प्राइवेट स्कूलों के द्वारा छात्रों एवं अभिभावकों के दोहान के खिलाफ प्रदर्शन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 6 अप्रैल 2021

प्राइवेट स्कूलों के द्वारा छात्रों एवं अभिभावकों के दोहान के खिलाफ प्रदर्शन

student-and-parents-protest-patna
पटना. "जागो" के तत्वावधान में एवं "छात्र-अभिभावक संघर्ष समिति" के बैनर तले प्राइवेट स्कूलों के द्वारा छात्रों एवं अभिभावकों के निर्बाध रूप से हो रहे दोहान के खिलाफ पटना के डाकबंगला चौराहा पर "समिति" एवं "जागो" के पदाधिकारियों एवं सदस्यों ने अपने मुंह पर काला मास्क पहनकर और कोरोना वायरस काल के दौरान अपनाई जाने वाली जरूरी सारे एहतियातों को बरतते हुए अपना विरोध जताया. मौके पर "शैडो गवर्नमेंट बिहार" के मुख्यमंत्री डॉ सुमन लाल, "जागो" के संयोजक गगन गौरव, छात्र-अभिभावक संघर्ष समिति के अध्यक्ष नीरज सिंह, शैडो गवर्नमेंट के अन्य मंत्री गण जैसे डॉक्टर अखिलेश, डॉ नीलू, संजय भारती, राकेश कुमार रॉय, संजीव बबलू, दीपक कुमार, अनीता सिंह, डॉ रत्नेश, अमित विक्रम, भाई पुरुषोत्तम, सूरज, राजू, सीमा एवं अन्य सबों ने सामूहिक रूप से बिहार में बेलगाम होती निजी शिक्षा प्रणाली पर अफसोस जताया और कहा की सरकार मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा कि हमारे संविधान की परिकल्पना एवं अवधारणा को अक्षुण्ण रखने में भी समर्थ नहीं है. यहां तक कि कोरोना काल के दौरान भी अभिभावकों का दोहन निर्बाध रूप से जारी रहा.सबों ने एक सुर से कहा कि छात्र-अभिभावक संघर्ष समिति मांग करती है कि सरकार निजी स्कूलों को कोरोना काल के दौरान लिए गए फीस को माफ करने या उसे अगले महीनों में एडजस्ट करने के लिए निजी स्कूल प्रशासन पर दबाव बनाए. साथ ही सरकार निजी विद्यालयों के लिए एक रेगुलेटिंग बॉडी या नियामक संस्था बनाए जिनके पास अभिभावक बिना रोक-टोक के अपनी शिकायत और परामर्श लेकर जा सकें. देखने में आ रहा है कि जो अभिभावक अपने बच्चों की फीस जमा करने में सक्षम नहीं हैं उन्हें एग्जाम देने से रोका जा रहा है.ऑनलाइन क्लासेस में पढ़ने से रोका जा रहा है और उन पर मनमानी फीस जमा करने के लिए अनावश्यक एवं गैर जरूरी दबाव बनाया जा रहा है.  बात इतनी ही नहीं है बल्कि बैक डेट से पूरे साल भर का ट्रांसपोर्ट फी, लाइब्रेरी फी, कंप्यूटर लैब फी एवं अन्यान्य तरह के अन्य फीसों के लिए भी विद्यालय प्रशासन अभिभावकों को परेशान कर रहा है. छात्र अभिभावक संघर्ष समिति के अध्यक्ष नीरज से ने कहा कि उनके पास बिहार और खासकर पटना के कई स्कूलों के अभिभावकों ने शिकायत दर्ज कराई है स्कूल प्रशासन के खिलाफ.उन्होंने यह भी कहा कि आने वाले दिनों में समिति सारे अभिभावकों की शिकायतों को लेकर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी जिसमें तमाम स्कूलों के बच्चे और उनके अभिभावक स्वत:स्फूर्त आगे आकर अपने स्कूल प्रशासन के खिलाफ अपनी शिकायत दर्ज कराएंगे. जागो के संयोजक गगन गौरव ने कहा कि आने वाले दिनों में शैडो शिक्षा मंत्रालय के अंतर्गत एक रेगुलेटिंग बॉडी बनाई जाएगी क्योंकि सरकार इस विषय पर कुछ भी कर पाने में अपने आप को असमर्थ पा रही है.कारण क्या हो सकता है यह सर्वविदित है. स्कूल माफिया पूरी तरह से सरकार पर हावी है और उसके डिसीजन मेकिंग को प्रभावित कर रहा है. डॉ सुमन लाल ने कहा कि आने वाले दिनों में शैडो गवर्नमेंट का हर मंत्रालय अपने कार्यों का कैलेंडर जारी करेगा. इसके लिए नवंबर में शैडो गवर्नमेंट बनने के बाद से ही तैयारी शुरू हो चुकी है और प्रोसेस में है.

कोई टिप्पणी नहीं: