बिहार : पिता की रिहाई के लिए लालू की बेटी रखेगी रोजा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 12 अप्रैल 2021

बिहार : पिता की रिहाई के लिए लालू की बेटी रखेगी रोजा

lalu-daughter-rohini-will-take-roza
पटना : बिहार के दिग्गज नेता लालू प्रसाद यादव के बेटी ने लालू प्रसाद यादव की रिहाई को लेकर बड़ा ऐलान किया है। लालू के बेटी ने कहा है कि वह रोजा रखेंगी। मालूम हो कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की तबीयत अत्यधिक खराब होने के बाद रांची के रिम्स से उन्हें दिल्ली एम्स रेफर कर दिया गया है। जिसके बाद लालू प्रसाद यादव का इलाज इन दिनों दिल्ली एम्स में चल रहा है। इस बीच बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव की बेटी रोहिणी आचार्य ने पिता की सेहत के लिए रोजा और नवरात्र दोनों करने का फैसला किया है। रोहिणी आचार्य ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी देते हुए लिखा है कि कल से रमज़ान का पाक महीना शुरू हो रहा है! इस साल हमने भी फैसला किया है कि पूरे महीने अपने पापा के सेहतयाबी और सलामती के लिए रोज़े रखूंगी! पापा की हालत में सुधार हो और जल्दी न्याय मिल सके इसकी भी दुआ करूँगी! साथ ही मुल्क में अमन चैन हो इसलिए ईश्वर / अल्लाह से कामना करूँगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कल से चैती नवरात्र भी है, मेरे अंदर इनती हिम्मत है कि मैं दोनों पावन पर्व पूरी निष्ठा के साथ पूरा कर सकती हूं! मुझे किसी ज़हरीले परवरिश की नफ़रती सोच से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता । आप सभी को चैती नवरात्र की भी हार्दिक शुभकामनाएं। वहीं उनके इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर उनके समर्थकों द्वारा इसका विरोध भी किया जाने लगा है। उनके एक समर्थक ने इनको इस फैसले को लेकर कहा कि आप अपनी फायदे के लिए पूरे समुदाय को गर्त में लेकर जा रही हैं। साथ ही बहुत सारे समर्थकों ने इस फैसले को लेकर अमर्यादित का भी इस्तेमाल किया है। वहीं इसके जवाब में रोहिणी आचार्य ने ट्वीट करते हुए कहा कि इंसा इंसा से नफ़रत कैसा? एक दूजे धर्म से वैर कैसा? एक दूजे के आस्था में ही भक्ति है। इससे बढ़कर नहीं कोई देशभक्ति है। बहरहाल , देखना यह है कि रोहिणी आचार्य के इस फैसले को लेकर समर्थक किस कदर इस बात को देखते हैं और उनके इस फैसले का असर क्या कुछ पड़ता है।।

कोई टिप्पणी नहीं: