बिहार : दोषियों के खिलाफ तेजी से सख्त एक्शन और ट्रायल होगा : नीतीश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 5 अप्रैल 2021

बिहार : दोषियों के खिलाफ तेजी से सख्त एक्शन और ट्रायल होगा : नीतीश

guilty-will-punish-in-speedy-trial-nitish
पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को जदयू कार्यालय स्थित कर्पूरी सभागार में पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात की.कार्यकर्ताओं से मुलाकात के बाद पत्रकारों से बातचीत के क्रम में सीएम नीतीश ने मधुबनी के बेनीपट्टी के महमदपुर गांव में होली के दिन हुई आपराधिक घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि दोषियों के खिलाफ तेजी से सख्त एक्शन और ट्रायल होगा.उन्होंने कहा कि कोई मुझ पर आरोप लगा रहा हो लेकिन अकारण मेरी कोई प्रतिक्रया नहीं होती है क्योंकि हम दिन भर काम करते हैं, यह लोगों को मालूम है.अगर क्राइम की कोई घटना होती है तो उसे देखना पुलिस की जिम्मेवारी है.घटना की जानकारी प्राप्त होने पर सरकार के उच्चस्तरीय अधिकारी सूचना देते हैं और उस पर तत्काल अग्रेतर कार्रवाई करने का निर्देश दिया जाता है.इसको लेकर पूरे तौर पर पुलिस महानिदेशक से कम से कम पांच बार बात हुयी है और आज भी इस संदर्भ में दो बार बात हुई है. मधुबनी में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या को लेकर बिहार में नीतीश सरकार अपने ही गठबंधन के नेताओं से घिरती नजर आ रही है.जहां पहले से ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ सख्त तेवर दिखाते रहे है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल.इस बार सरकार की मुहिम के पक्ष में खड़ा होते दिख रहे हैं.  पिछले दिनों महमदपुर गांव से दो दिनों में चार अर्थियां उठ चुकी.चारों मृतक एक ही परिवार के थे. तीन सगे भाई , जबकि चौथा चचेरा भाई . इस घटना ने लोगों को झकझोर कर रख दिया. गांव के पूर्व सैनिक सुरेंद्र सिंह के तीन पुत्र रणविजय सिंह, विरेंद्र सिंह उर्फ वीरू व अमरेंद्र सिंह की गोली लगने से मौत हो गई.सुरेंद्र सिंह के भाई स्व. तेज नारायण सिंह के पुत्र राणा प्रताप सिंह की भी मौत हो गई है. परिवार में चार महिलाओं की मांग उजड़ चुकी है. बच्चे अनाथ हो गए हैं. स्वजनों के आंसू रूकने का नाम नहीं ले रहे.तीन मौत तो सोमवार को ही हो गई. मंगलवार को पटना में इलाज के दौरान अमरेंद्र सिंह ने भी दम तोड़ दिया. बुधवार को अमरेंद्र का अंतिम संस्कार किया गया.एक ही परिवार में चार लोगों की मौत की घटना के बाद चित्कार की गूंज थम नहीं रही है. गांव की सड़कें सुनसान हैं.गांव के अधिकतर घरों में ताले झूल रह्रे हैं. गोलीवारी की घटना के बाद से गांव में दहशत का माहौल है.लोगों में घटना को लेकर आक्रोश भी है. महमदपुर गांव में होली के दिन हुई गोलीबारी के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर पांच हो गई है. अपुष्ट सूत्रों के अनुसार जख्मी रुद्रनारायण सिंह की पटना में इलाज के दौरान बुधवार को मौत हो गई.हालांकि, स्थानीय पुलिस अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि करने से परहेज कर रही है. जानकारी के अनुसार छठे जख्मी मनोज सिंह की हालत भी नाजुक बनी हुई है. मारे गये लोगों का नाम रणविजय सिंह,विरेंद्र सिंह उर्फ वीरू ,अमरेंद्र सिंह ,राणा प्रताप सिंह और रुद्रनारायण सिंह है. मधुबनी में होली के दिन हुई पांच लोगों की हत्या का मामला अब राजनीतिक तूल पकड़ने लगा है. विपक्ष तो कानून व्यवस्था का सवाल उठा ही रहा है, लेकिन अब नीतीश सरकार में शामिल बीजेपी के मंत्री और विधायक भी इस मुद्दे को लेकर तल्ख हो रहे हैं.  मगर नीतीश सरकार की पुलिस के खिलाफ उनके ही मंत्री नीरज कुमार बबलू ने नरसंहार करार देते हुए पुलिस के काम पर सवाल उठाए थे. वहीं अब बीजेपी के नेता ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू ने भी इस घटना की निंदा करते हुए इस वारदात को नरसंहार करार दिया है.


मधुबनी के बेनीपट्टी के मोहम्मदपुरमें हुई छह लोगों की हत्या के बाद आक्रोशित बिहार सरकार के पर्यावरण एवं वन मंत्री नीरज सिंह बबलू ने अपनी ही पुलिस को निकम्मा बताते हुए उनपर कार्रवाई की मांग की है.मधुबनी पहुंचे नीरज सिंह बबलू ने कहा कि जिस तरह की यहां घटना हुई है यह घटना नहीं है नरसंहार है. इस घटना के पीछे जो भी अपराधी होंगे, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा. पुलिस के निकम्मापन की वजह से इस घटना के अंजाम दिया गया है. इसलिए पुलिस पर कार्रवाई होनी चाहिए. इतनी बड़ी घटना हुई है. ऐसे में हम मुख्यमंत्री से बात करके दोषी पर कार्रवाई और पीड़ितों को अधिक से अधिक मुआवजा दिलाने की कोशिश करेंगे. वहीं BJP के नेता ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू उन्होंने कहा कि आज पुलिस सिर्फ शराब पकड़ने और पैसा कमाने में लगी है. दूसरे अपराधों को रोकने के लिए उनके पास टाइम नहीं है.मधुबनी की घटना इसका उदाहरण है, जिसमें एक ही जाति के छह लोगों की हत्या कर दी गई.भाजपा विधायक ने कहा कि अब समय आ गया है कि पुलिस को शराब पकड़ने के काम से मुक्त किया जाए, ताकि वह दूसरे अपराधों को रोकने को लेकर काम कर सके. इस दौरान उन्होंने मधुबनी हादसे की  उच्चस्तरीय जांच के साथ साथ फास्ट ट्रैक कोर्ट से सजा दिलाने की मांग की है. ऐसे अपराधों पर लगाम के लिए जरूरी है कि बिहार पुलिस को भी गुंडों को मारने की खुली छूट दी जानी चाहिए. मधुबनी की घटना को लेकर विपक्ष हमलावर हो गया है। सबसे पहले तेजस्वी यादव ने इस वारदात पर नीतीश सरकार को घेरा, अब सरकार के मंत्रियों के सवाल उठाने के बाद विपक्ष को नया मुद्दा मिल गया है.राजद प्रवक्ता शक्ति यादव ने कहा यह साबित हो गया है कि बिहार में महाजंगलराज कायम है. मधुबनी की घटना में जिस तरह से मुख्यमंत्री ने चुप्पी साधी है, वह साबित करता है कि अब स्थिति उनके नियंत्रण से बाहर चला गया है. उन्होंने नीरज कुमार बबलू और एनडीए के दूसरे विधायकों द्वारा इस घटना को लेकर दिए गए बयान को लेकर कहा कि मुख्यमंत्री की अंदर आत्मा कभी नहीं जगती है लेकिन उनके मंत्री भी इंसान है उनकी अंदर आत्मा जाग गई है, वह जान गए हैं कि बिहार में अपराध किस तरह से कायम है और उसे रोकने में पुलिस पूरी तरह से नाकाम है. आज कोई भी सुरक्षित नहीं है.उन्होंने कहा कि बिहार में आरसीपी टैक्स से पोस्टिंग पाए पुलिस अधिकारियों से और कोई उम्मीद भी नहीं की जा सकती है.


बता दें कि पोखर में मछली पकड़ने के बर्चस्व की लड़ाई को लेकर होली के दिन करीब 35 लोगों ने बेनीपट्टी के मोहम्मदपुर गांव पर हमला कर अंधाधुंध फायरिंग की जिसमें गोली लगने से दो सगे भाइयों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था.एक भाई की मौत अस्पताल में इलाज के दौरान हो गई थी.घटना में होली की छुट्टी में घर लौटे बीएसएफ में एएसआई ने भी इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया था. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा कि मधुबनी के मोहम्मदपुर गाँव में बेख़ौफ अपराधियों ने होली पर एक ही परिवार के 5 लोगों का नरसंहार किया.प्रदेश में विधि व्यवस्था समाप्त हो चुकी है. दोषियों को अविलंब गिरफ्तार कर उनके खिलाफ कड़ी कारवाई होनी चाहिए. राजद नेताओं ने पीड़ित परिवार से मुलाकात कर यथासंभव मदद का भरोसा दिया है.दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा कि होली के दिन मधुबनी में नृशंस नरसंहार में 5 लोगों की हत्या.उसी दिन जहरीली शराब से 22 लोगों की मौत.नाकाम मुख्यमंत्री को एक दिन में इतनी मौतों की कोई जानकारी नहीं है इसलिए गोदी मीडिया में भी दिल्ली तक सन्नाटा है. बकौल मुख्यमंत्री अरे, ये सब तो मंगलराज की छोटी-मोटी झांकियां है. बेनीपट्टी थाना क्षेत्र के महमदपुर गांव में होली के दिन हुए गोलीकांड मामले में पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है. शनिवार को प्रशिक्षु डीएसपी राकेश कुमार रंजन और सर्किल इंस्पेक्टर राजेश कुमार के नेतृत्व में पुलिस पदाधिकारियों ने फरार आरोपियों के घर ढ़ोल पीटते हुए हाजिर होने की चेतावनी देते हुए इश्तेहार चिपकाया गया था. इस बीच कोर्ट के आदेश है तीन दिनों के अंदर सभी आरोपितों की गिरफ्तारी या आत्मसमर्पण नहीं होने पर उनके घरों की कुर्की की जाएगी. भारत-नेपाल सीमा पर भी नजर बनी हुई है.महमदपुर व गैबीपुर गांव में कड़ी चौकसी बरती जा रही है.लोगों से शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की गई है.


रविवार को दोनों अधिकारियों की उपस्थिति में आधे दर्जन से अधिक थाने की पुलिस द्वारा फरार आरोपियों के घर कुर्की जब्ती की कार्रवाई की गई है. पुलिस द्वारा गैवीपुर में प्रवीण झा और नवीन झा के घर कुर्की जब्ती की कार्रवाई की गई है. पुलिस ने कुर्की के दौरान घर से बिस्तर, फ्रीज, वाशिंग मशीन, टेबल फेन, पेटी, बक्सा, गोदरेज, कपड़ा व अन्य सारा सामान अपने साथ ले गई है. पुलिस के कुर्की-जब्ती की कार्रवाई के दौरान एक हथियार भी बरामद हुआ है. अधिकारी द्वय के नेतृत्व में किए गए कुर्की जब्ती की कार्रवाई की. अरेर के एसएचओ राजकिशोर कुमार, मधवापुर एसएचओ गया सिंह, साहरघाट एसएचओ सुरेन्द्र पासवान, खिरहर एसएचओ अंजेश कुमार सहित अन्य शामिल थे. दोनों अधिकारियों ने बताया कि जिन- जिन आरोपियों के घर इश्तेहार चिपकाया गया था. उन सभी के फरारी के स्थिति में कुर्की जब्ती की कार्रवाई शुरू की गई है. फिलहाल मुख्य आरोपी प्रवीण झा और नवीन झा के घर कुर्की जब्ती की कार्रवाई की गई है. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने मधुबनी गोलीकांड को लेकर अपनी प्रतिक्रिया भी दी और साफ साफ कहा कि हमारी सरकार में अपराधी बख्से नहीं जाते हैं, इस कांड के जो भी दोषी होंगे सरकार उसे सजा दिलाकर ही दम लेगी. उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर ऐसी घटना कभी कभार हो जाती है तो अप्रत्याशित होती है मधुबनी का भी घटना वैसी ही है लेकिन सरकार पूरी तरह सतर्क है और इसके पीछे जिनका हाथ होगा वो बख्से नहीं जायेंगे. दरभंगा प्रक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक अजिताभ कुमार ने शुक्रवार की शाम बेनीपट्टी थाना के महमदपुर गांव पहुंचकर 29 मार्च को हुई हत्याकांड की गहन जांच की.आईजी ने पीड़ित परिवार से मिल विभिन्न बिन्दुओं पर जानकारी प्राप्त की. बेनीपट्टी थाना में आईजी ने कहा कि यह कांड दो जाति का मामला नहीं, बल्कि दो गुटो के आपसी रंजिश का है. पुलिस के पास जो सबूत हैं, उसके आधार पर पुलिस आरोपित को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी कर रही है.कांड के मुख्य आरोपित जल्द ही गिरफ्तार होंगे. आईटी सेल का पूरा सहयोग आरोपितों को गिरफ्तार करने के लिए लिया जा रहा है.आरोपितों को सजा दिलाने के लिए चार्जशीट के लिए पुलिस के द्वारा साक्ष्य संकलन किया जा रहा है. 

कोई टिप्पणी नहीं: