोल एवं कमाण्ड सेंटर से चर्चा कर उपलब्ध बिस्तर के आधार पर स्वयं के वाहन से चिन्हांकित केन्द्रों पर जा सकते हैं। स्वयं का परिवहन न होने पर 108 एम्बुलेंस परिवहन व्यवस्था का लाभ लिया जा सकता है। परिवहन के दौरान वाहन में मास्क का प्रयोग और हाथ का सेनेटाइज होना अनिवार्य है। वाहन की खिड़कियाँ खुली रखें और ड्रायवर से दूरी बनाकर रखी जाये। बंद एवं वातानुकूलित वाहनों का उपयोग नहीं किया जाये। इसी तरह ड्रायवर भी मास्क एवं दास्तानों का उपयोग करें। यथासंभव वाहन में ड्रायवर के अतिरिक्त 2 से अधिक व्यक्ति सफर न करें।


सोमवती अमावस्या पर नर्मदा नदी के ऑवली घाट एवं बुधनी सबडिविजन के सभी घाटों पर स्नान प्रतिबंधित


ऑवली घाट एवं बुधनी सबडिविजन के अन्तर्गत नर्मदा नदी के समस्त घाटो पर 12 अप्रैल को सोमवती अमावस्या पर होने वाले स्नान पर प्रतिबंध लगाया गया है। यह प्रतिबंध कोविड-19 के संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए लगाया गया है। बुधनी एसडीएम श्री शैलेन्द्र हिनोतिया ने बताया कि सोमवती अमावस्या पर नर्मदा नदी के ऑवली घाट सहित बुधनी सबडिविजन के अन्तर्गत पडने वाले घाटो पर बढ़ी संख्या में स्नान को आते है। जिससे कोविड-19 संक्रमण फेलने की संभाना को दृष्टिगत रखते हुए स्नान पर प्रतिबंध लगाया गया है।  उन्होंने बताया कि होशंगाबाद, रायसेन, विदिशा, उज्जेन, राजगढ़, देवास, इंदौर सहित अनेक जिलो से बढ़ी संख्या में लोग स्नान के लिए आते है। इन जिलो को भी स्नान प्रतिबंधित करने की सुचना दी जा रही है।


जिले में 52 व्यक्ति कोरोना पाजिटिव मिले,02 व्यक्तियों की मृत्यु हुई, वर्तमान में कोरोना एक्टिव-पॉजीटिव की संख्या 398


पिछले 24 घंटे के दौरान 52 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव मिले। इनमें सीहोर शहर के 23 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। यह सभी व्यक्ति  रेंजर कार्यालय परिक्षेत्र, दांगी स्टेट, दशहरा मैदान, इंग्लिशपुरा, कोतवाली थाना परिसर, चाणक्यपुरी, संजय नगर, पलटन एरिया, बड़ियाखेडी, हाउससिंग बोर्ड कॉलोनी, एएनएम प्रशिक्षण केन्द्र परिसर, जयन्ती कॉलोनी के निवासी हैं । इसी तरह बुधनी क्षेत्र से 25 व्यक्तियों की कोरोना रिपोर्ट पॉजीटिव मिले हैं।  संक्रमित व्यक्ति  वार्ड न्रं.12, माना क्षेत्र, शाहगंज, तालपुरा, पटवा कॉलोनी, बोरदी, वार्ड नंबर 11, पांगरा, सलकनपुर, बायांगांव, वार्ड नं.10, खानपुरा, जानपरु बावड़िया, ट्राइडेंट कंपनी परिसर, नीलकछार, रेहटी वार्ड नं.1 के निवासी हैं। इछावर के अमलाहा से01  व्यक्ति तथा श्यामपुर के मगरखेड़ी, मुगालिया छाप तथा दौराहा से कुल 03  व्यक्तियों  की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि वर्तमान में जिले में एक्टिव पॉजिटिव 398 हैं। आज 34 व्यक्ति रिकरवर हुए। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 3048 हैं। जिला चिकित्सालय स्थित डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर में पिछले 24 घंटे के दौरान 02 कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की मत्यु हुई है। मृतको में एक पुरूष जो नसरूल्लागंज का निवासी है। जिला चिकित्सालय स्थित DCHC केंद्र में भर्ती महिला की मृत्यु हुई है वह रानायल ग्राम की रहने वाली थी (स्थानीय सीहोर की नहीं).54 वर्षीय कोविड पॉजिटिव उक्त महिला को 9 अप्रैल को उपचार क़े लिए DCHC सीहोर में भर्ती किया गया था । कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 51 है। आज 570 सैम्पल लिए गए हैं जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 75, नसरूल्लागंज विकास खण्ड से 124, आष्टा विकासखण्ड से 142, इछावर विकासखण्ड से 21, श्यामपुर विकासखण्ड से 120, बुधनी विकासखण्ड से 88 सैम्पल लिए गए हैं।  जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 3497 है जिसमें से 51 की मृत्यु हो चुकी है 3048 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है। तथा वर्तमान में एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 398 है। आज 570 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 88029 हैं जिनमें से 82157 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 298 सेंपलों की रिपोर्टनिगेटिव आई है। कुल 2304 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। जिले मे जो व्यक्ति होम क्वारन्टाईन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-226470 है। 1075 नंबर पर कॉल कर जानकारी ली जा सकती है। जिला स्तर पर मोबाइल नंबंर 9425400273, 9425400453, 9479595519 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन  सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारन्टाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाईन नंबंर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारन्टाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकॉलाजीकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं। 


अब जिला अस्पताल के लॉन्ड्री भवन में लगेगी वैक्सीन


जिला अस्पताल परिसर में अब उत्तर पश्चिम छोर पर स्थित नव निर्मित लॉड्री भवन में वैक्सीनेशन का कार्य किया जायेगा। अभी तक जहां वैक्सीनेशन का कार्य किया जा रहा था वहां कोविड के लिए 30 बिस्तरों का वार्ड बनाया जा रहा है।


लॉकडाउन का पालन सुनिश्चित कराने कलेक्टर ने दिये निर्देश


sehore news
जिले में प्रत्येक इलाके में लॉक डाउन का पालन सुनिश्चित कराने कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने सभी एसडीएम तथा  तहसीलदारों को निर्देश दिए हैं। जिले के सभी एसडीएम, तहसीलदार एवं राजस्व के सभी संबंधित अधिकारियों द्वारा जिन घरों में व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, उन घरों को माइक्रो कंटेंटमेंट बनाने की कार्यवाही सुनिश्चित कर रहे हैं। सभी अधिकारी तथा कर्मचारी लोगों को घरों में रहने एवं कोविड गाइडलाईन का पालन करने के लिए निरंतर प्रेरित कर रहे हैं।


कोरोना से संबंधित असत्य, अपुष्ट एवं भ्रामक खबरों के प्रकाशन एवं प्रसारण पर महामारी अधिनियम के तहत होगी सख्त कार्रवाई


देखा जा रहा है कि सोशल मीडिया में कोरोना से संबंधित अनेक भ्रामक एवं असत्य खबरें प्रसारित होने से आम जनमानस में भ्रम की स्थिति उत्पन्न होती है । इन्ही परिस्थितियों को देखते हुए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने कोरोना से संबंधित खबरों के प्रकाशन एवं प्रसारण के लिये निर्दश जारी किये है। कोरोना से संबंधित खबरों के प्रकाशन एवं प्रसार से पहले अत्याधिक सावधानी बरतते हुए अधिकृत व्यक्ति या प्राधिकारी द्वारा पुष्टिकरण के पश्चात ही कोई भी खबर प्रकाशित एवं प्रसारित की जाएं। अपुष्ट, असत्य एवं भ्रामक खबरों के प्रकाशन एवं प्रसारण पर महामारी अधिनियम 1897 के तहत सख्त कार्रवाई की जाएगी।


पूरे जिले में लॉक डाउन का प्रभावी ढंग से लागू रहा, आज के लॉकडाउन में सहयोग के लिए कलेक्टर ने आम नागरिकों, व्यापारियों तथा प्रशासनिक अमले का किया आभार व्यक्त


sehore news
10 अप्रैल को कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के दृष्टिगत जिले में लागू लॉकडाउन का प्रभावी ढंग से लागू रहा।  लॉक डाउन को सफल बनाने में जिले वासियों का भी पूरा सहयोग जिला प्रशासन को मिला। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देशानुसार समस्त  एसडीएम, तहसीलदार मुख्य नगरपालिका अधिकारी एवं  जनपदों  मुख्य कार्यपालन अधिकारी  द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों में प्रमुख चेक पोस्टों एवं मार्गों पर सघन निगरानी की गई। साथ ही आमजनों को अनावश्यक घरों से बाहर न निकलने एवं कोरोना गाइडलाइन का पालन करने की समझाइश दी गई। उल्लेखनीय है कि कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण को दृष्टिगत रखते हुए सम्पूर्ण जिले में प्रति शुक्रवार सायं 6 बजे से प्रति सोमवार प्रातः 6 बजे तक लॉक डाउन के आदेश जारी किए गए हैं। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने कहा कि  हम सभी के सामूहिक प्रयासों से कोरोना हारेगा। श्री  गुप्ता ने आज लॉकडाउन में दिए गए सहयोग के लिए आम नागरिकों एवं व्यापारियों तथा प्रशासनिक अमले  का आभार व्यक्त किया। उन्होंने आगामी दिनों में भी लॉकडाउन के दौरान इसी तरह सहयोग देने की सभी से अपील की है।


11 से 14 अप्रेल तक संचालित होगा कोविड टीकाकरण महोत्सव, विशेष टीकाकरण अभियान के अंतर्गत चार दिन में 36 हजार व्यक्तियों को टीका लगाने का लक्ष्य निर्धारित 


प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री  शिवराजसिंह चौहान के निर्देश पर 11 से 14 अप्रेल तक संपूर्ण जिले में चार दिवसीय कोविड-19 विशेष टीकाकरण महोत्सव संचालित किया जाएगा। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.सुधीर कुमार डेहरिया ने जानकारी दी कि इन चार दिनों में 45 वर्ष की आयु से अधिक 36 हजार लोगों को वैक्सीनेट किए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। 11 अप्रेल से आगामी चार दिनों में  जिला चिकित्सालय सीहोर का प्रतिदिन 800 के हिसाब से 3200 व्यक्तियों को टीकाकृत किए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। सिविल अस्पताल आष्टा को प्रतिदिन 2500 टीकाकरण के हिसाब से चार दिन में 10 हजार, बुदनी को प्रतिदिन 1000 और चार दिन में 4000, सीएचसी इछावर को प्रतिदिन 1100 तथा चार दिन में 4400, सिविल अस्पताल नसरूल्लागंज को प्रतिदिन 1450 तथा चार दिन में 5800 तथा सीएचसी श्यामपुर को प्रतिदिन 2150 के हिसाब से चार दिवसों में 11 से 14 अप्रेल तक 8600 व्यक्तियों को टीकाकृत किए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।


ग्रीन इण्डिया मिशन योजना में 500 ग्रामीण युवाओं को विभिन्न क्षेत्रों में किया जायेगा प्रशिक्षित


वन विभाग द्वारा ग्रीन इण्डिया मिशन के जरिये ग्रामीण युवाओं को कौशल उन्नयन का प्रशिक्षण दिया जाकर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराये जायेंगे। प्रदेश में इस तरह की 14 प्रशिक्षण कार्यशालाएँ आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। इनमें तकरीबन 500 ग्रामीण युवाओं को विभिन्न क्षेत्रों में प्रशिक्षण दिलाया जायेगा। उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय स्तर पर भारत की आजादी के 75 वर्ष को समारोह पूर्वक मनाने के लिये 'आजादी का अमृत महोत्सव'' 12 मार्च से शुरू हो चुका है। इसी कड़ी में वन विभाग द्वारा ग्रीन इण्डिया मिशन के अंतर्गत चयनित लैण्डस्केप में ग्रामीण युवाओं के लिये प्रशिक्षण कार्यशालाएँ आयोजित की जा रही हैं।


65 युवा हो रहे हैं प्रशिक्षित

ग्रीन इण्डिया मिशन योजना में पहला प्रशिक्षण होशंगाबाद वन मण्डल के वन ग्राम भातना में शुरू किया गया है। डेढ़ महीने के इस प्रशिक्षण में ग्राम रांझी, भातना और लालपानी के 35 जनजाति के युवक-युवतियों को असिस्टेंट, हेल्पर, इलेक्ट्रीशियन और मोटर बाइंडिंग का प्रशिक्षण दिलाया जा रहा है। इसी तरह दूसरा चरण वन मण्डल पश्चिम बैतूल के ग्राम खामापुर रंजे-चिचोली में 3 अप्रैल से शुरू हो गया है। दो महीने चलने वाले प्रशिक्षण में जनजाति के 30 युवक-युवतियों को डाटा एन्ट्री ऑपरेटर और कम्प्यूटर ऑपरेटर की विधा से प्रशिक्षित कराया जा रहा है।


महाविद्यालय में प्रावधिक प्रवेश की अंतिम तिथि 15 और फीस भरने की 20 अप्रैल


समस्त शासकीय, अनुदान प्राप्त अशासकीय एवं निजी अशासकीय महाविद्यालयों द्वारा विद्यार्थी की अर्हता का परीक्षण कर स्नातक द्वितीय व तृतीय वर्ष तथा स्नातकोत्तर तृतीय सेमेस्टर के लिए संबंधित विश्वविद्यालय के पोर्टल पर प्रमोट बाक्स पर क्लिक कर विद्यार्थी को अगली कक्षा में प्रावधिक प्रवेश के लिए प्रमोट करने के निर्देश जारी किए गए थे। नवीनीकरण के लिए प्रमोट करने की तिथि में एक बार पुनः वृद्धि करते हुए 15 अप्रैल निर्धारित की गई है। विद्यार्थी 20 अप्रैल तक ऑनलाइन शुल्क जमा करने की कार्यवाही कर सकते हैं।


परीक्षा संबंधी हेल्पलाइन  प्रारंभ


माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षाओं के दृष्टिगत  मंडल ने हेल्पलाइन सेवा गत एक अप्रैल से संचालित कर दी है । विद्यार्थियों, पालकों एवं शिक्षकों को टोल फ्री दूरभाष क्रमांक 18002330175 पर परीक्षाओं एवं मंडल से संबंधित अन्य जानकारियां प्रदान की जाएंगी। हेल्पलाइन सेवा के माध्यम से प्रदेश के हाईस्कूल एवं हायर सेकंडरी परीक्षाओं के संबंध में जानकारी प्राप्त की जा सकेगी।

 

हाई स्कूल और हायर सेकेंडरी परीक्षाओं प्रवेश पत्र जारी


माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा संचालित हाई स्कूल/हायर सेकेंडरी/हायर सेकेंडरी वोकेशनल एवं अन्य परीक्षाओं के प्रवेश-पत्र एमपी ऑनलाइन के पोर्टल https://mpbse.mponline.gov.in/MPBSE/MPBSE पर अपलोड किए गए हैं। सभी शासकीय विद्यालयों के प्राचार्य को निर्देशित किया गया है कि प्रवेश-पत्र डाउनलोड कर, अपने हस्ताक्षर व पद मुद्रा अंकित कर विद्यार्थियों को उपलब्ध कराएँ। मंडल द्वारा जारी ऑनलाइन प्रवेश-पत्र में विषय या माध्यम की त्रुटि होने पर एमपी ऑनलाइन के पोर्टल पर 15 अप्रैल तक निर्धारित शुल्क जमा कर सुधार की सुविधा प्रदान की गई है।

कोई टिप्पणी नहीं: