बिहार : भारत के नवनियुक्त नुंसियो आर्चबिशप लियोपोल्डो गिरेली से आग्रह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 3 अप्रैल 2021

बिहार : भारत के नवनियुक्त नुंसियो आर्चबिशप लियोपोल्डो गिरेली से आग्रह

arch-bishop-liopoldo-gireli
बक्सर. पटना महाधर्मप्रांत से अलग हुआ है  बक्सर धर्मप्रांत 12 दिसम्बर 2005.यह धर्मप्रांत भाग्यशाली है जो इस धर्मप्रांत के बिशप बनते हैं वह आर्चबिशप पद का सफर तय कर लेते हैं.सबसे पहले फादर विलियम डिसूजा बिशप बने और उनके बाद फादर सेबास्टियन कल्लूपुरा बने.दोनों आर्चबिशप बन गये.अब तीसरे की खोज जारी है.भारत के नवनियुक्त नुंसियो आर्चबिशप लियोपोल्डो गिरेली से आग्रह है कि किसी प्रतिष्ठित पद पर कार्य कर चुके लोकल पुरोहित को बक्सर धर्मप्रांत का बिशप के लिए नाम अनुमोदित कर रोम भेज दें. बता दें कि बक्सर,भोजपुर,भभुआ और रोहतास को मिलाकर बक्सर धर्मप्रांत बना है.इस धर्मप्रांत में16 पल्ली है.ईसाइयों की संख्या 25 हजार 434 है.एक पुरोहित के अनुसार करीब 12 हजार रेगुलर ईसाई हैं.इस समय धर्मप्रांत के भक्तगण परेशान हैं. यहां पर नियमित व स्थायी बिशप नहीं रखा जा रहा है.आध्यात्मिक प्रशासक बना कर काम निकाला जा रहा है.हरेक पुरोहित की ख्वाहिश है कि वह बिशप बने.आर्चबिशप बने.सेवानिवृत कार्डिनल तेलेस्फोर पी.टोप्पो की तरह कार्डिनल बने.समयानुसार पदोन्नत नहीं होने से मामला फ्रीज हो जाता है. 


बता दें कि बक्सर कैथेड्रल का नाम है मैरी मदर ऑफ पेरपेटुअल हेल्प है.बक्सर धर्मप्रांत की संरक्षक संत हैं आवर लेडी ऑफ पेरपेटुअल हेल्प.बक्सर कैथेड्रल के जिम्मेवार व्यक्ति का ऐतिहासिक पल  देखने को मिला,जब फादर विलियम डिसूजा 25 मार्च 2006 को बक्सर धर्मप्रांत का प्रथम बिशप बने.जब वे बक्सर जिले में इटाढ़ी के पल्ली पुरोहित थे.तब उनको बिशप बनने की जानकारी मिली.अपनी नियुक्ति के समय वह 44 साल एक पुरोहित के रूप में सेवा कर चुके थे. इस संदर्भ में फादर विलियम डिसूजा बहुत ही भाग्यशाली हैं.हर पोस्ट को बखूबी संभाला है. मुजफ्फरपुर धर्मप्रांत के प्रशासक भी रहे.येसु समाज के पटना प्रोविंश के प्रोविंशियल 1995 से 2001 तक रहे.बता दें कि पटना महाधर्मप्रांत के प्रथम  महाधर्माध्यक्ष बी0 जे0 ओस्ता,येसु समाजी के अवकाश ग्रहण करने के बाद पटना महाधर्मप्रांत के महाधर्माध्यक्ष बनाये गये. इस तरह पटना महाधर्मप्रांत के द्वितीय महाधर्माध्यक्ष बने.पोप बेनेडिक्ट XVI ने उन्हें 1 अक्टूबर, 2007 को पटना महाधर्मप्रांत आर्चबिशप के रूप में नियुक्त किए. वहीं बक्सर धर्मप्रांत के प्रथम धर्माध्यक्ष विलियम डिसूजा को आर्चबिशप के रूप में पदोन्नत होने पर बक्सर धर्मप्रांत के बिशप का पद 07 अप्रैल 2009 तक खाली रहा.इसके बाद द्वितीय धर्माध्यक्ष बनने का सौभाग्य फादर सेवास्टियन कल्लूपुरा को मिला.इसके बाद सेवास्टियन पटना महाधर्मप्रांत के कोदुजेटर बने और बाद में आर्चबिशप बने.तब धर्मप्रांत ही चरवाहा विहीन हो गया है.प्रथम धर्माध्यक्ष विलियम डिसूजा को आर्चबिशप के रूप में पदोन्नत होने पर 01 अक्टूबर, 2007 से 07 अप्रैल, 2009 तक पद रिक्त रहा.07 अप्रैल, 2009 को बक्सर के बिशप सेवास्टियन चुने गए और 21 जून, 2009 को आयोजित किए गए। पोप फ्रांसिस ने उन्हें 29 जून 2018 को पटना के कोदजुटोर आर्चबिशप के रूप में नियुक्त किया.अभी बक्सर धर्मप्रांत में कोई बिशप नहीं हैं.

कोई टिप्पणी नहीं: