सीहेार (मध्यप्रदेश) की खबर 24 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 24 अप्रैल 2021

सीहेार (मध्यप्रदेश) की खबर 24 अप्रैल

कोरोना संक्रमित मरीजों और सिटी स्कैन कराने वालों को मिलेगी बड़ी राहत, विधायक सुदेश राय ने 25 लाख रू सिटी स्कैन मशीन दवाईयों के लिए दिए


sehore news
सीहेार। कोरोना संक्रमित मरीजों और सिटी स्कैन कराने वालों को राहत देने के लिए विधायक सुदेश राय ने शनिवार को सिटी स्कैन मशीन ऑक्सीजन सिलेंडरों और रेमडे सिविर इंजेक् शनों सहित अन्य जीवन रक्षक दवाईयों की पर्याप्त व्यवस्था के के लिए जिला अस्पताल को अपनी विधायक निधि से 25 लाख रूपये प्रदान किए है। विधायक श्री राय के बडे भाई समाजसेवी अखिलेश राय ने जिला अस्पताल पहुंचकर सीएमएचओ डॉक्टर सुधीर डेहरिया और सिविल सर्जन डॉक्टर आनंद शर्मा से जरूरी चर्चा कर महत्वपूर्ण सिटी स्केन मशीन उपलब्ध नहीं होने से चिकित्सा कार्य में आ रहीं परेशानियों को जाना। समाजसेवी श्री राय ने 24 घंटे में ऑक्सीजन प्लांट तैयार करने के लिए टीम को बाहर से शनिवार को बुलाया है। उन्होने ऑक्सीजन प्लांट निर्माण स्थल का अधिकारियों के साथ  निरीक्षण भी किया है।   विधायक सु़देश राय ने कहा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोविड 19 महामारी जिला प्रभारी मंत्री विश्वास सांरग के द्वारा जिले भर के कोरोना संक्रमित मरीजों के ईलाज के लिए इंतजाम किए जा रहे है। राय परिवार भी आर्थिक रूप से लगातार मदद कर रहा है। जिला अस्पताल में लम्बे समय से मरीजों के परिजनों को उपचार में जरूरी सीटी स्केन कराने ने भी परेशानियों का सामना करना पड रहा था। निजी अस्पतालों क्लीनिक पर हजारों रूपये देकर सिटी स्केन कराने के लिए बाध्य होना पड़ रहा था अब जिला अस्पताल में ही मामूली शुल्क पर सिटी स्केन हो जाएगा और रिपोर्ट भी जल्दी मिल जाएगी। विधायक सुदेश राय ने कहा की में स्वयं भी घर से नहीं निकल रहा हुं। क्योकी कोरोना वायरस तेजी से असर दिखा रहा है संक्रमित होने से बचना है तो केंद्र सरकार राज्य सरकार और स्थानीय जिला प्रशासन के द्वारा दी गई कोरोना गाइडलाइन का पालन किजीए। नागरिक बेवजह घरों से सड़कों पर नहीं निकले मास्क जरूर लगाए दो गज की दूरी अपनों और पराओं से आवश्यक रूप से रखें जिसमें दोंनों तरफ के लोग सुरक्षित रहेंगे। विधायक सुदेश राय ने कहा की जिला अस्पताल में अब प्राण वायू ऑक्सीजन जरूरी इंजेक् शन और दवाईयों पूर्ण रूप से उपलब्ध है। जरूरत पड़ती है तो सरकार से लड़कर नागरिकोंं के लिए और व्यवस्थाएं करेंगे। उन्होने कहा की नागरिक डॉक्टरों पर भरोशा रखे और स्वयं का परिजनों का ख्याल रखें। 

राष्ट्रीय पंचायत दिवस पर वर्च्युअल कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने दिया प्रमाण पत्र


vidisha news
सीहोर जनपद एवं मेहतवाड़ा ग्राम पंचायत को राष्ट्रीय पंचायत पुरुस्कार-2021 के अन्तर्गत दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरुस्कार मिला है। आज राष्ट्रीय पंचायत दिवस के अवसर  के  प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वर्च्युअल कार्यक्रम के माध्यम से प्रदान किया। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री हर्ष सिंह ने यह प्रमाण पत्र ग्राम पंचायत मेहतवाड़ा के सरपंच श्री अहमद अली को प्रदान किया। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री हर्ष सिंह ने मेहतवाड़ा ग्राम पंचायत तथा सीहोर जनपद की पूरी टीम को बधाई दी। इस मौके पर ग्राम पंचायत सचिव श्री मनोहर मेवाड़ा एवं उपसरपंच अल्का-जितेन्द्र सिंह ठाकुर (प्रतिनिधि) भी उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि केन्द्रीय पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा केंद्र सरकार प्रवर्तित विभिन्न योजनाओं के सुचारू संचालन एवं समयब़द्व क्रियान्वयन के आधार पर प्रतिबर्ष उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली ग्राम पंचायतों को राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है। इन पुरस्कारों के अंतगर्त चयनित जनपद पंचायत को 25 लाख एवं ग्राम पंचायत को 05 लाख की नकद राशि राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित कार्यक्रम के माघ्यम से प्रदान की जाती है। इस वर्ष मध्यप्रदेश को कुल 15 पुरस्कार मिले हैं जिनमें 02 जिला पंचायत 02 जनपद पंचायत एवं 13 ग्राम पंचायते सम्मिलित हैं। ऐसे में एक ही वर्ष में जिले को जनपद पंचायत श्रेणी में 01 तथा ग्राम पंचायत श्रैणी मे 01 कुल 02 राष्ट्रीय पुरस्कार मिलने से पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में हर्ष व्याप्त हैं।

कोरोना से बचाव में प्रभावी है योग - मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • होम आयसोलेशन और कोविड केयर सेंटर में होगी योग प्रशिक्षण की व्यवस्था "योग से निरोग" कार्यक्रम आरंभ

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जन-सामान्य को कोरोना संकट से मुक्त करना मानवता की सबसे बड़ी सेवा है। पूरी दुनिया भयानक महामारी से जूझ रही है। मानव सभ्यता के इतिहास में इतना बड़ा संकट कभी नहीं आया है। हमारी संस्कृति, जीवन मूल्य और परम्परा में पहला सुख निरोगी काया माना गया है और इसकी कई पद्धतियाँ बताई गई हैं। हमारे ऋषियों ने वर्षों के परिश्रम से योग पद्धति विकसित की है, जो रोग-प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर स्वस्थ रहने के सिद्धांत पर केन्द्रित है। कोरोना के इस भीषण काल में व्यक्तियों को स्वस्थ रखने के लिए "योग से निरोग" कार्यक्रम आरंभ किया जा रहा है। कार्यक्रम में लोगों की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए गतिविधियाँ संचालित की जाएंगी। जो व्यक्ति कोरोना से प्रभावित है और आयसोलेशन में रहकर स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं, उन्हें स्वास्थ्य लाभ के लिए योग प्रशिक्षण दिया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान गत दिवस निवास से राज्य स्तरीय "योग से निरोग" कार्यक्रम का वर्चुअल शुभारंभ  कर रहे थे। कार्यक्रम में स्कूल शिक्षा मंत्री श्री इंदर सिंह परमार शाजापुर से और आयुष मंत्री श्री रामकिशोर नानो कावरे बालाघाट से वर्चुअली सम्मिलित हुए। इसके साथ ही इंडियन योग एसोसिएशन, आर्ट ऑफ लिविंग, पतंजलि योग पीठ के प्रतिनिधियों ने भी कार्यक्रम में वर्चुअल सहभागिता की। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने योगासन और प्राणायाम पर एक शॉर्ट फिल्म का शुभारंभ किया। अकेलापन, अवसाद, तनाव और चिंता समाप्त करने में सहायक है योग - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि योग रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ ऑक्सीजन लेवल ठीक करने, मनोबल बढ़ाने, मरीजों का अकेलापन, अवसाद, तनाव, चिंता, बैचेनी और नकारात्मक भाव समाप्त करने में मदद करता है। होम आयसोलेशन में रह रहे मरीजों और कोरोना के परिणाम स्वरूप नकारात्मक भाव से ग्रसित मरीजों के लिए योग से निरोग कार्यक्रम बहुत प्रभावी सिद्ध होगा। प्रदेश के कोविड मरीजों में से लगभग 72 प्रतिशत मरीज होम आयसोलेशन में हैं। इन व्यक्तियों को फोन कॉल, वीडियो कॉल के माध्यम से योग प्रशिक्षक प्रतिदिन मरीज की सुविधानुसार एक निश्चित समय पर योग, ध्यान, आसन, प्राणायाम आदि के संबंध में मार्गदर्शन देंगे और उनका अभ्यास भी कराएंगे। मुख्यमंत्री ने योग प्रशिक्षकों से चर्चा की- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि होम आयसोलेशन और कोविड केयर सेंटर में रह रहे व्यक्तियों को यदि ठीक कर लिया गया तो यह प्रदेश के लिए बड़ी उपलब्धि होगी। इससे अस्पतालों पर पड़ने वाले बोझ से बचा जा सकेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वयं के अनुभव से कहा कि कोरोना संक्रमण के उपरांत स्वास्थ्य लाभ में और रोग-प्रतिरोधक क्षमता बनाए रखने में योग प्रभावी रूप से सहायक है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गुना के श्री कृष्ण योगेन्द्र रघुवंशी, बालाघाट की श्रीमती सरिता बिसेन, ग्वालियर के श्री ऋषिकेश वशिष्ठ, इंदौर के श्री सुनील कुमार जैन और बैतूल के सुनील कुम्हाड़े आदि योग प्रशिक्षकों से कार्यक्रम के संबंध में चर्चा की। 1067 प्रशिक्षक पंजीकृत- आयुष मंत्री श्री रामकिशोर नानो कावरे ने कहा कि योग से निरोग कार्यक्रम मुख्यमंत्री श्री चौहान की दूरदृष्टि का परिणाम है। इस कार्यक्रम से होम आयसोलेशन में रह रहे मरीजों का मनोबल, उत्साह और आत्मबल बढ़ाने में मदद मिलेगी। प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी ने जानकारी दी कि इंडियन योग एसोसिएशन के अंतर्गत आर्ट ऑफ लिविंग, भारत योग, गायत्री  परिवार, हार्ट फुलनेस, ईशा फाउंडेशन, केवल्य धाम, पतंजलि योग पीठ आदि के सहयोग से आरंभ किए गए इस कार्यक्रम में 1067 प्रशिक्षक पंजीकृत हुए हैं। प्रत्येक प्रशिक्षक होम आयसोलेशन में रह रहे 10 मरीजों से सम्पर्क करेगा और उन्हें 3 दिन का योग प्रशिक्षण देगा। इन गतिविधियों का समन्वय डिस्ट्रिक्ट कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेंटर से किया जाएगा। स्कूल शिक्षा विभाग तथा आयुष विभाग द्वारा समन्वित रूप से चलाए जा रहे इस कार्यक्रम में एक प्रशिक्षण मॉड्यूल विकसित किया गया है।


कोरोना के विरूद्ध युद्ध में मुख्यमंत्री से लेकर पंच तक एक हों - मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • मुख्यमंत्री ने कोरोना प्रबंधन पर ग्रामीण क्षेत्रों के जन-प्रतिनिधियों से चर्चा की

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना के विरूद्ध युद्ध में मुख्यमंत्री से लेकर पंच तक एक हो जायें तो कोरोना को पराजित किया जा सकता है। यदि हमने हमारा गाँव बचा लिया, तो हम प्रदेश और देश को बचाने में भी सफल हो जाएंगे। कोरोना का संकट बड़ा है पर हमारा हौसला उससे भी ज्यादा बड़ा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान गत दिवस निवास से ग्रामीण क्षेत्रों और ग्रामीण निकायों के जन-प्रतिनिधियों से कोरोना प्रबंधन के संबंध में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा कर रहे थे। 14 हजार 700 पंचायतों ने स्व-प्रेरणा से लगाया जनता कर्फ्यू- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना के विरूद्ध यह लड़ाई योजनाबद्ध तरीके से लड़ी जाएगी। इसकी रणनीति के अंतर्गत दो स्तरों पर कार्य करना है। प्रथम जो संक्रमित हो गए हैं उनका बेहतर इलाज सुनिश्चित हो और दूसरा संक्रमण की चेन टूटे। कोरोना रूपी राक्षस अपनी शक्ति भीड़-भाड़ से पाता है। अत: संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए भीड़ की संभावनाओं को शून्य करना होगा। जो शादी, विवाह टाले जा सकते हैं, उन्हें अपने और देश के हित में टालें। हम प्रण लें कि भीड़ इकट्ठी नहीं होने देंगे। प्रदेश की 14 हजार 700 पंचायतों ने स्व-प्रेरणा से जनता कर्फ्यू लगाया है। गाँव वाले स्वयं कोरोना कर्फ्यू का क्रियान्वयन कर रहे हैं। पिछले दिनों प्रभावी रहे इस प्रयास से कई जिलों का पॉजिटिविटी रेट घटा है। प्रतिदिन 9 से 10 हजार व्यक्ति हो रहे हैं स्वस्थ- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जो व्यक्ति कोरोना से प्रभावित हैं, उनके इलाज की घर पर ही व्यवस्था के लिए होम आयसोलेशन के अंतर्गत डॉक्टरी सलाह और सावधानियों की जानकारी देने की व्यवस्था की गई है। स्वास्थ्य विभाग के लिए योग प्रशिक्षकों को भी जोड़ा जा रहा है। जिन लोगों के घरों में आयसोलेशन की व्यवस्था नहीं है, ऐसे मरीजों के लिए कोविड केयर सेंटर में व्यवस्था की गई है। जिन गाँवों में सर्दी, खाँसी, जुकाम ज्यादा लोगों को है या कोरोना के संभावित व्यक्ति हैं, वहाँ पंच, सरपंच, आशा कार्यकर्ता, आँगनवाड़ी कार्यकर्ता, पंचायत सचिव, रोजगार सहायक मिलकर घर-घर सर्वे करें और हर बीमार व्यक्ति को मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाए। छिंदवाड़ा, खण्डवा, बुरहानपुर में इस दिशा में हुए कार्य से संक्रमण की दर को नियंत्रित करने में सफलता मिली है। प्रदेश में अब प्रतिदिन 9 से 10 हजार व्यक्ति स्वस्थ हो रहे हैं। टीकाकरण को करें प्रोत्साहित-मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना के कठिन काल में ग्रामीण भाइयों, मजदूरों, किसानों का हरसंभव ध्यान रखा जा रहा है। तीन महीने का नि:शुल्क राशन उपलब्ध कराने के लिए आदेश जारी कर दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ग्रामीण स्ट्रीट वेण्डर्स के खाते में एक-एक हजार रूपए डाले जा रहे हैं। प्रदेश में एक मई से 18 साल से अधिक आयु वर्ग के लोगों का नि:शुल्क टीकाकरण किया जाएगा। ग्राम स्तर पर अधिक से अधिक व्यक्तियों को टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित किया जाए। होम आयसोलेशन पर नजर रखें स्व-सहायता समूहमुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि स्व-सहायता समूहों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कोरोना संक्रमण के विरूद्ध जागरूकता और संक्रमण की चेन तोड़ने और होम आयसोलेशन में रह रहे व्यक्तियों की देखभाल में यह समूह सहयोगी रहते हुए सक्रिय रहेंगे। ग्राम स्तर पर साफ-सफाई और स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाना आवश्यक है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सहयोग, समन्वय और सद्भाव से ही कोरोना के विरूद्ध विजय प्राप्त होगी। 


राष्ट्रीय वर्चुअल मीटिंग में मलेरिया उन्मूलन के लिए प्रतिबद्धता व्यक्त की 25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस


एन.व्ही.बी.डी.सी.पी. दिल्ली मुख्यालय से वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन के समन्वय से मलेरिया की वर्तमान स्थिति आगामी योजनाओं, किये गये प्रयास एवं उन्मूलन के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये गत दिवस वर्चुअल मीटिंग आयोजित हुई। वर्चुअल मीटिंग में तकनीक विशेषज्ञों ने भारत सरकार द्वारा मलेरिया उन्मूलन हेतु निर्धारित समय सीमा वर्ष 2030 तक मलेरिया उन्मूलन के लक्ष्य को प्राप्त करने की प्रतिबद्धता व्यक्त की। उल्लेखनीय है कि 25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस मनाया जाता है। कार्यक्रम में केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्ष वर्धन के संदेश के साथ शुरू हुई। वर्चुअल बैठक डब्ल्यू.एच.ओ. प्रतिनिधि, ज्वाइंट सेक्रेटरी (व्ही. बी.डी.). डी.जी.एच.एस. भारत सरकार, निदेशक एन.व्ही.बी.डी.सी.पी., अतिरिक्त निदेशक एन.व्ही.बी.डी.सी.पी. दिल्ली तथा मध्यप्रदेश से राज्य एवं जिला स्तरीय अधिकारी एवं सलाहकार सम्मिलित हुए। डॉ. हिमांशु जायसवार राज्य कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि मलेरिया उन्मूलन के लक्ष्य प्राप्ति के लिये मध्यप्रदेश में किये जा रहे सतत तकनीकी प्रयासों से वर्ष 2015 की तुलना में वर्ष 2020 में 93 प्रतिशत से अधिक मलेरिया प्रकरणों में कमी दर्ज की गई है। इसी प्रकार वर्ष 2019 की तुलना में वर्ष 2020 में 52 प्रतिशत से अधिक की कमी दर्ज की गई। डॉ. जायसवार ने जनता से अपील की कि मलेरिया उन्मूलन के लक्ष्य को प्राप्त करने में सहयोगी बने और स्वयं बीमारी से बचे एवं आस-पास भी बीमारी के संक्रमण नियंत्रण के प्रयास करें।


प्रदेश में कोरोना पॉजिटिविटी रेट में हो रही है कमी - मंत्री श्री सारंग


चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने बताया है कि मध्यप्रदेश में 4 लाख 72 हजार 785 कोविड केसेस हुए हैं। इनमें से 3 लाख 80 हजार 208 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। प्रदेश का रिकवरी रेट लगातार सुधर रहा है। वर्तमान में एक्टिव केस की संख्या 87 हजार 640 है। प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट घटकर गुरुवार 23.76 प्रतिशत हो गया है। होम आइसोलेशन के माध्यम से 75 प्रतिशत मरीजों का इलाज हो रहा है और 25 प्रतिशत मरीज हॉस्पिटल में भर्ती हैं। सरकारी और निजी अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या लगातार बढ़ाई जा रही है, जो गुरुवार बढ़कर 48 हजार 371 हो गई है। इसी प्रकार गत दिवस कुल 57 हजार 176 टेस्ट किये गये हैं, जो एक रिकार्ड है। श्री सारंग ने बताया कि होम आइसोलेशन में 95 प्रतिशत मरीजों से वीडियो कॉल के माध्यम से चर्चा की जा रही है। शेष 5 प्रतिशत ऐसे मरीज हैं, जो फोन नहीं उठाते या उनका फोन नहीं लग पाता। ऑक्सीजन की आपूर्ति 463 मीट्रिक टन हुई है। इसी के साथ अन्य स्रोतों से ऑक्सीजन की व्यवस्था का प्रयास किया जा रहा है। "योग से निरोग'''''''' कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा किया गया है। इसके जरिये मरीजों का मानसिक, शारीरिक और आत्मिक स्वास्थ्य सहित मनोबल का स्तर ऊँचा रहेगा। अभी तक प्रदेश में 144 कोविड केयर सेंटर स्थापित किये जा चुके हैं, जो अस्पतालों से लिंक हैं। इसी प्रकार ग्रामीण क्षेत्रों में अब तक 19 हजार 700 से अधिक संस्थागत क्वारेंटाइन सेंटर बनाये जा चुके हैं। इसमें लगभग 2 लाख 36 हजार से अधिक बेड्स स्थापित किये गये हैं।


संभाग आयुक्त श्री कियावत ने किया क्वांरेटाईन सेंटर का निरीक्षण, क्वॉरेंटाइन सेंटर में बेहतर इंतजाम के दिए निर्देश


vidisha news
भोपाल संभाग आयुक्त श्री कविन्द्र कियावत ने नसरुल्लागंज विकासखंड के सताराना एवं ग्राम गोपालपुर में शासकीय बालक जूनियर छात्रावास में बनाए गए क्वॉरेंटाइन सेंटर निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने क्वॉरेंटाइन सेंटर में बेहतर व्यवस्था करने के निर्देश दिए। जिससे कि क्वांरेंटाइन सेंटर पर आने वाले मरीजों को किसी भी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े। उन्होंने गोपालपुर की महिला एवं बाल विकास विभाग की पर्यवेक्षक एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से चर्चा करते हुए उनके द्वारा घर-घर जाकर किया जा रहे है सर्वे कार्य के संबंध में मार्गदर्शन दिया गया। श्री कियावत ने कहा कि कोई भी घर सर्वे से न छूटे। साथ ही कोरोना कर्फ्यू एवं क्वांरेंटाइन सेंटर के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। संभागायुक्त श्री कियावत ने निर्देश दिए कि सर्वे के दौरान यदि सर्दी, खांसी, बुखार के मरीज पाए जाते हैं तो उन्हें तत्काल निकटतम स्वास्थ्य केंद्र में जांच के लिए भेजें। साथ ही आंगनबाड़ी कार्यकर्ता स्वास्थ्य विभाग से समन्वय कर आवश्यक दवाइयों का वितरण करें। उन्होंने कहा कि कोरोना गाइड लाईन से लोगों को जागरुक करें ताकि कोरोना संक्रमण का प्रसार रोका जा सके। उन्होंने इस दौरान लोगों से चर्चा करते हुए कहा कि बचाव ही सबसे बड़ा उपाय है। श्री कियावत ने सभी से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने, मास्क लगाने तथा बार-बार हाथों को साबुन से धोने की अपील की है । निरीक्षण के दौरान जिला पंचायत सीईओ श्री हर्ष सिंह, नसरुल्लागंज एसडीएम श्री डीएस तोमर महिला एवं बाल विकास अधिकारी श्री प्रफुल्ल खत्री सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


जिले में सीमित समय के लिए खुली किराना दुकानें, प्रशासनिक अमले ने कराया कोविड गाइड लाईन का पालन


vidisha news
कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिए कलेक्टर जिला दंडाधिकारी श्री अजय गुप्ता के  आदेश के अनुसार आज जिले में सीमित समय के लिए किराना दुकानें खुलवाई गई। जिले में किराना दुकानें अवधि 2 घंटें की अवधि के लिए खुलवाई गई। लोगों द्वारा अत्यवाश्यक सामग्री एवं राशन खरीद-बिक्री के दौरान जिला प्रशासन एवं पुलिस द्वारा कोविड गाइडलाइन का पालन कर आया गया । व्यापारियों द्वारा अपनी-अपनी दुकान के आगे गोले बनाए गए।व्यापारियों एवं आमलोगों द्वारा  मास्क मास्क  लगाने वाले व्यक्ति और सोसल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए सामग्री क्रय की गई।  राजस्व एवं पुलिस अमले द्वारा निरंतर निरीक्षण किया गया।  


जिले में 222 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले, वर्तमान में कोरोना एक्टिव-पॉजीटिव की संख्या 1202, 3 कोरोना संक्रमितों की मृत्यु, मृतकों की कुल संख्या 75


पिछले 24 घंटे के दौरान 222 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव मिले। इनमें सीहोर शहरी क्षेत्र के 175 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। जो आरटीओ कॉलोनी, लुनिया चौराहा, नेहरू कॉलोनी, पुलिस लाइन, नरेंद्र नगर, कस्बा, कृष्ण विहार कॉलोनी, हाउसिंग बोर्ड, मछली मार्केट, इंग्लिशपुरा, चाणकपुरी, डाइट, बढ़ियाखेड़ी, न्यू बस स्टैंड, मंडी, लेबर कॉलोनी, छावनी, इंदौर नाका, श्री राम कॉलोनी, गंज पलटन, एरिया कोतवाली चौराहा, शिवाजी नगर, सब्जी मंडी, धनखेड़ी फैक्ट्री, गांधी रोड छावनी, क्रिसेंट रिसोर्ट, पारस बिहार, पीलीमस्जिद, वैशाली नगर, अवधपुरी, ब्रहमपुरी, भोपाल नाका, शीतल विहार, आकाश मोहल्ला, जेल क्वार्टर, इंदौर नाका, गल्ला मंडी, जयंती कॉलोनी, दशहरा वाला बाग, शांति नगर, सुभाष नगर, गुलजारी का बगीचा, डीडी स्टेट, मछली पुल, एलआईसी कॉलोनी, पारस विहार, पुलिस लाइन, चौपाल सागर, भोपाल सागर नगर, शेरपुर, पीडब्ल्यूडी कार्यालय के सामने, पावर हाउस चौराहा, न्यू आरटीओ कार्यालय, जनता कॉलोनी, शिवा आराध्य कॉलोनी, इंदिरा नगर के निवासी हैं इसी प्रकार नसरुल्लागंज क्षेत्र से 10 व्यक्ति पॉजीटिव मिले हैं जो लाड़कुई, सिंहपुर, सिराड़ी, गुल्लरपुरा, हरागांव, लाड़कुई, कोर्ट परिसर, इटावा, गोपालपुर, बाईबोड़ी, राला, भादाकुई के निवासी हैं। इछावर अन्तर्गत 11 व्यक्ति संक्रमित पाए गए जो इछावर के वार्ड नंबर 08, 06, नयापुरा, पडलिया, ग्रेस सेंटर, पांगरा, पीलूखेड़ी, नीलबड़, पालखेड़ी, दिवड़िया के निवासी हैं। श्यामपुर अन्तर्गत 26 व्यक्ति पॉजिटिव मिले हैं जो मोगराराम, निपानिया कला, बिजौरी, बिजलोन, कोड़िया छीतू, पचामा, जमोनिया, गिल्लोदपुरा, मुंगावली, बरखेड़ी, बिल्किसगंज, दोराहा कैंपस, कुरनिया, बरखेड़ा, बिशनखेड़ी, बावड़िया, खजूरिया, श्यामपुर पड़लिया के निवासी हैं। जिला चिकित्सालय स्थित डेडिकेटेट कोविड हेल्थ सेंटर (डीसीएचसी) में पिछले 24 घंटे के दौरान 2 कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु हो गई। वहीं एक कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने नसरुल्लागंज के डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। मृतकों में दो पुरुष तथा एक महिला शामिल हैं। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान में जिले में एक्टिव पॉजिटिव 1202 हैं। आज 141 व्यक्ति रिकवर हुए। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 4183 हैं। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 75 है । आज 935 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 170, श्यामपुर से 149, विकासखंड नसरुल्लागंज से 115, आष्टा से 250 एवं बुदनी विकासखंड से 142 तथा इछावर से 109 सेंपल लिये गए हैं। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 5460 है जिसमें से 75 की मृत्यु हो चुकी है 4183 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है। तथा वर्तमान में एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 1202 है। आज 935 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 97972 हैं जिनमें से 91359 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 925 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1082 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या  कुल 71 है। जिले मे जो व्यक्ति होम क्वारन्टाईन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-1075 है। जिला स्तर पर मोबाइल नंबंर 9425400273, 7987652577, 9479595519 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारन्टाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाईन नंबंर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारन्टाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकॉलाजीकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं।     


कोविड-19 संक्रमित होम आइसोलेटेड रोगियों को घर पर मिलेगी औषधि किट


कोविड-19 की वर्तमान परिस्थिति को दृष्टिगत रखते हुए शहरी बहुलता वाले जिलों में नगरीय क्षेत्र में होम आइसोलेशन में रह रहे रोगियों को उनके घर पर ही आवश्यक औषधि किट और होम आइसोलेशन संबंधी इंस्ट्रक्शन ब्रोशर उपलब्ध कराये जायेंगे। यह किट और ब्रोशर संबंधित नगरीय निकाय के अधिकारियों के माध्यम से उपलब्ध होंगे। फीवर क्लीनिक्स के माध्यम से होम आइसोलेशन किट का वितरण पूर्व की तरह जारी रहेगा। आयुक्त स्वास्थ्य ने कहा है कि सभी जिलों के कलेक्टर्स, चिकित्सा महाविद्यालयों के अधिष्ठाता, सीएमओ को कोविड-19 संक्रमित होम आइसोलेटेड रोगियों को मेडिकल किट और ब्रोशर उपलब्ध कराने संबंधी निर्देश जारी किये गये हैं। जारी निर्देश में स्पष्ट किया गया है कि होम आइसोलेशन में रह रहे कोविड रोगियों को मेडिकल किट में अजीथ्रोमाइसिन, सिट्रेजिन, रेनीटिडिन, जिंक, विटामिन, पेरासिटामोल और मल्टी विटामिन की टेबलेट्स उपलब्ध कराई जायेंगी। जिला स्तरीय कोविड कंट्रोल एण्ड कमाण्ड सेंटर पर भी पर्याप्त संख्या में मेडिसिन किट की उपलब्धता रहेगी और रोगियों की संख्या के अनुपात में इसकी निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित की जायेगी।


विश्व मलेरिया दिवस की थीम होगी “शून्य मलेरिया लक्ष्य तक पहुंचाना है”


विश्व मलेरिया दिवस पूरे विश्व में 25 अप्रैल को मनाया जाएगा। इस दिवस को मलेरिया जैसी गंभीर बीमारी की और लोगों का ध्यान आकर्षण करने के लिए मनाया जाता है। इसका मुख्य देश मलेरिया से लोगों को जागरूक और उनकी जान की रक्षा करना है। भारत ने वर्ष 2030 तक मलेरिया उन्मूलन का लक्ष्य रखा है, जबकि वर्ष 2027 तक पूरे देश को मलेरिया मुक्त बनाया जाएगा। इसके लिए एक निर्धारित कार्य योजना के तहत कार्य किया जाना अति आवश्यक है। सर्वप्रथम जल्दी जांच एवं बिना विलंब उपचार होना चाहिए, जैसे ही मरीज में बुखार, कमजोरी, सर दर्द, बदन दर्द, उल्टी आदि लक्षण दिखाई दे तो उसे तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर या आशा कार्यकर्ता के द्वारा खून की जांच कराना चाहिए एवं मलेरिया की पुष्टि होने पर तुरंत पूर्ण उपचार लेना चाहिए। खाली पेट दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। मलेरिया बीमारी का पूर्ण उपचार सभी सरकारी स्वास्थ्य संस्थाओं पर नि:शुल्क उपलब्ध है, अधूरा उपचार प्राणघातक हो सकता है। जिला मलेरिया अधिकारी सीहोर ने जानकारी दी कि सीहोर जिले में विगत कई वर्षों से लगातार मलेरिया के मरीजों की संख्या में कमी आई है। इसका मुख्य कारण मरीजों के द्वारा उचित समय पर उपचार प्राप्त करने एवं उसके शरीर में एवं समाज में भी परजीवी का लोडकम होता है। साथ ही फैल्सीपेरम मलेरिया की जल्दी पहचान होने पर मरीज के निवास, गांव स्थान में कीटनाशक का छिड़काव करने एवं लोगों को जागरुक कर मच्छरदानी लगा कर सोने, क्वाईल जलाने, पूरे कपड़े पहनने आदि उपाय कर मच्छरों से स्वयं को बचाकर परजीवी के जीवन चक्र को तोड़ा जा सकता है। उन्होंने बताया कि मलेरिया रोग प्लाजोमीडियम परजीवी से उत्पन्न होता है जो रक्त कोशिकाओं को संक्रमित करता है। यह अपना जीवन चक्र मच्छर और मनुष्य में पूरा करता है मलेरिया के आम लक्षण बुखार, ठंड लगना, उल्टी होना, मितली आना, बदन दर्द, सिरदर्द आदि है। मलेरिया वाईवैक से पीड़ित होने पर 14 दिन तक उपचार लेना पड़ता है। 3 दिन क्लोरीक्वीन फास्टेड एवं 14 दिनों तक प्राइमक्लीन का डोज दिया जाता है। फैल्सीपेरम मलेरिया होने पर 3 दिन तक एसीटी का डोज दिया जाता है। उन्होंने बताया कि अप्रैल उपरांत जल्द ही बारिश का मौसम आने वाला होता है। अप्रैल से लोग सजग हो जाएं लक्षण दिखाई देने पर तुरंत जांच कराएं उन सभी सुरक्षात्मक उपायों को अपनाएं तो बीमारी से बचा जा सकता है एवं बरसात के मौसम में मलेरिया के फैलने की संभावना कम हो जाती है। कोविड-19 महामारी के चलते मलेरिया से ग्रसित मरीज को अपनी जांच एवं उपचार करने में कठिनाई न हो उसके लिए जिले के इछावर अंतर्गत 9981378161 श्यामपुर के लिए 9229696857 आष्टा के लिए 9229573541 बुधनी के लिए 9691941334 एवं नसरुल्लागंज के लिए 7067424509 पर संपर्क किया जा सकता है।


कोविड पीड़ित बिजली कर्मियों को 3 लाख तक चिकित्सा एडवांस की सुविधा, कंपनी ने लागू की कोविड-19 चिकित्सा अग्रिम तत्काल सहायता योजना


मध्यप्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड जबलपुर द्वारा नियमित बिजली लाइन कर्मियों, कर्मचारियों और अधिकारियों को स्वयं अथवा आश्रित परिजनों के कोविड-19 से ग्रसित होने पर तत्काल चिकित्सा एडवांस दिया जायेगा। कंपनी के एम.डी. श्री किरण गोपाल ने बताया कि यह देखा जा रहा है कि बिजली कर्मियों के कोविड पॉजिटिव होने की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है तथा आर्थिक कारणों से  इलाज प्रारंभ कराने में कठिनाई भी हो रही है। इन परिस्थितियों में यह निर्णय लिया गया है कि ऐसे बिजली कार्मिको को अधिकतम 3 लाख रुपये तक की राशि चिकित्सा एडवांस के रूप तत्काल प्रदान की जाये। संविदा बिजली कर्मियों को भी दो माह की पारिश्रमिक राशि अधिकतम 70 हजार रुपये चिकित्सा एडवांस के रूप में दी जायेगी। कंपनी द्वारा लागू की गई कोविड-19 चिकित्सा अग्रिम तत्काल सहायता योजना के प्रावधान के अनुसार कंपनी के किसी भी नियमित अधिकारी, कर्मचारी और लाइनकर्मी द्वारा स्वयं अथवा आश्रित परिजनों के कोविड-19 वायरस से संक्रमित होने पर चिकित्सा एडवांस के लिये आवेदन किया जा सकता है, जिसकी अधिकतम सीमा 3  लाख रुपये होगी।  चिकित्सा अग्रिम के लिये संबंधित कार्मिक को आवेदन प्रस्तुत करते समय कोविड  पॉजिटिव की रिपोर्ट, डॉक्टर की उपचार पर्ची एवं अस्पताल में भर्ती होने की सलाह संबंधी दस्तावेज प्रस्तुत करने होंगे। यदि संबंधित कर्मी कोविड वार्ड या अस्पताल में गंभीर हालत में भर्ती है तथा हस्ताक्षरयुक्त आवेदन प्रस्तुत करने की हालत में नहीं है, तो अस्पताल द्वारा जारी पर्ची को उसके नियंत्रणकर्ता अधिकारी द्वारा अग्रेषित किया जा सकेगा। ऐसे आवेदनों पर तत्काल चिकित्सा एडवांस स्वीकृत करने के लिए क्षेत्रीय मुख्य अभियंताओं को अधिकृत किया गया है, ताकि बिना किसी विलंब के चिकित्सा एडवांस की राशि संबंधित कार्मिक के वेतन खाते में स्थानांतरित कराई जा सके। कॉर्पोरेट मुख्यालय के अंतर्गत पदस्थ नियमित कार्मिकों के प्रकरण में चिकित्सा एडवांस स्वीकृत करने के लिए मुख्य महाप्रबंधक को अधिकृत किया गया है। यह योजना वर्तमान परिस्थितियों के कारण फिलहाल 3 माह तक के लिए लागू की गई है। संबंधित कार्मिक के स्वस्थ हो जाने के उपरांत चिकित्सा एडवांस की राशि का समायोजन कंपनी द्वारा निर्धारित प्रावधानों के अनुसार किया जायेगा।


तेंदूपत्ता संग्रहण का पारिश्रमिक 2500 रूपये प्रति मानक बोरा निर्धारित


म.प्र. शासन राज्य लघु वनोपज संघ भोपाल द्वारा वर्ष 2021 में तेंदूपत्ता संग्रहण पारिश्रमिक दर 2500 रूपये प्रति मानक बोरा निर्धारित की गई है।


संयुक्त दल ने दो स्थानों पर रुकवाया बाल विवाह


महिला एवं बाल विकास विभाग, पुलिस तथा चाईल्ड लाईन लाईन के संयुक्त दल ने बाल विवाह की सूचना मिलने पर दो अलग अलग स्थानों पर पहुंचकर बाल विवाह रुकवाया। इसके साथ ही उन्होंने बालिकाओं के माता पिता को  कम उम्र में विवाह करने से होने वाली समस्याओं के बारे में जानकारी देते हुए व्यस्क होने पर ही विवाह करने की समझाइश दी गई। माता पिता ने अपनी गलती को स्वीकार करते हुए 18 वर्ष की उम्र के बाद ही बालिकाओं का विवाह करने का वचन दिया। संयुक्त दल को ग्राम गोपालपुर तथा मंडी में नाबालिकों के विवाह की सूचना मिलने पर तुरंत मौके पर पहुंच कर कार्यवाही की गई। इस कार्यवाही में  इस कार्यवाही में जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री प्रफुल्ल खत्री, बाल कल्याण पुलिस अधिकारी एवं परियोजना अधिकारी श्री गिरीश चौहान, चाईल्ड लाईन समन्वयक श्री राजेन्द्र सिंह शामिल थे।


1887 व्यक्तियों को लगा कोरोना का टीका


vidisha news
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर प्रदेश के साथ ही सीहोर जिले में कोविड टीकाकरण किया जा रहा है। जिले में कुल 86 केन्द्रों पर 1887 व्यक्तियों को कोरोना का टीका लगाया गया। शनिवार को शहरी सीहोर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सहित जिला चिकित्सालय क़े 5 सत्र में कुल 386, आष्टा के 21 सत्र में 503, बुदनी के 9 सत्र में 175, इछावर के 8 सत्र में 226, नसरुल्लागंज के 16 सत्र में 117, श्यामपुर के 26 सत्र में 475 व्यक्तियों को कोविड का टीका लगाया गया।



ऑक्सीजन का उपयोग करने वाले संस्थानों ने प्रदान किए 12 ऑक्सीजन सिलेंडर


vidisha news
कोरोना महामारी के बचाव नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए सिविल अस्पताल आष्टा में ऑक्सीजन की आवश्यकता को देखते हुए एसडीएम आष्टा श्री विजय कुमार मंडलोई ने नगर के गैस वेल्डिंग तथा अन्य ऑक्सीजन गैस के उपयोग करता मैकेनिकों से ऑक्सीजन सिलेंडर की अपील की। जिस पर ऑक्सीजन गैस उपयोगकर्ताओं द्वारा 12 गैस सिलेंडर एसडीएम श्री मंडलोई का प्रदान किए गए। एसडीएम श्री मंडलोई ने ऑक्सीजन सिलेंडर एकत्रित कर कोरोना संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए बीएमओ श्री प्रवीर गुप्ता को प्रदान किए। 

कोई टिप्पणी नहीं: