सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 16 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 16 अप्रैल 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 16 अप्रैल

 24768 किसानों से 1 लाख 88 हजार 988 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी


जिले में आज 24768 किसानों से 1 लाख 88 हजार 988 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी जिले के उपार्जन केन्द्रो द्वारा की गई। अधिकारियो द्वारा उपार्जन केन्द्रों का सतत निरीक्षण किया जा रहा है। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे उपार्जन केन्द्रों का सतत निरीक्षण करें और यह देखें की किसानों को फसल बेचने में किसी प्रकार की कोई भ्री असुविधा न हो।


जिले में 1100 व्यक्तियों को लगा कोरोना का टीका


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर प्रदेश के साथ ही सीहोर जिले में कोविड टीकाकरण किया जा रहा है। शुक्रवार को जिले के 12 टीकाकरण केन्द्रों पर 1100 लोगों को कोविड का प्रथम एवं द्वितीय टीका लगाया गया। लोग बड़ी संख्या में टीका लगवाने के लिए टीकाकरण केन्द्रों पर पहुंचे। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार बुदनी क़े 4 सत्रों में 154, इछावर क़े 1 सत्र में 56, नसरूल्लागंज के 2 सत्रों में 520 व्यक्ति, अर्बन सीहोर PHC सहित जिला चिकित्सालय क़े 5 सत्रों में 702 व्यक्तियों को कोविड का टीका लगाया गया।


जिले में 116 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले, वर्तमान में कोरोना एक्टिव-पॉजीटिव की संख्या 593


पिछले 24 घंटे के दौरान 116 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव मिले। इनमें सीहोर शहर के 28 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। संक्रमित व्यक्ति गुलजारी का बगीचा, जोशी मोहल्ला गंज, संब्जी मंडी, पुरानी जेल रोड, देवनगर, स्टेशन रोड़, गंज, वार्ड नंबर, बैंक ऑफ बड़ोदा मार्ग, यादव मोहल्ला, चाणक्यपुरी, गल्ला मंडी, पुलिस लाईन, कोतवाली चौराहा, रविबिला, इंग्लिशपुरा, मंडी के निवासी हैं। इसी तरह आष्टा क्षेत्र से 37 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है जो बड़ा बाजार, बुधवारा, अरनिया, किलेरामा, रसलपुरा, साईकॉलोनी, सिविल अस्पताल परिसर, शास्त्री कॉलोनी, कुरावर, कसाईपुरा, रोला गांव, ढकनी, चंदननगर, शांति नगर के निवासी हैं। इछावर अन्तर्गत 25 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं जो दिवड़िया, वार्ड नंबर 11, 4, 12, 6,2, 1 तथा वीरपुर डेम, हिम्मपतपुरा, झालकी, ब्रिजिशनगर, नरसिंहखेड़ा, रुपेदी के निवासी हैं। बुदनी क्षेत्र अन्तर्गत 23 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं। जो मधुबन, वर्धमान, देवगांव, मरदानपुर, बुदनी के वार्ड नंबर 9,5,2, रेहटी के वार्ड नंबर 7,4,3 एवं बुदनी घाट के निवासी हैं। इसी प्रकार नसरुल्लागंज क्षेत्र से 4 व्यक्ति पॉजीटिव मिले हैं जो ससली, बैंक ऑफ इंडिया नसरुल्लागंज, वार्ड नंबर 2 एवं 14 के निवासी हैं। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान में जिले में एक्टिव पॉजिटिव 593 हैं। आज 118 व्यक्ति रिकवर हुए। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 3361 हैं। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 51 है । आज 703 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 159, श्यामपुर से 104, विकासखंड नसरुल्लागंज से 81, आष्टा से 183 एवं बुदनी विकासखंड से 111 तथा इछावर से 65 सेंपल लिये गए हैं। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 4005 है जिसमें से 51 की मृत्यु हो चुकी है 3361 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है। तथा वर्तमान में एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 593 है। आज 703 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 91409 हैं जिनमें से 85840 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 981 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1493 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या  कुल 71 है। जिले मे जो व्यक्ति होम क्वारन्टाईन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-226470 है। 1075 नंबर पर कॉल कर जानकारी ली जा सकती है। जिला स्तर पर मोबाइल नंबंर 9425400273, 9425400453, 9479595519 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारन्टाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाईन नंबंर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारन्टाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकॉलाजीकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं।


नगर से लेकर गांव तक कोरोना कर्फ्यू का पालन कराने प्रशासनिक अमला मैदान में, कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई, अस्थाई जेल की सजा भी


sehore news
कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जिले के नगर से लेकर गांवों तक कोरोना कर्फ्यू का पालन कराने प्रशासनिक एवं पुलिस का अमला रात-दिन पूरी मुस्तैदी से काम कर रहा है। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने सभी कोरोना ड्यूटी में लगे अधिकारियों को कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध निरंतर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। साथ उन्होंने यह भी निर्देश दिए है कि अत्यावश्यक सेवाओं में लगे लोगों तथा मरीजों को इलाज के लिये आने-जाने में किसी तरह की कठिनाई न हों। ड्यूटी पर तैनात अमला आने जाने वालों पूछताछ कर रहा है ताकि लोग अनावश्यक न निकले। साथ ही जो घर से बाहर निकल रहे हैं तो उनके पास पर्याप्त कारण है या नहीं यह भी देखा जा रहा है। कोई बिना मास्क लगाये मिला तो चालानी कार्रवाही भी की जा रही है। गांवों में कोटवारों को भी ताकीद किया गया है कि मुनादी करते रहें कि लोग घरों में रहें और बिना पर्याप्त वजह के कोई बाहर न निकले। कोटवार भी ग्रामवासियों को मुनादी कर यह बता रहे हैं जो लोग जरूरी काम से घर से बाहर निकले तो मास्क लगाकर ही निकलें और दो गज की दूरी बनाएं रखें। नसरुल्लागंज में अस्थाई जेल बनाई गई है जिसमें बिना मास्क लगाए लोगों को और कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों को कुछ घंटों के लिए अस्थाई जेल में रखा जा रहा है। वालेंटियर भी योगदान दे रहे हैं। वालेंटियर अपने-अपने क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जनजागरुकता अभियान चला रहे हैं इसके साथ ही कोविड टीकाकरण के लिए लोगों को प्रेरित कर रहे हैं और टीकाकरण केन्द्र पहुंचाने में मदद भी कर रहे हैं।


संपूर्ण जिले में आंगनवाड़ी केन्द्रों पर हितग्राहियों का आना प्रतिबंधित    


कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए संपूर्ण जिले में आंगनवाड़ी केंद्रों पर हितग्राहियों का आना प्रतिबंधित किया गया है। किंतु आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका अपने कर्तव्य पर उपस्थित रहेंगे। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता द्वारा जारी आदेश के अनुसार आंगनवाड़ी सेवा से संबद्ध हितग्राहियों 3 वर्ष से 6 वर्ष के बच्चे एवं गर्भवती/धात्री माताओं को पूरक पोषण आहार के लिए निर्बाध रूप से प्रदाय किया जाना सुनिश्चत करने के निर्देश दिए है। इसके साथ ही 3 वर्ष से 6 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को मिलने वाले नाश्ता एवं गर्म पका भोजन के स्थान पर सहायता समूहों के माध्यम से पूर्व आदेशानुसार रेडी टू ईट (सत्तू) पूरक आहार 6 दिवस के लिए एक बार में प्रदाय किया जाएगा। 6 माह से 3 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों एवं गर्भवती/धात्री माताओं को टेक होम राशन प्रदान किया जाए। टेक होम राशन उपलब्ध न होने पर स्थानीय समूह के माध्यम से रेडी टू ईट 6 दिवस के लिए एक बार में प्रदाय किया करने के जर्देश दिये। श्री गुप्ता ने 6 माह से 6 वर्ष तक के बच्चों को 12-15 ग्राम प्रोटीन 500 कैलोरी गंभीर कुपोषित बच्चों को 20-25 ग्राम प्रोटीन गर्भवती एवं धात्री माताओं 18-20 ग्राम प्रोटीन एवं 600 कैलोरी युक्त पोषण आहार प्रदान किया जाना सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए। प्रदायकर्ता समूह के द्वारा रेडी टू ईट पूरक पोषण आहार को तैयार करने में शामिल सभी सदस्यों का नोवल कोरोना वायरस के संबंध में मेडिकल स्क्रीनिंग आवश्यक रूप से कराना सुनिश्चित किया जाएगा। साथ ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना वायरस के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए जारी निर्देशों का पालन आवश्यक रूप से कराया तथा आवश्यक स्वास्थ्य सेवाएं सुनिश्चित की जाएं साथ ही हाई रिस्क गर्भवती महिलाओं, गंभी कुपोषित बच्चों (मेम एवं सेम) के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान रखा जाएगा। रेडी टू ईट पूरक पोषण प्रदाय का रिकार्ड पृथत से संधारित किया जाए एवं आवश्यक होने पर उपलब्ध कराया जाएगा।  


समस्त शासकीय कार्यालय सप्ताह में पांच दिन होंगे संचालित


राज्य शासन द्वारा कोविड-19 महामारी की रोकथाम एवं बचाव के संबंध में निर्देश जारी किए गए हैं कि संपूर्ण प्रदेश में समस्त शासकीय कार्यालय सप्ताह के 5 दिन अर्थात सोमवार से शुक्रवार तक संचालित करने के निर्देश दिए है। शनिवार एवं रविवार को समस्त शासकीय कार्यालय बंद रहेंगे एवं 5 कार्य दिवसों में कार्यालयीन समय प्रात:10 बजे से शाम 6 बजे तक नियत किया गया है। यह आदेश 31 जुलाई 2021 तक प्रभावशील रहेगा। जारी आदेश के अनुसार कार्यालीयन समय पर प्रात:10 बजे से शाम 6 बजे में के मध्य अधिकारी/कर्मचारी कर्तव्य स्थल पर अनिवार्य रूप से उपथित रहें। राज्य स्तरीय कार्यालयों में कोरोना कर्फ्यू (लॉकडाउन) के दौरान तृतीय तथा चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों की उपस्थिति 25 प्रतिशत रोटेशन के अनुसार होगी। यह स्पष्ट किया गया है कि 25 प्रतिशत रोटेशन की व्यवस्था केवल कोरोना कर्फ्यू लॉकडाउन की अवधि के दौरान होगी, शेष दिवसों में नहीं होगी।  


कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज के रैफर करने के संबंध में निर्देश  


कोरोना संक्रमित मरीजों को एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल तथा 1 जिले से दूसरे जिले के अस्पतालों में  रेफर करने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। इन निर्देशों के तहत जिलों में कोविड-19 संक्रमित मरीजों की संख्या में वृद्धि होने से उन्हें उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र/जिला चिकित्सालय से मेडिकल कॉलेज या कोविड-19 उपचार के लिए अनुबंधित प्रायवेट चिकित्सालय में भर्ती किए जाने के लिए मरीज को एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल या अन्य जिले में रैफर करने के पूर्व कुछ दिशा निर्देशों का पालन करना होगा। कोविड-19 संक्रमित मरीजों के रैफर के संबंध में वर्तमान में कोरोना संक्रमण की गंभीर स्थिति को देखते हुए अस्पताल प्रभारी को निर्देश दिए गए है कि वे कोविड-19 संक्रमित मरीजों को हायर सेंटर एवं अनुबंधित कोविड-19 चिकित्सालयों एवं अन्य जिले में रैफर किया जा रहा है उस संबंधित अस्पताल प्रशासन से समन्वय स्थापित कर संक्रमित मरीज के उपचार एवं भर्ती के लिए बेड की उपलब्धता सुनिश्चित करने के उपरांत ही मरीज को रैफर करना सुनिश्चित किया जाए। जिससे मरीज को अस्पताल में भर्ती होने में अनावश्यक प्रतीक्षा एवं आकस्मिक विषम परिस्थिति का सामना न करना पड़े।    


रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने आयुष विभाग द्वारा आयुर्वेद औषधि का वितरण  


कोरोना संक्रमण से बचाव तथा प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देश पर आयुष विभाग द्वारा सीहोर शहरी क्षेत्र में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं तथा आयुष संस्थाओं द्वारा त्रिकटु चूर्ण, संशमनी वटी, होम्योपैथी एवं यूनानी औषधियों का वितरण किया जा रहा है। आयुष विभाग द्वारा जिले भर में कुल 3595 लोगों को त्रिकटु चूर्ण 485, संशमनी वटी के 670, होम्योपैथी के 2267 एवं यूनानी औषधि के 173 पैकेट वितरित किए गए।  आयुष विभाग द्वारा सीहोर विकासखंड अन्तर्गत 946 व्यक्तियों को त्रिकटु चूर्ण के 361, संशमनी वटी के 370, होम्योपैथी औषधि के 215 पैकेट वितरित किए गए। इसी प्रकार आष्टा अन्तर्गत 246 व्यक्तियों को त्रिकटु चूर्ण के 24, संशमनी वटी के 155, होम्योपैथी औषधि के 23 पैकेट एवं यूनानी औषधि के 44 पैकेट वितरित किए गए। बुदनी अन्तर्गत 894 व्यक्तियों को त्रिकटु चूर्ण के 37, होम्योपैथी औषधि के 95 पैकेट एवं हौम्योपैथी औषधि के 762 वितरित किए गए। इछावर अन्तर्गत 1313 व्यक्तियों को त्रिकटु चूर्ण के 51, होम्योपैथी औषधि के 1173 पैकेट एवं यूनानी औषधि के वितरित किए गए। नसरुल्लागंज अन्तर्गत 196 व्यक्तियों को त्रिकटु चूर्ण के 12, संशमनी वटी के 370 होम्योपैथी के 94 पैकेट वितरित किए गए।   जिला आयुष अधिकारी डॉ नरेन्द्र सिंह लोधी ने जानकारी दी कि आयुष विभाग मध्यप्रदेश के आदेशानुसार विगत वर्ष विभाग द्वारा औषधियों का वितरण घर-घर जाकर किया गया था। वर्तमान में भी इन औषधियों का वितरण संस्था स्तर से कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए किया जा रहा है।


शिक्षक स्कूल शिक्षा में अध्ययनरत बच्चों के माध्यम से अभिभावकों को कोरोना टीकाकरण के दायरे में लाएं - संभागायुक्त श्री कियावत

  • टीकाकरण उत्सव 23, 24 एवं 25 अप्रैल को स्कूली केंद्रो पर आयोजित करने के निर्देश 

संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत ने महिला एवं बाल विकास विभाग और शिक्षा विभाग के अधिकारियों से कहा है कि वे बच्चों के माध्यम से अभिभावकों को कोरोना टीकाकरण के दायरे में लाएं। इसके लिए अभिनव प्रयास करते हुए वृहद टीकाकरण उत्सव 23, 24 एवं 25 अप्रैल को स्कूली केंद्रों पर भी आयोजित किया जाए। जहां बच्चों के अभिभावक, पड़ोसी और वयोवृद्ध परिवार के सभी सदस्य इस टीकाकरण महोत्सव में शामिल होकर टीकाकरण को सफल बनाएं। यह निर्देश श्री कियावत ने संभागायुक्त कार्यालय में  संपन्न हुई बैठक में दिए। श्री कियावत ने कहा कि शिक्षक द्वारा ली जा रही ऑनलाइन कक्षा के माध्यम से यह सुनिश्चित करें कि स्कूल शिक्षा में अध्ययनरत प्रत्येक बच्चों के   अभिभावकों ने टीकाकरण करवाया है, यदि नहीं तो उन्हें इसके लिए बाल हठ से प्रेरित करें और टीकाकरण उत्सव में शामिल कराएं, जिससे शत प्रतिशत टीकाकरण किया जाकर कोरोना से लड़ने और उसके बचाव में कारगर साबित हो। उन्होंने कहा कि इस अभियान को सफल बनाने के लिए शिक्षक वर्ग आदर्श उदाहरण बने। ऐसे वातावरण का निर्माण करें जिससे बच्चे अपने अभिभावकों को कोरोना टीकाकरण के लिए प्रेरित कर सकें।  श्री कियावत ने महिला बाल विकास, जिला शिक्षा अधिकारी और प्राचार्य को निर्देशित किया कि इस कार्य के लिए शिक्षकों, आशा-आगनवाड़ी सहायिका और कार्यकर्ताओं का समूह तैयार करें और टीकाकरण कार्य को सुनिश्चित कराएं। उन्होंने कहा कि इसके लिए अनुविभाग अधिकारी एसडीएम से समन्वय कर टीकाकरण केंद्रों पर प्रभावी व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करें। इस मौके पर महिला एवं बाल विकास अधिकारी संयुक्त संचालक श्रीमती नकी जहां कुरेशी, शिक्षा विभाग के संयुक्त संचालक श्री तोमर, जिला शिक्षा अधिकारी श्री नितिन सक्सेना, प्राचार्य उत्कृष्ट विद्यालय समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 


खेल वृति वर्ष 2021 हेतु आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 31 मई 


म.प्र. शासन खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा खिलाडियों को दी जाने वाली खेल वृति अधिकृत राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में स्वर्ण/रजत/कांस्य पदक प्राप्त किया हो, वरीयता राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में पदक अर्जित करने वाले खिलाडियों को दी जावेगी। खेलवृति का उद्देश्य राज्य स्तरीय पदक विजेता खिलाडियों को पुरस्कृत कर  जिले के खिलाडियों को प्रोत्साहित करना है। खेल वृति वाले वर्ष में 01 अप्रैल 2020 को खिलाड़ी की आयु 19 वर्ष से अधिक नहीं होना चाहिए, खिलाड़ियों को म.प्र. का मूल निवासी होना अनिवार्य है। आवेदक की विगत वर्ष के 01 अप्रैल 2020 से वर्तमान वर्ष के 31 मार्च 2021 तक अर्थात 01 वित्तीय वर्ष के खेल उपलब्धियों की गणना की जावेगी। मूल निवासी प्रमाणपत्र, आधार कार्ड, बैंक पासबुक, जन्म प्रमाण/बोर्ड की अंकसूची, विलांगता प्रमाणपत्र तथा संबंधित खेल के प्रमाण पत्र, समस्त प्रमाण पत्रों की  अभिप्रमाणित छायाप्रति सहित कार्यालय जिला खेल और युवा कल्याण विभाग भिण्ड में जमा करना अनिवार्य है।  खेल वृति हेतु आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 31 मई 2021 नियत है।


रेमडेसिविर इंजेक्शन वितरण के लिए जिलों में कलेक्टर अधिकृत, राज्य शासन ने सभी जिलों को निर्देश जारी किए 


राज्य शासन ने रेमडेसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता के आधार पर सभी जिला कलेक्टर को इसके वितरण के लिए अधिकृत किया है जिससे सभी जरूरतमंद लोगो तक समय पर यह इंजेक्शन पहुंच सके और सही दाम पर मरीजों के परिवार को मांग के आधार पर अस्पतालों को उपलब्ध कराया जा सके। आयुक्त स्वास्थ्य श्री आकाश त्रिपाठी ने आदेश जारी कर आज उपलब्ध हुई रेमडेसिविर् इंजेक्शन को इसी आधार पर वितरण करने के लिए कहा है। समस्त कलेक्टर, संभागीय संयुक्त संचालक, स्वास्थ्य मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, मध्यप्रदेश को रेमडेसीवर इंजेक्शन की जो आपूर्ति चिकित्सा शिक्षा विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से की जा रही है। इसमें से आपूर्ति का 50 प्रतिशत चिकित्सा शिक्षा विभाग एवं 50 प्रतिशत संभागीय संयुक्त संचालक के माध्यम से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिया जाएगा है। जो 50 प्रतिशत आपूर्ति स्वास्थ्य विभाग को प्राप्त हो रही है उसका आधा जिला अस्पताल एवं शासकीय चिकित्सालय तथा शेष आपूर्ति इंदौर, भोपाल, देवास एवं उज्जैन को छोड़कर प्रायवेट अस्पताल को कलेक्टर के माध्यम से वितरित किया जाना है। प्रायवेट अस्पताल को रेमडेसीवर इंजेक्शन की आपूर्ति देने का आधार उनके पास आईसीयू, एच.डी.यू . बेड की आक्यूपेंसी का शत - प्रतिशत एवं आक्सीजन बेड की आक्यूपेंसी का 15 प्रतिशत रहेगी।  रेमडेसीवर इंजेक्शन की आपूर्ति का आवंटन कलेक्टर द्वारा आवश्यकतानुसार किया जायेगा तथा रेमडेसीवर इजेक्शन की आपूर्ति से प्राप्त  प्रति इंजेक्शन 1568 रूपये  रेड क्रास के माध्यम से जमा की जायेगी। इंदौर, उज्जैन, देवास, भोपाल के लिये स्वास्थ्य विभाग को प्राप्त रेमडेसीवर इंजेक्शन की आपूर्ति का आधा शासकीय अस्पताल एवं शेष आधा अनुबंधित एवं गैर अनुबंधित प्रायवेट अस्पतालों को दी जायेगी। गैर अनुबंधित अस्पताल से राशि प्राप्त कर रेडक्रास में जमा की जायेगी। अनुबंधित प्रायवेट अस्पताल से इंजेक्शन की राशि नहीं ली जायेगी। अनुबंधित एवं गैर अनुबंधित अस्पतालों को इंजेक्शन देने का आधार आईसीयू, एचडीयू वेड आक्यूपेंसी का शत-प्रतिशत एवं ऑक्सीजन बेड आक्यूपेंसी का 15 प्रतिशत रहेगा। आज से इसके पश्चात रेमडेसीवर इंजेक्शन की आपूर्ति व वितरण उपरोक्त अनुसार सुनिश्चित किया जाए।


अब नवीन प्रारूप में मिलेगा खसरा 


नवीन राजस्व वर्ष 2021-22 प्रारंभ हो चुका है। मध्यप्रदेश भू-राजस्व संहिता एवं भू-सर्वेक्षण एवं भू-अभिलेख नियम 06 जुलाई 2020 के अंतर्गत किये गये प्रावधानों के अनुसार इस राजस्व वर्ष से खसरे का नवीन प्रारूप वर्तमान आवश्यकताओं को देखते हुये परिवर्तन किया गया है। इस संबंध में सभी एसडीएम को अपने अधीनस्थ राजस्व अमले व जनसामान्य को प्रचार-प्रसार के माध्यम से जानकारी प्रदान करने को कहा गया है।


प्रदेश में प्रारंभ हुए 94 कोविड केयर सेंटर, सभी जिलों में रेमडेसिविर इंजेक्शन की युद्ध स्तर पर आपूर्ति अधिक संकट वाले जिलों में स्टेट प्लेन से भेजी गई वेक्सीन, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश के मैदानी अधिकारियों से किया संवाद 


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की आपूर्ति और ऑक्सीजन व्यवस्था के लिए युद्ध स्तर पर कार्य जारी है। प्रदेश के जिलों में 94 कोविड केयर सेंटर का संचालन आरंभ हो गया है। प्रत्येक जिले को 2 करोड़ रूपये व्यवस्था के लिए उपलब्ध कराये गये हैं। इसके साथ ही मुख्यमंत्री राहत कोष से प्रत्येक जिले को एक-एक करोड़ रूपये अलग से जारी किये गये हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज निवास से सभी कलेक्टर्स, कमिश्नर्स, एसपी और आईजी से वर्चुअल चर्चा कर कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए हो रहे प्रयासों की जानकारी ली तथा आवश्यक निर्देश दिए।


इंदौर पहुँचे 9 हजार 264 रेमडेसिविर इंजेक्शन, हेलीकाप्टर और स्टेट प्लेन से जिलों को रवाना

वीडियो कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि इंदौर एयरपोर्ट पहुँचे 200 बॉक्स में कुल 9 हजार 264 रेमडेसिविर इंजेक्शन आए हैं। इनमें से स्टेट प्लेन के माध्यम से 42 बॉक्स भोपाल, 7 रतलाम और 4 खंडवा पहुँचाये गए। इसी तरह स्टेट प्लेन से 19 बॉक्स ग्वालियर, 18 रीवा, 39 जबलपुर और 14 सागर पहुँचाये जा रहे हैं। इंदौर के लिए 57 रेमडेसिविर इंजेक्शन के बॉक्स रखे गए हैं ।


कलेक्टर्स, कोरोना संक्रमण का पूरी ऊर्जा के साथ मुकाबला करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि सभी कलेक्टर्स कोरोना संक्रमण का पूरी ऊर्जा के साथ मुकाबला करें। नागरिकों के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जाएँ। सावधानियों का पूरी तरह पालन हो। ऑक्सीजन, औषधियों और बिस्तरों की व्यवस्था सहित सभी आवश्यक कार्यों को यथा समय पूर्ण किया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा प्रदेश के कलेक्टर्स से चर्चा कर कोरोना संक्रमण की रोकथाम और प्रबंधन के लिए किए जा रहे कार्यों की विस्तार से जानकारी भी प्राप्त की।


कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन हो

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन हो। जहाँ कोरोना कर्फ्यू नहीं लगा है वहाँ आवश्यक हो तो करोना कर्फ्यू लगाया जाए। जिलों में प्रभारी बनाए गए मंत्रियों से भी कलेक्टर्स परामर्श करें, मुख्यमंत्री कार्यालय और स्वास्थ्य विभाग से भी सतत् संपर्क में रहें।


कुछ जिलों में हुए नवाचार

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कुछ जिलों में नवाचार भी हुए हैं, जैसे भोपाल में ऑक्सीजन के लिए टैंकर की व्यवस्था की गई। बड़वानी में जाँच की दरें नियंत्रित कर जनता को राहत दी गई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि भोपाल में एम्स और रेडक्रॉस हॉस्पिटल में भी बिस्तर क्षमता बढ़ाई जा रही है। जबलपुर के सुख सागर अस्पताल और अन्य नगरों में निजी अस्पतालों का सहयोग भी ले रहे हैं।


जनता के साथ से ही नियंत्रित होगा संक्रमण

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कल उनकी कोरोना वॉलेंटियर्स से भी चर्चा हुई। उनमें अच्छा जज्बा है। स्वैच्छिक संगठन कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने में सहयोग करें। रहवासी संघ और कॉलोनियों की समितियाँ लोगों को अनावश्यक घर से बाहर न निकलने का संदेश दें। जनता का साथ होगा तो यह संक्रमण नियंत्रित हो जाएगा।


चुनौतीपूर्ण समय है - स्वयं स्वस्थ रहें और उत्कृष्ट प्रदर्शन करें प्रशासनिक अधिकारी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कलेक्टर आम जनता को जागरूक करें और उनमें विश्वास स्थापित करें। अपनी टीम सहित स्वयं भी स्वस्थ रहें। प्रशासनिक अधिकारी अपनी प्रतिभा का पूरा उपयोग करें। पूरे सेवाकाल में ऐसी चुनौतियाँ कम ही आया करती हैं। इस आपदा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करें। सभी मिलकर टीम के रूप में कार्य करें।


घर में करें इबादत और प्रार्थना

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह आपातकाल है। अति आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकलें। नागरिक गण आराधना, पूजा आदि घर में ही करें। पर्व त्यौहार घर में मनाएँ। सभी के मिले- जुले प्रयासों से कोरोना पराजित होगा और हम अवश्य जीतेंगे।


नवनियुक्त बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष सहित सदस्यों ने किया पदभार ग्रहण

  • बालकों के प्रति हिंसा को रोकने जन जागरूकता और बाल अधिकार संरक्षण अधिनियमों का पालन पहली प्राथमिकता- अध्यक्ष श्री चौहान

sehore news
महिला एवं बाल विकास विभाग मध्यप्रदेश शासन द्वारा सीहोर जिले की बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष पद पर श्री प्रदीप चौहान एवं समिति में चार अन्य सदस्यों की नियुक्ति की गयी है। श्री प्रदीप चौहान एवं चारों सदस्यों ने पुराना कलेक्ट्रेट स्थित बाल कल्याण समिति के आफिस पहुंचकर अपना पदभार ग्रहण कर लिया है। समिति के जिन चार सदस्यों को नियुक्त किया गया है उनमें श्रीमती पूजा खनूजा, डॉ.विजेन्द्र सिंह राठौर, श्रीमती मनिता सक्सेना, श्री मुकेश राठौर शामिल हैं। पदभार ग्रहण करने के पश्चात महिला एवं बाल विकास  विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री प्रफुल्ल खत्री ने सभी को जेजे एक्ट के नियमानुसार कार्य करने की शपथ दिलाई। नवनियुक्त बाल कल्याण समिति की प्रथम बैठक आयोजित की गई। बैठक में अध्यक्ष श्री चौहान ने कहा कि जिले में बालकों के प्रति होने वाली हिंसा को रोकने के लिये बाल अधिकार संरक्षण अधिनियम का पालन सुनिश्चित करना समिति की पहली प्राथमिकता है। इसके साथ ही बालकों के प्रति आपराधों को रोकने के लिये लोगों को जागरूक किया जायेगा। बैठक में बालकों के अधिकारों के व्यापक प्रचार प्रसार सहित अनेक विषयों पर चर्चा की गयी।


ऑक्सीजन टैंकर्स के लिये भी बनेगा ग्रीन कॉरीडोर, पायलेटिंग भी होगी, रेमडेसिविर की कालाबाजारी न हो, इसके लिये औषधि निरीक्षक करेंगे औचक निरीक्षण


चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने बताया कि कोरोना संक्रमण रोकने के लिये राज्य सरकार हर स्तर से प्रयासरत है। मरीजों के इलाज के लिये जहाँ एक ओर लगातार बिस्तरों में वृद्धि की जा रही है, वहीं दूसरी ओर ऑक्सीजन सप्लाई निर्बाध बनी रहे, इसके भी प्रयास किये जा रहे हैं। श्री सारंग ने बताया कि अभी तक प्रदेश में लगभग 38 हजार बिस्तर हैं, जिसकी संख्या में वृद्धि कर एक लाख तक ले जाया जा रहा है। रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिये निर्माताओं से भी सीधी बात की जा रही है। प्रदेश में 13 हजार 480 यूनिट प्राप्त हुए हैं। नागपुर से इंदौर आई इन यूनिटों में से 10 हजार यूनिट को 6 हेलीकॉप्टर की मदद से राज्य के शासकीय मेडिकल महाविद्यालय और जिला अस्पतालों को पहुँचाया जा रहा है, शेष 3,480 यूनिट प्रायवेट चिकित्सालयों को उपलब्ध कराये जा रहे हैं। श्री सारंग ने बताया कि अब रेमडेसिविर इंजेक्शन का वितरण स्टॉकिस्ट के माध्यम से प्रायवेट सेक्टर में अस्पतालों/नर्सिंग होम को सीधा होगा। जिला प्रशासन एवं संबंधित जिले का औषधि निरीक्षक यह अवश्य सुनिश्चित करेगा कि रेमडेसिविर इंजेक्शन का वितरण जिले स्थित सभी प्रायवेट सेक्टर में अस्पतालों/नर्सिंग होम को हो रहा है या नहीं। साथ ही यह सुनिश्चित किया जायेगा कि इंजेक्शन की कालाबाजारी नहीं हो। इसके लिये औषधि निरीक्षकों को औचक निरीक्षण करने के निर्देश दिये गये हैं। श्री सारंग ने बताया कि ऑक्सीजन के परिवहन को त्वरित एवं प्रभावी बनाने के लिये राज्य शासन द्वारा अनुमति प्राप्त ऑक्सीजन वाहन को एम्बुलेंस के समकक्ष माना गया है। ऑर्गन ट्रांसप्लांट के समय जिस प्रकार ग्रीन कॉरीडोर निर्मित किया जाता है, उसी तर्ज पर ऑक्सीजन के टैंकरों के लिये भी ग्रीन कॉरीडोर बनाया जायेगा। साथ ही पुलिस की गाड़ी पायलेटिंग करते हुए इन ऑक्सीजन टैंकर्स को गंतव्य तक पहुँचाएगी। प्रदेश में ऑक्सीजन के परिवहन के लिये दो अतिरिक्त टैंकरों सहित कुल 9 टैंकरों के माध्यम से ऑक्सीजन सप्लाई की जा रही है।


जिले में कोरोना कर्फ्यू का पालन सुनिश्चित कराने की जा रही कार्यवाही का कलेक्टर ने लिया जायजा

  • कोविड सेंटर तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का कलेक्टर ने किया निरीक्षण

बुदनी एवं नसरुल्लागंज नगर का भ्रमण कर देखी कोरोना कर्फ्यू की स्थिति, कोरोना संक्रमित लोगों के त्वरित इलाज के दिए निर्देश

sehore news
जिले में चल रहे कोरोना कर्फ्यू का राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों द्वारा पालन सुनिश्चित कराया जा रहा है। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने बुदनी, रेहटी, नसरुल्लागंज सहित अनेक स्थानों का भ्रमण कर जिले में कराया जा रहे कोरोना कर्फ्यू का जायजा लिया। उन्होंने कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध की गई कार्यवाहियों के बारे में संबंधित अधिकारियों से विस्तृत जानकारी ली। भ्रमण के दौरान पुलिस अधीक्षक श्री एसएस चौहान, सीईओ जिला पंचायत श्री हर्ष सिंह सहित अनेक संबंधित अधिकारी भी उपस्थित थे। कलेक्टर श्री गुप्ता ने बुदनी में बनाये जा रहे कोविड केयर सेंटर का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने संबंधित अधिकारियों को इन कोविड केयर सेंटरर्स में बेहतर इंतजाम करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को कोई परेशान न हो। उन्होंने कहा कि आवास के साथ भोजन आदि की समुचित व्यवस्था हो। मेडिकल स्टाफ के लिए आफिस और रेस्टिंग की व्यवस्था के भी निर्देश दिए। उन्होंने निर्देश दिए कि 24 घंटे मेडिकल स्टाफ उपस्थित रहेगा। स्टॉफ के लिए ऑफिस, दवाखाना तथा विश्राम के लिऐ पृथक कमरे की व्यवस्था हो।


बुदनी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का निरीक्षण

कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने बुदनी के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कोविड टीकाकरण की जानकारी लेते हुए कहा कि लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित किया जाए। लोग कोविड का टीका लगवाने आए तो उन्हें किसी तरह की कोई परेशानी न हो इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने कोविड की जांच तथा उपचार के लिए आने वाले लोगों के बारे में विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने चिकित्सकों को निर्देश दिए कि अस्पताल आने वाले मरीजों को त्वरित इलाज किया जाए।


कोरोना कर्फ्यू का जायजा

कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने बुदनी नगर का भ्रमण किया। भ्रमण के दौरान राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों द्वारा कोरोना कर्फ्यू का पालन सुनिश्चित कराने के लिए की जा रही कार्यवाही का जायजा लिया तथा अभी की गई कार्यवाहियों के बारे में विस्तृत जानकारी ली। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि नगर में निरंतर अनाउंमेंट किया जाए कि बिना बजह लोग घर से बाहर न निकलें। जिन्हें जरुरी काम से बाहर निकलना हो वे मास्क लगाकर निकलें। उन्होंने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लोगों को जागरुक करने के लिए कहा। श्री गुप्ता ने नसरुल्लागंज में कोरोना कर्फ्यू का पालन सुनिश्चित करने के लिए की जा रही कार्यवाही देखी तथा मौके पर उपस्थित अधिकारियों से चर्चा की। उन्होंने सभी अधिकारियों से कहा कि बिना बजह लोग घरों से बाहर न निकलें तथा कोरोना कर्फ्यू के तहत दी गई छूट/प्रतिबंध का पालन सुनिश्चित किया जाए।



कोई टिप्पणी नहीं: