CBSE ने बदला पैटर्न, अब लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न होंगे कम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 24 अप्रैल 2021

CBSE ने बदला पैटर्न, अब लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न होंगे कम

cbse-change-pattern
पटना : केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई)के द्वारा 2021- 22 के नौवीं ,दसवीं व 12 वीं की परीक्षा के लिये प्रश्न पत्र पैटर्न में बदलाव कर दिया है। यह बदलाव इस सत्र से लागू होगा। सीबीएसई द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा में अब लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न दस फीसदी कम पूछे जायेंगे। वर्तमान में 10वीं में लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रयन 70 फीसदी पूछे जाते थे। वहीं 12वीं में 60 फीसदी लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न रहता था। इससे सम्बंधित जानकारी सीबीएसई से जुड़े तमाम स्कूलों को मुहैया करा दी गयी है। गौरतलब है कि शिक्षा नीति 2020 के तहत 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा के प्रश्न पत्र के बदलाव का निर्णय लिया गया है।नई शिक्षा नीति का मकसद है कि हर कीमत पर सबसे पहले विद्यार्थियों में सोचने की क्षमता का विकास हो। इसी को आधार बनाते हुए नौंवी और 11वीं के वार्षिक परीक्षा और बोर्ड परीक्षा में क्षमता बेस्ड प्रश्न पूछा जाएगा। जिसका जबाव छात्रों को देना होगा। वहीं एकेडेमिक डायरेक्टर डा. जोसफ इमैनुअल ने कहा कि प्रश्नपत्र के नए पैटर्न की जानकारी छात्रों को मिल सके इसके लिये जल्द ही बोर्ड के द्वारा सैम्पल पेपर जारी किया जाएगा । उन्होंने बताया कि नए पैटर्न के मुताबिक 11वीं और 12वीं क्षमता बेस्ड 20 फीसदी प्रश्न रहेगा। इसमें केस स्टडी, मल्टीपल च्वाइस, इंटीग्रेटेड प्रकार के प्रश्न रहेगा। वहीं 20 अंक का वस्तुनिष्ठ प्रश्न रहेगा। इसके अलावा लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न अब 70 फीसदी से घटा कर 60 फीसदी कर दिया गया है। वहीं 9वीं और 10 वीं में नए पैटर्न के मुताबिक 20 अंक का वस्तुनिष्ठ प्रश्न रहेगा और लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न 60 फीसदी से घटा कर अब 50 फीसदी पूछे जायेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: