बिहार : लोगों को भारी आर्थिक संकट से जुझना पड़ सकता है - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 11 अप्रैल 2021

बिहार : लोगों को भारी आर्थिक संकट से जुझना पड़ सकता है

people-will-face-economical-crisis-intak
राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस  (इंटक)  बिहार के प्रदेश अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश सिंह ने एक बयान जारी कर कहा है कि कोरोना गाइडलाइन के अन्तर्गत शाम 07 बजे हीं कारोबार को बंद कर देने का राज्य सरकार द्वारा जारी फरमान से स्वरोजगारियों, फुटपाथ दुकानदारों, छोटे व्यापारियों एवं आम दुकानदारों को फिर से भुखमरी का शिकार होने का डर सताने लगा है.इन लोगों का मानना है कि दिन में तापमान अधिक रहने के चलते मुख्य व्यवसाय का समय संध्या 06 बजे से रात्रि 09 बजे तक हीं रहता है. राज्य सरकार द्वारा जारी कोरोना गाइडलाइन से शाम 07 बजे के पहले दुकानों से सामान लेने की जल्दबाजी में ग्राहकों की भीड़ भी अचानक ज्यादा हो जाएगी और समयाभाव के चलते दुकानदार एवं अन्य वेंडर्स आदि अपना कारोबार भी नहीं कर पांएगे. फलस्वरूप सबों को भारी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ेगा और चंद हीं दिनों में भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो जाएगी.श्री सिंह ने मुख्यमंत्री से अपील किया है कि कारोबार एवं उससे जुड़े रोगार को ध्यान में रखते हुये संध्या का समय 07 से बढ़ाकर 09 बजे किया जाए. हाॅलाकि सिनेमा हाॅल, होटल-रेस्टुरेंट, संस्थानों, कार्यालयों एवं औधोगिक प्रतिष्ठानों आदि में कोरोना सुरक्षा मानक का पालन करते हुए बिना समय सीमा के कारोबार करने की छुट दी गई है. ऐसी स्थिति में स्वरोजगारियों, दुकानदारों एवं छोटे कारोबारियों को भी इन मानकों का पालन करने हुए समय सीमा में छुट देने की आवश्यकता है.ऐसा नहीं करने से राज्य में बड़ी संख्या में लागों के कारोबार एवं रोजगार पर असर पड़ेगा. साथ हीं इन लोगों को भारी आर्थिक संकट से जुझना पड़ सकता है.

कोई टिप्पणी नहीं: