अभिनेता अमित मिस्त्री का हृदयघात से निधन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 23 अप्रैल 2021

अभिनेता अमित मिस्त्री का हृदयघात से निधन

actor-amit-mishtri-died
मुंबई, 23 अप्रैल, गुजराती और हिंदी फिल्मों के मशहूर अभिनेता अमित मिस्त्री की शुक्रवार को हृदय गति रूक जाने से मृत्यु हो गई। उनके मैनेजर ने यह जानकारी दी। मिस्त्री ने ‘शोर इन दि सिटी’, ‘बे यार’ और अमेजॉन प्राइम वीडियो श्रृंखला ‘बंदिश बैंडिट्स’ में किए गए अपने अभिनय से दर्शकों पर छाप छोड़ी थी। मैनेजर महर्षि देसाई ने बताया कि शुक्रवार सुबह करीब नौ बजकर 30 मिनट पर 47 वर्षीय अभिनेता ने जब आखिरी सांस ली तब वह अपनी मां के साथ मुंबई के अंधेरी स्थित आवास पर थे। उन्होंने बताया, ‘‘ वह सुबह उठे, नाश्ता किया और यहां तक कि हृदय गति रूकने से पहले व्यायाम भी किया। वह पूरी तरह से स्वस्थ थे और उन्हें स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या नहीं थी। यह बहुत ही स्तब्ध करने वाली खबर है।’’ मिस्त्री के परिवार में उनकी मां हैं जो गुजराती रंगमंच की मशहूर हस्ती रही हैं। उन्होंने हिंदी फिल्मों जैसे ‘ क्या कहना’, ‘ एक चालीस की लास्ट लोकल’ में काम किया था। निदेशक राज निदिमोरु और डीके कृष्णा जिन्होंने मिस्त्री के साथ अधिकतर काम किया है ने कहा कि वे हमेशा उनकी कमी महसूस करेंगे। दोनों ने ट्वीट किया, ‘‘यह दुखद है कि अमित मिस्त्री अब नहीं हैं। वह हमारे लिए खास थे। कुबेर (99), टीपू (एसआईटीसी), जिगनेश (अ जेंटलमैंन), प्रकांड पंडित (मौजूदा श्रृखला)...हमारी हर पठकथा में हमने उनके लिए लिखा। दिल तोड़ने वाला है। हम अब जब भी पठकथा लिखेंगे आपकी कमी महसूस करेंगे।’’ उन्होंने बताया कि आखिरी बार अमित से करियर और संबंधों पर बात हुई थी। अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने कहा कि यह विश्वास करना मुश्किल है कि मिस्त्री अब नहीं हैं। ‘बंदिश बैंडिट्स’ में सह अभिनेता के तौर पर काम करने वाले राजेश तैलंग ने भी शोक व्यक्त करते हुए कहा, ‘‘ भाई अमित, यह विश्वास नहीं कर सकता कि जो जीवटता से परिपूर्ण था अब नहीं है। आप जहां भी रहे हमेशा प्यार का प्रसार करते रहे जैसा करते थे।’’

कोई टिप्पणी नहीं: