बिहार : सौतेले भाई की तरह लड़ रहे भाजपा जदयू : लोजपा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 19 अप्रैल 2021

बिहार : सौतेले भाई की तरह लड़ रहे भाजपा जदयू : लोजपा

ljp-attack-bjp-jdu-fight
पटना : बिहार में बेकाबू होते कोरोना को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रदेश भर में रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक नाईट कर्फ्यू लगाने का निर्देश दिया है। नीतीश के इस निर्णय को लेकर सहयोगी दल भाजपा खुश नहीं है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने कहा कि अगर हम हफ्ते में 2 दिन कड़ाई से कर्फ्यू नहीं लगा पाये तो हमारी स्थिति भी महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ जैसी हो सकती है। जायसवाल के इन पोस्ट के बाद लोजपा ने दोनों दलों के बीच की स्थिति को संवादहीनता बताते हुए कहा कि बिहार मे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के फेसबुक पोस्ट को देख कर लगता है जैसे दो सौतेले भाइयों की लड़ाई हो रही है। भाजपा की कृपा पर मुख्यमंत्री बने नीतीश कुमार भाजपा के अध्यक्ष की भी नहीं सुनते हैं। संवादहीनता इतना है कि सरकार में रहने के बाद भी फेसबुक पर लिखना पड़ता है। ज्ञातव्य हो कि डॉ जायसवाल ने कहा था कि आज बिहार सरकार ने बहुत सारे फैसले लिए हैं जो आज की परिस्थिति में बहुत अनिवार्य हैं। मैं कोई विशेषज्ञ तो नहीं हूं फिर भी सभी अच्छे निर्णयों में इस एक निर्णय को समझने में असमर्थ हूं कि रात का कर्फ्यू लगाने से करोना वायरस का प्रसार कैसे बंद होगा। अगर करोना वायरस के प्रसार को वाकई रोकना है तो हमें हर हालत में शुक्रवार शाम से सोमवार सुबह तक की बंदी करनी ही होगी। घरों में बंद इन 62 घंटों में लोगों को अपनी बीमारी का पता चल सकेगा और उनके बाहर नहीं निकलने के कारण बीमारी के प्रसार को रोकने में कुछ मदद अवश्य मिलेगी। वैसे करोना प्रसार रोकने की महाराष्ट्र में सर्वोत्तम स्थिति यही रहती कि 4 दिन रोजगार और 3 दिन की बंदी। बिहार में अभी इसकी जरूरत नहीं है पर अगर हम हफ्ते में 2 दिन कड़ाई से कर्फ्यू नहीं लगा पाये तो हमारी स्थिति भी महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ जैसी हो सकती है।

कोई टिप्पणी नहीं: