कोरोना संकट के बावजूद कृषि निर्यात में 18.49 प्रतिशत की वृद्धि - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 22 अप्रैल 2021

कोरोना संकट के बावजूद कृषि निर्यात में 18.49 प्रतिशत की वृद्धि

agriculture-export-increase
नयी दिल्ली, 21 अप्रैल, कोरोना संकट के बावजूद गत वर्ष की तुलना में वर्ष 2020..21 के दौरान कृषि और इससे संबंधित वस्तुओं के निर्यात में 18.49 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। अप्रैल 2020 से फरवरी 2021 के दौरान कृषि और इससे संबंधित वस्तुओं का निर्यात 2.74 लाख करोड़ था जबकि इसके पूर्व के वर्ष में इसी अवधि के दौरान कृषि वस्तुओं का निर्यात 2.31 लाख करोड़ रुपए था। इससे स्पष्ट होता है निर्यात में 18.49 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। वर्ष 2019..20 के दौरान देश से कृषि और संबंधित वस्तुओं का निर्यात 2.52 लाख करोड़ का था जबकि आयात 1.47 लाख करोड़ रुपए का था। जिन वस्तुओं का निर्यात में महत्पूर्ण योगदान है उनमें गेहूँ, गैर बासमती चावल, सोया मिल, मसाले, चीनी, कपास, ताजी सब्जियां, प्रसंस्कृत सब्जियां और एल्कोहलिक पेय प्रमुख हैं। गेहूँ और अन्य अनाजों के निर्यात में गत वर्ष की तुलना में जबरदस्त उछाल आया है। गेहूँ का निर्यात जो 425 करोड़ रुपये का था, वह बढ़कर 3283 करोड़ रुपये और अन्य अनाजों का 1318 करोड़ रुपये से बढ़कर 4542 करोड़ रुपये हो गया है। अफगानिस्तान को 50000 टन और लेबनान को 40000 टन गेहूँ का निर्यात किया गया। इस प्रकार से गेहूँ के निर्यात में 727 प्रतिशत की भारी वृद्धि दर्ज की गई। इसी तरह से गैर बासमती चावल के निर्यात में 132 प्रतिशत की वृद्धि हुई। वर्ष 2019..20 में 13030 करोड़ के गैर बासमती चावल का निर्यात किया गया था जो 2020..21 में बढ़कर 30277 करोड़ हो गया। नए बाजार के कारण चावल के निर्यात में वृद्धि हुई। इन बाजारों में ब्राजील, टाइमर लेस्टी, पापुआ न्यू गिनी, चिली आदि प्रमुख हैं। टोगो, सेनेगल, मलेशिया, मेडागास्कर, इराक, बंगलादेश, वियतनाम, मोजांबिक आदि देशों को भी चावल का निर्यात किया गया। सोया मिल के निर्यात में 132 प्रतिशत की वृद्धि हुई। वर्ष 2019..20 में इसका निर्यात 3087 करोड़ रुपए था जो 2020..21 में बढ़कर 7224 करोड़ रुपए हो गया। अप्रैल 2020 से फरवरी 2021 के दौरान मसालों का निर्यात 26257 करोड़, चीनी का 17072 करोड़, कपास 11373 करोड़, ताजी सब्जियों का 4780 करोड़ और प्रसंकृत सब्जियों का 2846 करोड़ रुपये का निर्यात किया गया। इस दौरान कृषि और इससे संबंधित वस्तुओं का 141034.25 करोड़ रुपये का आयात किया गया। 

कोई टिप्पणी नहीं: