केनरा बैंक ने अंबेडकर जयंती अपने क्षेत्रीय कार्यालय में श्रद्धापूर्वक मनायी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 14 अप्रैल 2021

केनरा बैंक ने अंबेडकर जयंती अपने क्षेत्रीय कार्यालय में श्रद्धापूर्वक मनायी

  • डॉ.अंबेडकर का पूरा जीवन देश के लोगों को बराबरी का हक़ दिलाने के संघर्ष में बीता : सुनील कुमार सोबती 

canera-bank-celebrate-ambedkar-jayanti
नई दिल्ली। भारत रत्न बाबा साहब डॉ.भीम राव अंबेडकर की जयंती केनरा बैंक ने अपने क्षेत्रीय कार्यालय सरोजनी हॉउस,भगवान दास रोड,दिल्ली में बड़ी श्रद्धा और धूमधाम से मनायी। इस मौके पर केनरा बैंक के दिल्ली रीजन के रिजनल मैनेजर सुनील कुमार सोबती ने  साहब डॉ.भीम राव अंबेडकर पुष्प अर्पित करते हुए नमन किया और अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।  इस मौके पर सभी उपस्थित ब्रांचों से कार्यक्रम में श्रद्धासुमन अर्पित करने आये अपने बैंककर्मियों  और उनके परिवारों को संबधित करते हुए  रिजनल मैनेजर सुनील कुमार सोबती बाबा साहब के जीवन पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा की डॉ.अंबेडकर का पूरा जीवन समरसता और लोगों को बराबरी का हक़ दिलाने के संघर्ष में बीता। उन्होंने कहा कि संविधान निर्माता, भारत रत्न बाबा साहब समाज सुधारक, विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ थे। बाबा साहब ने हमेशा दलितों, शोषितों, वंचितों, मजदूरों, और महिलाओं के प्रति भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाई और अभियान चलाया।  सोबती कहा कि बाबा साहब ने घोर अन्याय, अपमान को सहकर हम सभी को न्याय, सम्मान संविधान के माध्यम से दिया। सामाजिक, आर्थिक गैर बराबरी को बाबा साहब खत्म करना चाहते थे, लेकिन उसे पूरा नहीं कर पाए। बाबा साहब ने कहा था कि राजनैतिक सत्ता वह चाभी है, जिससे हर सामाजिक ताले खोले जा सकते है। बाबा साहब ने एक सुन्दर संविधान दिया।  इससे हम सबको समानता के रूप में जीने का हक है। आज हमें गर्व है की हम बाबा साहब के बनाएं संविधान में अपना नागरिक कर्तव्य निभा रहे हैं।  ऐसा संविधान ऐसा मजबूत लोकतंत्र पुरे विश्व में ओर कहीं नहीं है। यह हमारे संविधान निर्माता बाबा साहब की देन है। इस मौके पर सभी ने राष्ट्रगान गाकर कार्यक्रम को सफल बनाया। अंत में अल्पाहार के साथ सभी ने एक दूसरे को डॉ. भीम राव अंबेडकर जयंती की बधाई और शुभकामाएं दी।

कोई टिप्पणी नहीं: